scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

स्कूल के पास थी शराब की दुकान, विरोध में हाईकोर्ट पहुंचा LKG का बच्चा, अदालत ने योगी सरकार को दिया ये निर्देश

स्कूल के पास शराब की दुकान के चलते कानपुर का एक छात्र ने अदालत का दरवाजा खटखटाया, जिस पर कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | Updated: May 08, 2024 21:59 IST
स्कूल के पास थी शराब की दुकान  विरोध में हाईकोर्ट पहुंचा lkg का बच्चा  अदालत ने योगी सरकार को दिया ये निर्देश
शराब की दुकान से परेशान हुआ छात्र (सोर्स - PTI/File)
Advertisement

Liquor Licence Cas: उत्त्तर प्रदेश के कानपुर में स्कूल के पास बनी एक शराब की दुकान से परेशान एक पांच साल का एलकेजी में पढ़ने वाला बच्चा अपने हक की लड़ाई के लिए इलाहाबाद हाई कोर्ट (Allahabad High Court) पहुंच गया और वहां उसकी परेशानी भी हल हो गई। इस केस में हाई कोर्ट ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को शराब लाइसेंस को लेकर सख्त निर्देश भी जारी किए।

दरअसल, यह मामला कानपुर शहर में चिड़ियाघर के पास स्थित आजाद नगर मोहल्ले से जुड़ा हुआ है। जहां का पांच साल का अथर्व दीक्षित आजाद नगर इलाके में स्थित सेठ एमआर जयपुरिया स्कूल में एलकेजी का छात्र है। स्कूल से महज बीस मीटर की दूरी पर शराब का ठेका है। नियम के मुताबिक सरकारी ठेका दिन में दस बजे के बाद ही खुलना चाहिए लेकिन अक्सर यहां सुबह छह सात बजे से ही शराबियों का जमावड़ा लग जाता है।

Advertisement

प्रशासन ने शिकायत पर भी नहीं की कार्रवाई

शराब के ठेके के बाहर लोग लोग शराब के नशे में हुड़दंग करते हैं। स्कूल के पास रिहायशी बस्ती भी है, जहां सैकड़ो की संख्या में लोग रहते हैं, जिसके चलते लोगों को सुबह-सुबह की परेशानियां का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अथर्व इन शराबियों से परेशान था और स्कूल जाने में भी डरता था। अथर्व के कहने पर उसके परिवार वालों ने कानपुर के अफसरों से लेकर यूपी सरकार तक कई बार शिकायत की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

प्रशासन ने शराब के ठेके को लेकर यह तर्क दिया कि अथर्व का यह स्कूल 2019 में खुला है, जबकि शराब का ठेका तकरीबन तीस साल पुराना है। इस पर अथर्व ने अपने परिवार वालों से मदद लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर दी। यूपी सरकार के इस तर्क पर अलाहाबाद हाई कोर्ट ने सरकार से यह बताने को कहा था कि स्कूल खुलने के बाद साल दर साल शराब के ठेके के लाइसेंस रिन्यू क्यों किया जा रहा था।

Advertisement

क्या रहा कोर्ट का फैसला

इस मामले में बच्चे अथर्व की तरफ से उसके अधिवक्ता आशुतोष शर्मा ने दलीलें पेश की थीं और कहा गया कि इस मामले में नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है और स्कूल के बगल शराब का ठेका होने से यहां बच्चों का भविष्य खतरे में है। इलाहाबाद हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस अरुण भंसाली और जस्टिस विकास बुधवार की डिवीजन बेंच ने इस मामले में सुनवाई पूरी होने के बाद दो मई को अपना जजमेंट रिजर्व कर लिया था।

उच्च अदालत ने कानपुर के पांच साल के बच्चे अथर्व की जनहित याचिका को मंजूर करते हुए यूपी सरकार को आदेश दिया है कि शराब के इस ठेके का रिन्यूअल कभी न किया जाए। शराब के ठेके का लाइसेंस अगले साल मार्च महीने तक है।इसके बाद इसे किसी दूसरी जगह शिफ्ट किया जा सकता है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो