scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

10 साल की बच्ची ने अपने बर्थडे पर खाया केक और चली गई जान, मातम में बदला जश्न का माहौल

Punjab: बच्ची समेत पूरे परिवार के लोगों की तबीयत केक खाने के बाद खराब हो गई थी।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | Updated: March 30, 2024 23:04 IST
10 साल की बच्ची ने अपने बर्थडे पर खाया केक और चली गई जान  मातम में बदला जश्न का माहौल
बर्थडे केक खाने के बाद ही पूरे परिवार की तबीयत खराब हो गई। (सोर्स - Social Media/Twitter)
Advertisement

घर में जश्न का माहौल था। बेटी के बर्थडे पर सभी लोग खुश थे। खुशी-खुशी बर्थडे का केक कटा गया और सभी ने केक खाया, गुब्बारे फूटे और बजीं तालियां… लेकिन जिस बच्ची ने अपने जन्मदिन का केक काटा था, उसकी तबीयत खराब हो गई और ऐसी खराब हुई कि 1 दिन बाद ही उसकी जान चली गई। यह घटना पंजाब के पटियाला की है, जिसने सभी को हिलाकर रख दिया है।

दरअसल, पटियाला में मानवी नाम की एक 10 वर्षीय बच्ची के जन्मदिन पर ऑनलाइन केक मंगाया गया। केक खाने के एक दिन बाद उसकी मौत हो गई। इस मामले में पुलिस ने शनिवार को कहा कि लड़की के परिवार के सदस्यों की शिकायत पर आईपीसी की धारा 273 और 304-ए के तहत मामला दर्ज किया गया है।

Advertisement

बच्ची की मौत से गमगीन परिजनों का आरोप है कि जन्मदिन का केक खाने के बाद लड़की की मौत हो गई है। केक खा कर परिवार के अन्य सदस्य भी बीमार पड़ गए थे, जिसके चलते सभी केक बनाने वाले बेकरी शॉप के ओनर पर भड़के हुए हैं। बच्ची के निधन की असल वजह जानने के लिए पुलिस विसरा रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

बेकरी मालिक पर दर्ज हुआ केस

बता दें कि बेकरी के मालिक के खिलाफ ‘लापरवाही से मौत का कारण बनने और विषाक्त भोजन सप्लाई करने’ के आरोप में मामला दर्ज किया गया है। बच्ची के जन्मदिन समारोह के लिए 24 मार्च को केक ऑनलाइन ऑर्डर किया गया था। परिवार के सदस्यों की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें प्रारंभिक उपचार मिला, लेकिन 10 वर्षीय लड़की को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

Advertisement

बच्ची का नाम मानवी बताया जा रहा है। पोती के निधन पर मानवी के दादा ने बताया कि 24 मार्च को शाम करीब छह बजे ऑनलाइन केक ऑर्डर किया था। उन्होंने कहा कि रात करीब 11 बजे पूरा परिवार बीमार पड़ गया। उस वक्त घर पर पांच लोग थे. सबसे छोटी बेटी की जान बच गई क्योंकि उसने केक उल्टी कर दी थी, लेकिन हमने दूसरी लड़की को खो दिया।

Advertisement

क्या फर्जी दुकान से आया केक?

उन्होंने बताया कि केक लड़की की मां काजल ने ऑर्डर किया था। बिल की कॉपी में पटियाला में पंजीकृत ‘केक कान्हा’ के जिस पते का उल्लेख है वहां इस नाम की कोई दुकान नहीं है।

वहीं इस मामले में पुलिस को शक है कि बेकरी क्लाउड किचन है। इसके अतिरिक्त, ज़ोमैटो के एक अन्य रसीद चालान में बिलिंग अमृतसर से की गई है, न कि पटियाला से, जो कि नए सवाल खड़े कर रही है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो