scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बंगाल में शेरनी का नाम 'सीता' रखने पर विवाद, हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से मांगी रिपोर्ट

पश्चिम बंगाल में शेरनी का नाम सीता रखने पर विवाद बढ़ गया है। कोलकाता हाईकोर्ट ने मामले में राज्य सरकार को रिपोर्ट सौंपने को कहा है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
कोलकाता | February 22, 2024 15:36 IST
बंगाल में शेरनी का नाम  सीता  रखने पर विवाद  हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से मांगी रिपोर्ट
शेरनी का नाम सीता रखने पर बवाल। (express)
Advertisement

पश्चिम बंगाल से हैरान करने वाली एक खबर सामने आई है। यहां कलकत्ता हाईकोर्ट की जलपाईगुड़ी सर्किट पीठ ने सिलीगुड़ी के बंगाल सफारी पार्क में एक शेरनी का नाम 'सीता' रखने पर हलफनामे के रूप में एक रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया है।

दरअसल, मामले में विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने शुक्रवार को पेश की गई अपनी रिट याचिका में कहा कि शेरनी को सीता नाम देना 'तर्कहीन', 'अतार्किक' और 'ईशनिंदा के समान' है। इसके बाद हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को मामले में रिपोर्ट सौंपने को कहा।

Advertisement

मामले में न्यायमूर्ति सौगत भट्टाचार्य की एकल पीठ ने विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) द्वारा दायर की गई याचिका पर सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया। याचिका में शेरनी का नाम हिंदू देवी के नाम पर रखे जाने पर आपत्ति जताई गई थी।

विश्व हिंदू परिषद ने दायर की याचिका

वीएचपी की तरफ से केस लड़ने वाले वकील शुभंकर दत्ता ने कहा, ''हमने एक हिंदू देवी के नाम पर शेरनी का नाम रखे जाने के खिलाफ याचिका दायर की थी। हमने अपील की थी कि किसी भी जानवर का नाम देवी या देवता के नाम पर न रखा जाए। आज कोर्ट ने हमारी प्रार्थना सुनी और राज्य सरकार से इस पर रिपोर्ट मांगी। मामले पर कल फिर सुनवाई होगी।''

दत्ता ने आगे कहा कि विहिप की जीत है क्योंकि हाई कोर्ट ने इस मामले को राज्य सरकार से जवाब मांगा है। दरअसल, पिछले हफ्ते विहिप ने जलपाईगुड़ी के सिलीगुड़ी के बंगाल सफारी पार्क में शेरनी का नाम सीता और शेर का नाम मुगल सम्राट अकबर के नाम पर रखे जाने के खिलाफ कलकत्ता हाईकोर्ट की सर्किट बेंच में याचिका दायर की थी। 12 फरवरी को शेर और शेरनी को आठ अन्य जानवरों के साथ त्रिपुरा के सिपाहीजला चिड़ियाघर से सिलीगुड़ी सफारी में लाया गया था।

Advertisement

हालांकि पश्चिम बंगाल वन विभाग ने शेर और शेरनी का नाम 'सीता' और 'अकबर' रखने से इनकार किया था। त्रिपुरा चिड़ियाघर के अधिकारियों ने कहा कि आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार उनके नाम 'राम' और 'सीता' था। देखना है कि कोर्ट इस मामले में क्या फैसला सुनाता है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो