scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

सिर्फ शादी ही नहीं लिव-इन रिलेशनशिप पर भी लागू होता है धर्मांतरण कानून: HC

असल में आर्य समाज में शादी करने वाले एक जोड़े ने हाई कोर्ट में सुरक्षा की गुहार लगाई थी। लेकिन कोर्ट ने वो सुरक्षा देने से ही मना कर दिया।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Sudhanshu Maheshwari
नई दिल्ली | Updated: March 14, 2024 19:32 IST
सिर्फ शादी ही नहीं लिव इन रिलेशनशिप पर भी लागू होता है धर्मांतरण कानून  hc
लिव-इन रिलेशनशिप पर लागू होता है धर्मांतरण कानून- हाई कोर्ट
Advertisement

उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया है। जोर देकर कहा गया है कि सिर्फ शादी ही नहीं लिव-इन रिलेशनशिप पर भी धर्मांतरण कानून लागू होगा। अब ये बड़ी बात है क्योंकि अभी तक तो सिर्फ ये समझा जा रहा था कि शादी तक ही इस कानून को सीमित रखा जाएगा, लेकिन हाई कोर्ट की टिप्पणी ने जमीन पर स्थिति पूरी तरह बदल दी है।

असल में आर्य समाज में शादी करने वाले एक जोड़े ने हाई कोर्ट में सुरक्षा की गुहार लगाई थी। लेकिन कोर्ट ने वो सुरक्षा देने से ही मना कर दिया। यहां तक कहा गया कि लिव इन में रह रहे जोड़ों पर भी धर्मांतरण कानून लागू होगा। कोर्ट ने ये भी कहा कि इस जोड़े को अपने परिवार से किसी तरह का कोई खतरा नहीं है, ऐसे में सुरक्षा का सवाल नहीं।

Advertisement

अब समझने वाली बात ये है कि इस जोड़े ने कभी भी धर्मांतरण के लिए अप्लाई ही नहीं किया था। मुस्लिम महिला ने हिंदू पुरुष से बिना किसी नियम का पालन करते हुए शादी कर ली। कोर्ट ने भी इसी बात का संज्ञान लिया है और साफ कहा है कि सुरक्षा प्रदान नहीं की जा सकती।

उत्तर प्रदेश गैरकानूनी धर्मांतरण कानून के मुताबिक गलत बयानी, अनुचित प्रभाव, जबर्दस्ती और प्रलोभन, किसी कपटपूर्ण तरीके से या विवाह द्वारा एक से दूसरे धर्म में परिवर्तन कराना अपराध है।

Advertisement

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो