scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Himachal assembly election 2022: बीजेपी और कांग्रेस के वोट में केवल 5 फीसदी का अंतर, आप का खाता खुलना भी मुश्किल

सीटों की बात की जाए तो बीजेपी को 35 से 37 सीटें मिलने का अनुमान है। कांग्रेस को 22 से 28 जबकि आप को केवल 1 सीट मिलने का अनुमान है।
Written by: जनसत्ता ऑनलाइन | Edited By: shailendra gautam
Updated: November 09, 2022 22:12 IST
himachal assembly election 2022  बीजेपी और कांग्रेस के वोट में केवल 5 फीसदी का अंतर  आप का खाता खुलना भी मुश्किल
हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा के बाद प्रमुख पार्टियों ने अपने उम्मीदवार तय कर दिए हैं। कांग्रेस ने शनिवार को प्रत्याशियों की तीसरी सूची जारी कर दी है। हिमाचल प्रदेश में मतदान 12 नवंबर को होगा। जबकि मतगणना 26 दिन बाद यानि 8 दिसंबर को होगी। (फोटो : PTI)
Advertisement

रिपब्लिक टीवी के ओपिनियन पोल के मुताबिक हिमाचल प्रदेश में बीजेपी की सरकार फिर से बनने के प्रबल आसार हैं। सर्वे के आंकड़े आप की नींद उड़ाने वाले हैं। हिमाचल चुनाव में केजरीवाल की पार्टी का सूपड़ा साफ होता दिख रहा है। उसे केवल एक सीट मिलती दिख रही है। उससे ज्यादा वोट शेयर अन्यों के पास है।

सर्वे के मुताबिक चुनाव में बीजेपी को 45.2 फीसदी, कांग्रेस को 40.1 फीसदी, आप को 5.2 फीसदी वोट मिलने के अनुमान हैं। जबकि 9.5 वोट अन्य के खाते में जाने के कयास लगाए गए हैं। हिमाचल प्रदेश में कुल 68 सीटें हैं। फिलहाल बीजेपी यहां सत्ता में है। हिमाचल के ट्रैक रिकॉर्ड के मुताबिक एक पार्टी के लिए लगातार दो बार चुनाव जीतना यहां मुश्किल भरा होता रहा है।

Advertisement

सीटों की बात की जाए तो बीजेपी को 35 से 37 सीटें मिलने का अनुमान है। कांग्रेस को 22 से 28 जबकि आप को केवल 1 सीट मिलने का अनुमान है। अन्य के खाते में 1 से 4 सीटें जाती दिख रही हैं। सर्वे कहता है कि विधानसभा चुनाव में बीजेपी को कांग्रेस कड़ी टक्कर दे सकती है। दोनों के वोट शेयर में केवल 5 फीसदी का अंतर है।

हिमाचल प्रदेश की जनता हर पांच साल में सत्ता बदल देती है। ये रवायत पिछले साढ़े तीन दशकों से चली आ रही है। बीजेपी सत्ता परिवर्तन की इस मिथक को तोड़ने के लिए जोर लगा रही है। उधर कांग्रेस सत्ता में वापसी के लिए जोरदार संघर्ष करती दिख रही है। अरविंद केजरीवाल की आदमी पार्टी चुनाव ने चुनाव को त्रिकोणीय बनाने की कोशिश की है।

Advertisement

देखना दिलचस्प होगी कि सत्ता बदलने का पुराना ट्रेंड बरकरार रहता है या फिर बीजेपी इसे तोड़कर सत्ता मे वापसी कर एक नया इतिहास बनाएगी। लेकिन इसमें कोई शक नहीं कि पंजाब में कुछ अरसा पहले सरकार बनाने वाली आप हिमाचल चुनाव में कहीं भी नहीं दिख रही है। जबकि भगवंत मान के सीएम बनने के बाद खुद केजरीवाल उन्हें साथ लेकर सूबे के दौरे पर निकले थे। उन्हें लगता था कि पंजाब के पड़ोसी सूबे में भगवंत मान एक असरदार कारक बन सकते हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो