scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

मैं जिला निर्वाचन अधिकारी हूं, कार्रवाई करूंगी… मुख्तार को मिट्टी देने को लेकर DM और अफजाल अंसारी के बीच तीखी बहस

मुख्तार अंसारी को वहां मौजूद लोग मिट्टी देना चाहते थे और इस पर डीएम ने आपत्ति जाहिर की।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: March 30, 2024 16:43 IST
मैं जिला निर्वाचन अधिकारी हूं  कार्रवाई करूंगी… मुख्तार को मिट्टी देने को लेकर dm और अफजाल अंसारी के बीच तीखी बहस
अफजाल अंसारी और गाजीपुर डीएम के बीच तीखी बहस (फोटो सोर्स: सोशल मीडिया)
Advertisement

माफिया से नेता बने मुख्तार अंसारी को सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया। मुख्तार अंसारी के जनाजे में भारी भीड़ उमड़ी। हजारों लोग उसके जनाजे में शामिल हुए। इस बीच मुख्तार अंसारी को मिट्टी देने को लेकर गाजीपुर के डीएम आर्यका अखौरी और मुख्तार अंसारी के बड़े भाई और गाजीपुर से सांसद अफजाल अंसारी के बीच तीखी बहस हुई।

दरअसल मुख्तार अंसारी को वहां मौजूद लोग मिट्टी देना चाहते थे और इस पर डीएम ने आपत्ति जाहिर की। डीएम ने कहा कि पूरा कस्बा मिट्टी देने नहीं जा सकता है, केवल परिवार के लोग ही वहां जा सकते हैं और इसकी परमिशन है। इस पर अफजाल अंसारी भड़क गए। अफजाल अंसारी ने कहा कि यह आपकी कृपा पर नहीं है कि कौन मिट्टी देगा? यह आप नहीं तय करेंगे। इस पर डीएम ने कहा कि मैं जिला निर्वाचन अधिकारी हूं और आपने परमिशन नहीं ली है।

Advertisement

अफजाल अंसारी ने कहा कि दुनिया में मिट्टी देने के लिए या अपने धार्मिक प्रयोजन करने के लिए किसी परमिशन की जरूरत नहीं होती है। दुनिया में कहीं इसके लिए परमिशन नहीं ली जाती है।

आर्यका अखौरी ने कहा, "अगर बिना परमिशन के कुछ होता है तो हम विधिक कार्यवाही करेंगे। गाजीपुर में धारा 144 लागू की गई है।" अफजाल ने कहा कि धारा 144 के दौरान भी मिट्टी देने के लिए परमिशन की जरूरत नहीं होती है।

Advertisement

पूरे घटनाक्रम के बाद गाजीपुर की डीएम ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जनाजा था तो इसलिए अधिक लोग आते ही लेकिन जिन लोगों ने नारेबाजी की है, उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने कहा कि आचार संहिता लगी हुई है ऐसे में नारेबाजी कर उसका उल्लंघन किया गया है। जिन लोगों ने भी नारेबाजी की है, उनकी पहचान की जाएगी और उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी क्योंकि वीडियोग्राफी भी कराई गई है।

Advertisement

गुरुवार को मुख्तार अंसारी की बांदा जेल में हार्ट अटैक से मृत्यु हो गई थी। उसके बाद परिवार ने आरोप लगाया कि मुख्तार को धीमा जहर दिया गया था, जिसके कारण उसकी तबीयत खराब हुई और मौत हुई है। हालांकि प्रशासन इससे इनकार कर चुका है लेकिन परिवार ने इस मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो