scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पानी की बूंद-बूंद को तरसा बेंगलुरु! भीषण गर्मी से पहले ही पड़ा सूखा, CM आवास में भी जल संकट

बेंगलुरु शहर का बड़ा हिस्सा पीने के पानी के लिए टैंकरों पर निर्भर रहता है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: shruti srivastava
Updated: March 05, 2024 19:46 IST
पानी की बूंद बूंद को तरसा बेंगलुरु  भीषण गर्मी से पहले ही पड़ा सूखा  cm आवास में भी जल संकट
बेंगलुरु में पानी की किल्लत (Source- Indian Express)
Advertisement

गर्मी की शुरुआत के पहले ही कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु पीने के पानी की किल्लत से जूझ रही है। लाखों लोग यहां पानी की कमी से परेशान हैं। कर्नाटक के लोग पानी के लिए निजी टैंकरों पर निर्भर हैं लेकिन पानी की कमी को ये भी पूरा नहीं कर पा रहे हैं। सरकार की ओर से लोगों को समस्या से निजात दिलाने के तमाम प्रयास किए जा रहे हैं।

शहर के कई इलाकों में जलापूर्ति ठप्प है। ऐसे में लोगों को निजी टैंकरों का सहारा लेना पड़ रहा है। एक अनुमान के मुताबिक वर्तमान में शहर की तकरीबन 60 फीसदी आबादी इन्हीं टैंकरों के सहारे पानी की कमी को पूरा कर रही है।

Advertisement

मुख्यमंत्री आवास में भी पानी की किल्लत

इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री आवास में भी पानी की किल्लत बताई जा रही है। मंगलवार को मुख्यमंत्री आवास में पानी के टैंकर आते-जाते देखे गए.बेंगलुरु में एक हाउसिंग सोसाइटी में गंभीर जल संकट के चलते पीने के पानी के दुरुपयोग पर निवासियों पर 5,000 रुपये का जुर्माना लगाने का नोटिस जारी किया गया। ऐसे ही नोटिस कई और सोसाइटियों में जारी किए जा रहे हैं। साथ ही स्थिति पर नजर रखने के लिए एक विशेष सुरक्षाकर्मी भी तैनात करने का फैसला किया गया है।

क्या है बेंगलुरु में पानी की किल्लत की वजह?

    जानकारों का कहना है कि इस बार बेंगलुरु में सूखा पड़ने की वजह से जल संकट गहरा गया है। कर्नाटक में बारिश सामान्य से कम दर्ज की गई है। ऐसे में कई बोरवेल सूख गए हैं और कई जगहों पर भूमिगत जल स्तर काफी कम हो गया है। शहर में पेड़ कम हो जाने की वजह से अब पहले की तरह भूमिगत जल नहीं बचा है। इसके अलावा टैंकर माफिया को भी इस जल संकट के लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। लोगों का कहना है कि जल माफिया लगातार पानी पंप किया करते हैं जिसकी वजह से समस्या खड़ी हो रही है।

    बेंगलुरु की आबादी भी इस समय 1 करोड़ के करीब पहुंच गई है। तेजी से बढ़ती आबादी की वजह से पानी की जरूरत बढ़ी है। बताया जा रहा है कि जहां बेंगलुरु निकाय जलापूर्ति नहीं कर पाता है वहां संकट ज्यादा गंभीर है।

    Advertisement

    जल संकट से निपटने के लिए क्या प्रयास कर रही है सरकार?

    कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार ने लोगों को पानी का दुरुपयोग रोकने की सलाह दी है। इसके अलावा बेंगलुरु शहर के सभी बोरवेल सरकार अपने कब्जे में ले रही है। साथ ही सरकार प्राइवेट पानी के टैंकरों को भी लेकर जल संकट कम करने का प्रयास कर रही है। डीके शिवकुमार ने कहा कि इस जल संकट को देखते हुए एक वॉर रूम बनाया गया है। इसमें वरिष्ठ अधिकारियों को तैनात किया गया है जोकि व्यवस्था की निगरानी करेंगे।

    डिप्टी सीएम ने कहा कि इस जल संकट को कम करने के लिए शहर के बोरवेल कब्जे में ले लिए गए हैं। इसके अलावा निजी टैंकरों के मालिकों को चेतावनी दी गई है कि अगर वे 7 तारीख से पहले अपना रजिस्ट्रेशन नहीं कराएंगे तो उनके टैंकर को सीज कर दिया जाएगा। बता दें कि बेंगलुरु में करीब 3500 वॉटर टैंकर हैं जिनमें से 10 फीसदी ही रजिस्टर्ड हैं। प्राइवेट टैंकर पानी के लिए 500 से 2000 रुपये तक चार्ज करते हैं। कर्नाटक सरकार का कहना है कि कावेरी नदी पर बांध बनाया जाएगा और इसके बाद जल संकट से निपटा जा सकता है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि यह बांध कब बनेगा। कर्नाटक और तमिलनाडु के बीच कावेरी नदी को लेकर विवाद अभी भी जारी है।

    जल संकट के प्रभाव

    पानी की किल्लत की वजह से शहर के कई इलाकों में पानी की आपूर्ति में कटौती की गई है। इसके साथ ही पानी की कीमतों में भी वृद्धि हुई है। पानी की कमी के कारण पानी की कीमतों में वृद्धि हुई है।

    Advertisement
    Tags :
    Advertisement
    Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
    tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो