scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

जब मुख्तार अंसारी ने 63 रन की पारी खेल गाजीपुर को दिलाई जीत, दोस्त ने सुनाया किस्सा

मुख्तार अंसारी के परिजनों ने आरोप लगाया कि उसे जेल में जहर दिया गया, जिससे उसकी मौत हुई।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: April 06, 2024 16:00 IST
जब मुख्तार अंसारी ने 63 रन की पारी खेल गाजीपुर को दिलाई जीत  दोस्त ने सुनाया किस्सा
मुख्तार अंसारी की मौत 28 मार्च को हुई थी। (PC: FB/Mukhtar Ansari)
Advertisement

गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी की मौत 28 मार्च को हुई थी। मुख्तार अंसारी के परिजनों ने आरोप लगाया कि उसे जेल में जहर दिया गया तो वहीं पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार उसकी मौत हार्ट अटैक से हुई है। लेकिन मुख्तार के घर पर लोगों का आना जारी है और लोग उनके परिवार को ढांढस बंधा रहे हैं।

Advertisement

दोस्त ने सुनाया दिलचस्प किस्सा

इस बीच मुख्तार अंसारी के एक दोस्त ने दिलचस्प किस्सा सुनाया है। द इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए मुख्तार के 60 वर्षीय दोस्त ओबैद-उर-रहमान ने कहा कि मुख्तार अंसारी शानदार क्रिकेटर थे। रहमान गाजीपुर पीजी कॉलेज की क्रिकेट टीम में थे और इसी टीम से मुख्तार अंसारी भी खेलता था।

Advertisement

ओबैद-उर-रहमान ने कहा, "मैं केवल क्रिकेटर मुख्तार को जनता हूं। वह खेल में बहुत अच्छा था। वह सभी आउटडोर खेल खेलते थे लेकिन क्रिकेट में विशेष रूप से अच्छे थे। वह एक महान बल्लेबाज थे। मुख्तार एक हरफनमौला और मैच विजेता खिलाड़ी थे। वह किसी भी समय खेल को पलटने की क्षमता रखता था। मुझे गोरखपुर का एक मैच याद है जहां उन्होंने पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करने के बाद 63 रन बनाये थे और हमारी टीम ने कुल 140 रन बनाये थे।"

मुख्तार अंसारी की मौत के बाद कई कहानियां सामने आ रही है। यूपी के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी (जिन्होंने कई मामलों में मुख्तार की जांच की है) का कहना है कि मुख्तार ने जो भी सद्भावना अर्जित की वह वास्तविक थी। अधिकारी ने कहा, “हां, उसने गरीबों की मदद की। मगर पैसे कहां से आयें? उसने पैसे वसूले, अधिकारियों को धमकाया और लोगों की हत्या की। उसने अवैध तरीकों से कमाया और वह गरीबों पर खर्च भी किया। ग़ाज़ीपुर, मऊ और कुछ अन्य जिलों में उसने अपने लिए एक साम्राज्य बनाया। सभी बाहुबली यही करते हैं।”

Advertisement

मुख्तार पर कुल 65 मामले थे दर्ज

मुख्तार पर कुल मिलाकर 65 मामले थे, जिनमें से हत्या के 16 मामले थे। पिछले दो वर्षों में उसे आठ बार दोषी ठहराया गया, जिसमें 1991 में वाराणसी के बाहुबली नेता अवधेश राय की हत्या और 2005 में भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या भी शामिल है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो