scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

लीवर दान कर भाई की जान बचाना चाहता था शख्स, पत्नी कर रही थी मना, कोर्ट में हुआ ये फैसला

एक शख्स अपना लीवर दान कर भाई की जान बचाना चाहता था मगर उसकी पत्नी इस फैसले के खिलाफ थी। कोर्ट ने अब इस पर फैसला सुनाया है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
Updated: February 09, 2024 14:03 IST
लीवर दान कर भाई की जान बचाना चाहता था शख्स  पत्नी कर रही थी मना  कोर्ट में हुआ ये फैसला
पति-पत्नी। (demo pic)
Advertisement

भोपाल से हैरान करने वाली खबर सामने आई है। यहां एक शख्स अपने भाई की जान बचाने के लिए उसे अपना लीवर दान करना चाहता था मगर उसकी पत्नी को यह बात मंजूर नहीं थी। वह बार-बार उसका विरोध कर रही थी। पति का कहना था कि वह अपने भाई को लीवर जरूर देगा वहीं पत्नी कहती थी कि नहीं तुम अपने भाई को लीवर नहीं दोगे। शख्स ने भाई को लीवर देने के लिए अस्पताल में भी संपर्क कर लिया मगर उसकी पत्नी ने इस पर आप्पत्ति जता दी। बात इतनी बढ़ गई कि मामला कोर्ट पहुंच गया।

अब इस मामले पर कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है। एमपी हाईकोर्ट ने अपना फैसला शख्स के पक्ष में सुनाय है। हाईकोर्ट ने कहा कि पत्नी की बात पर इसलिए ध्यान नहीं दिया जा सकता है क्योंकि उसका पति एकदम सेहतमंद है। इसकी हेल्थ ठीक है। वह अपने लीवर का एक हिस्सा अपने बीमार भाई को देने के लिए तैयार है।

Advertisement

दरअसल, शख्स के बीमर भाई को तत्काल ट्रांसप्लांट की जरूरत थी। शख्स इसके लिए पूरी तरह तैयार था मगर उसकी पत्नी इसके लिए तैयार नहीं थी। अस्पताल में पत्नी ने आपत्ति जता दी जिसके कारण उसके भाई का ट्रांसप्लांट रुक गया।

कोर्ट ने कहा- पत्नी अपने पति के फैसले पर हावी नहीं हो सकती

मामले में अब कोर्ट ने कहा कि पत्नी ने जो चेतावनी दी थी वह याचिकाकर्ता के अधिकार पर हावी नहीं हो सकती। याचिकाकर्ता की पत्नी की आपत्ति उसके वैवाहिक जीवन को सफल बनाए रखने के लिए आदर्श हो सकती है लेकिन लीवर ट्रांसप्लांट से पहले यह अनुमान नहीं लगाया जा सकता है कि इससे उसके पति की मौत हो जाएगी।

कोर्ट ने इस बात पर जोर दिया कि लीवर एक ऐसा अंग है जो समय के साथ बढ़ता है। वर्तमान में मेडिकल साइंस के कारण अंगों का सफलतापूर्वक दूसरे के शरीर में ट्रांसप्लांट किया जा रहा है। कोर्ट ने आगे कहा कि पत्नी की धारणा पति की इच्छा से तुलना नहीं की जा सकती। वह अपना लीवर दान कर अपने भाई की जान बचाना चाहता है। विभिन्न तथ्यों और परिस्थितियों को देखते हुए पति के फैसले को अवैध नहीं ठहराया जा सकता।

Advertisement

बता दें कि पत्नी के इनकार के बाद जब अस्पताल ने लीवर ट्रांसप्लांट के लिए मना कर दिया तो पति ने हाईकोर्ट का रुख किया था। ताकि कोर्ट के आदेश के बाद वह अपने भाई की जान बचा सके।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो