scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

हाथरस हादसा: जिस बाबा के कार्यक्रम में गई 110 से अधिक लोगों की जान, अखिलेश यादव भी उसकी कर चुके हैं जय-जयकार

भोले बाबा का सत्संग सुनने के लिए हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे थें। बाबा इतने प्रसिद्ध हैं कि बड़े नेता भी इनकी जय-जयकार करते हैं।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: July 02, 2024 23:26 IST
हाथरस हादसा  जिस बाबा के कार्यक्रम में गई 110 से अधिक लोगों की जान  अखिलेश यादव भी उसकी कर चुके हैं जय जयकार
भोले बाबा के कार्यक्रम में पहुंचे अखिलेश यादव (फोटो सोर्स: @AkhileshYadav)
Advertisement

उत्तर प्रदेश के हाथरस में भगदड़ मच गई है। भगदड़ में करीब 116 से अधिक लोगों के मारे जाने की खबर है। बताया जाता है कि भोले बाबा के सत्संग का समापन कार्यक्रम चल रहा था और इस दौरान यह भगदड़ मची। घटना में 200 से अधिक लोग घायल हैं। भोले बाबा का सत्संग सुनने के लिए हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे थें। बाबा इतने प्रसिद्ध हैं कि बड़े नेता भी इनकी जय-जयकार करते हैं।

Advertisement

अखिलेश यादव भी कर चुके हैं बाबा की जय-जयकार

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा मुखिया अखिलेश यादव भी भोले बाबा के सत्संग में पहुंच चुके हैं और उनकी जय-जयकार कर चुके हैं। अखिलेश यादव की X प्रोफाइल के अनुसार 3 जनवरी 2023 को वह भोले बाबा के सत्संग में पहुंचे थे। इस दौरान वहां अखिलेश काफी देर रहे थे। इसके अलावा वहां अखिलेश यादव ने संबोधन भी किया था।

Advertisement

अखिलेश यादव ने कार्यक्रम की फोटो को पोस्ट करते हुए लिखा था, "नारायण साकार हरि की सम्पूर्ण ब्रह्मांड में सदा - सदा के लिए जय जयकार हो।"

काफी लोकप्रिय हैं भोले बाबा

भोले बाबा के नाम से विख्यात बाबा पश्चिमी यूपी में काफी लोकप्रिय हैं। इनका सत्संग सुनने के लिए आसपास के राज्यों से भी लोग आते हैं और लाखों की संख्या में उनके अनुयायी हैं। भोले बाबा के नाम से प्रसिद्ध संत का असली नाम सूरजपाल है और उन्हें लोग हरि भोले बाबा के नाम से जानते हैं। भोले बाबा कासगंज के पटियाली गांव के रहने वाले हैं और वहीं पर उन्होंने अपना एक आश्रम बनाया हुआ है।

Advertisement

संत बनने से पहले भोले बाबा यूपी पुलिस की नौकरी करते थे। 2006 में इन्होंने यूपी पुलिस की नौकरी से वीआरएस ले लिया था और उसके बाद अपने गांव में ही रहने लगे थे। इसके बाद वह गांव-गांव जाकर भगवान की भक्ति का प्रचार प्रचार शुरू कर देते हैं और उन्हें चंदा भी मिलने लगा। धीरे-धीरे उनके सत्संग का आयोजन किया जाने लगा और वह पश्चिमी यूपी में लोकप्रिय हो गए। भोले बाबा अपनी पत्नी के साथ आसन पर बैठकर सत्संग कहते हैं। वह अक्सर सफेद रंग का सूट पैंट पहने होते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जहां भी भोले बाबा का सत्संग होता है वहां उनके अनुयायी ही पूरी व्यवस्था संभालते हैं।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो