scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

जम्मू-कश्मीर के रामबन में जमीन धंसी, 50 से अधिक घरों में दरारें, बिजली टॉवर और सड़कें भी टूटीं

रामबन के डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि अधिकारियों ने जमीन धंसने की वजह जानने के लिए भूविज्ञान विशेषज्ञों को बुलाया है। प्रभावित आबादी के पुनर्वास और आवश्यक सेवाओं की बहाली की निगरानी के लिए अधिकारियों की एक टीम भी तैनात की गई है। डिप्टी कमि
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: April 27, 2024 10:36 IST
जम्मू कश्मीर के रामबन में जमीन धंसी  50 से अधिक घरों में दरारें  बिजली टॉवर और सड़कें भी टूटीं
शुक्रवार, अप्रैल 26, 2024 को रामबन जिले में धंसी सड़क से 50 से अधिक घर, चार बिजली टावर, एक रिसीविंग स्टेशन और एक मुख्य सड़क क्षतिग्रस्त हो गई है। (पीटीआई फोटो)
Advertisement

जम्मू-कश्मीर के रामबन जिले में जमीनों के धंसने से इलाके में बड़ा खतरा हो गया है। इससे लोग दहशत में हैं। जमीन धंसने से 50 से अधिक घरों पर इसका प्रभाव पड़ा है। चार बिजली टावर, एक रिसीविंग स्टेशन और एक मुख्य सड़क भी क्षतिग्रस्त हो गई। फिलहाल अधिकारी प्रभावित लोगों की सुरक्षा के लिए जरूरी इंतजाम कर रहे हैं। रामबन के डिप्टी कमिश्नर बसीर-उल-हक चौधरी ने शुक्रवार सुबह जिला मुख्यालय से पांच किलोमीटर दूर पेरनोट गांव का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने प्रभावित परिवारों को सहायता एवं बिजली सहित जरूरी सेवाओं की बहाली का आश्वासन दिया।

डिप्टी कमिश्नर ने घटना को प्राकृतिक आपदा बताया

दो दिन पहले पेरनोट गांव में अचानक जमीन धंसने के बाद घरों में दरारें आने लगी थीं। गूल तथा रामबन के बीच सड़क संपर्क टूटने से कई परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर जाने को विवश होना पड़ा था। डिप्टी कमिश्नर बसीर-उल-हक चौधरी ने घटना को प्राकृतिक आपदा बताया है। उन्होंने मीडिया से कहा, "जिले का प्रमुख होने के नाते मैं प्रभावित परिवारों को भोजन और आश्रय प्रदान करने की पूरी जिम्मेदारी लेता हूं।"

Advertisement

घटना की वजह जानने के लिए विशेषज्ञों की टीम बुलाई गई

उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने जमीन धंसने की वजह जानने के लिए भूविज्ञान विशेषज्ञों को बुलाया है। प्रभावित आबादी के पुनर्वास और आवश्यक सेवाओं की बहाली की निगरानी के लिए अधिकारियों की एक टीम भी तैनात की गई है। डिप्टी कमिश्नर ने कहा, "जमीन अब भी धंस रही है और बिजली जैसी आवश्यक सेवाओं को बहाल करना हमारी पहली प्राथमिकता है। हम पीड़ितों के लिए टेंट और अन्य सामान उपलब्ध कराएंगे तथा चिकित्सा शिविर भी लगाएंगे।"

उन्होंने लोगों से कहा कि वे घबराएं नहीं और अपने जीवन की सुरक्षा के लिए एहतियाती कदम उठाएं। स्थानीय स्वयंसेवक राज्य आपदा मोचन बल (SDRF) और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) की टीम के साथ मिलकर क्षतिग्रस्त घरों से सामान निकालने में प्रभावित लोगों की मदद कर रहे हैं।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो