scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Lok Sabha Elections: 'एक चीज की गारंटी मैं लोगों को दे सकता हूं वह है सुनवाई', हरियाणा के मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी

Haryana CM Nayab Singh Saini: हरियाणा के मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी ने कहा कि मोदी सरकार भ्रष्टाचारियों के प्रति जीरो टॉलरेंस रखती है। इसकी बदौलत सभी योजनाओं का लाभ गरीबों के बैंक खाते में पहुंच रहा है। पढ़ें- मनराज ग्रेवाल शर्मा और सुखवीर सिवाज की रिपोर्ट-
Written by: न्यूज डेस्क
चंडीगढ़ | Updated: April 05, 2024 07:52 IST
lok sabha elections   एक चीज की गारंटी मैं लोगों को दे सकता हूं वह है सुनवाई   हरियाणा के मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी
Haryana CM Nayab Singh Saini: हरियाणा के मुख्यमंत्री नयाब सिंह सैनी ने कई मुद्दों पर खुलकर राय रखी। (एक्सप्रेस फोटो)
Advertisement

Haryana CM Nayab Singh Saini: लोकसभा चुनाव के लिए कुछ ही सप्ताह ही बचे हैं। हॉट सीट पर बैठे हरियाणा के नवनियुक्त मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी का कहना है कि उनकी योजना अपने पूर्ववर्ती मनोहर लाल खट्टर की विरासत को आगे बढ़ाने और खुले दरवाजे की नीति रखने की है। द इंडियन एक्सप्रेस से खास बातचीत में सैनी ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाएगा कि मेरे राज्य में कोई ऐसा न रहे जिसकी बात न सुनी जाए। आइए जानते हैं बातचीत के प्रमुख अंश-

आपको चुनाव से पहले सीएम की जिम्मेदारी दी गई है। आप इसे कैसे देखते हैं?

पार्टी ने मुझे जो भी जिम्मेदारी दी है। उसे मैंने हमेशा अपनी पूरी क्षमता से निभाया है। मैं सबको साथ लेकर चलने में विश्वास रखता हूं। मैंने कभी लोगों को दूर नहीं किया, भले ही वे आधी रात को मेरे दरवाजे पर आए हों। इसलिए वे सोचते हैं कि सैनी मेरा आदमी है।

Advertisement

अब जब आप राज्य के सीएम हैं तो क्या चीजें बदल जाएंगी?

मैं अपने दरवाजे खुले रखना चाहता हूं। एक चीज जिसकी मैं लोगों को गारंटी दे सकता हूं वह है सुनवाई। सुनवाई जरूर होनी चाहिए। मैंने अपने सुरक्षाकर्मियों से कहा है कि वे किसी को भी मुझसे मिलने से न रोकें। उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में लोगों का मुझसे सीधा संपर्क हुआ है। जब मुझे पार्टी का राज्य अध्यक्ष बनाया गया था तो मुझे अपने निवास से कुरुक्षेत्र में पार्टी कार्यालय तक पहुंचने के लिए केवल 350 मीटर की दूरी तय करने में साढ़े पांच घंटे लग गए, क्योंकि इतने सारे लोग मेरा स्वागत करने के लिए आए थे।

ऐसा क्या है जो आप मुख्यमंत्री के रूप में प्राथमिकता से करना चाहेंगे?

मनोहर लाल जी ने एक अद्वितीय विरासत छोड़ी है। किसी भी सीएम ने वह सब हासिल नहीं किया है जो उनके पास है और कोई भी उनकी बराबरी नहीं कर पाएगा। उन्होंने ऐसी योजनाएं शुरू की हैं कि उनका लाभ राज्य को लंबे समय तक मिलता रहेगा। मैंने उनके साथ बहुत करीब से काम किया है। उनके पास राज्य के लिए बहुत स्पष्ट दृष्टिकोण है। हमें बस उनकी विरासत को आगे बढ़ाना है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी और विपक्ष के लोकतंत्र खतरे में होने के आरोप को आप कैसे देखते हैं?

सब कुछ कानून के मुताबिक हो रहा है। ईडी कांग्रेस शासन के दौरान भी ऐसे कार्य करती थी, लेकिन यह केवल कम शक्तिशाली लोगों को चुनता था और निशाना बनाता था। लोग यह सोचने लगे थे कि भ्रष्टाचार विरोधी कानून केवल गरीबों के लिए हैं। मोदी शासन के पिछले 10 वर्षों में लोगों को यह एहसास हो गया है कि कानून सबके लिए एक समान है। अगर मोदी सरकार वास्तव में ईडी को अपने नौकर के रूप में इस्तेमाल करती तो एक भी कांग्रेस नेता अछूता नहीं रहता। मोदी सरकार भ्रष्टाचारियों के प्रति जीरो टॉलरेंस रखती है। इसकी बदौलत सभी योजनाओं का लाभ गरीबों के बैंक खाते में पहुंच रहा है।

Advertisement

ऐसा लग रहा है कि कुलदीप बिश्नोई और भजनलाल परिवार को नजरअंदाज किया गया है।

नहीं, हमने उनके बेटे भव्य बिश्नोई को विधायक बनाया है। वह परेशान नहीं है। मनोहर लाल जी के जल्द ही उनसे मिलने आने की उम्मीद है। मैं उनसे हर बात करता हूं।

पूर्व गृह मंत्री अनिल विज के बारे में क्या ख्याल है?

जब मैं अंबाला में जिला अध्यक्ष था, तो कोई भी काम होने पर मैं उनसे सलाह लेता था। और वो मुझे गाइड करते थे। यहां तक कि जब मुझे हरियाणा भाजपा प्रमुख बनाया गया तो मैंने उनसे मुलाकात की। शपथ ग्रहण के बाद मैं उनसे मिला। मैंने हमेशा कहा है कि हम बड़ों का आशीर्वाद लेंगे, साथियों को साथ रखेंगे और आगे बढ़ने के लिए युवाओं का सहयोग लेंगे।

पंजाब में कई कांग्रेस कार्यकर्ता बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। क्या आप हरियाणा में भी इसी तरह के आंदोलन की उम्मीद कर रहे हैं?

लुधियाना सांसद रवनीत बिट्टू पिछले महीने कांग्रेस से भाजपा में आए, एक दोस्त हैं, क्योंकि हम संसद में एक-दूसरे के करीब बैठते थे। मान साहब (सीएम भगवंत मान, जो 2022 तक संगरूर के सांसद थे) की सीट भी एक संकीर्ण गैलरी के पार थी। दरअसल, मेरे शपथ लेने के बाद मान ने मुझे बधाई देने के लिए फोन किया था। मैंने मजाक में कहा था कि काम के लिए नहीं, बल्कि अनौपचारिक तौर पर मुझे आपके साथ चाय जरूर पीनी चाहिए।

क्या सत्ता विरोधी लहर के डर ने केंद्र को हरियाणा में मंत्रालय बदलने के लिए प्रेरित किया?

नहीं, ये सच नहीं है। कोई सत्ता विरोधी लहर नहीं है और हम सभी 10 सीटें बड़े अंतर से जीतेंगे।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो