scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Delhi Mayor Polls: गठबंधन के बाद AAP-कांग्रेस की पहली बड़ी अग्निपरीक्षा, CM की गिरफ्तारी के बाद पार्षदों के पाला बदलने का सता रहा डर

एमसीडी सदन में 250 सदस्य हैं, जिनमें से 134 आप पार्षद हैं। भाजपा के पास 104 और एक निर्दलीय पार्षद का समर्थन है, जिससे सदन में उसके पार्षदों की संख्या 105 हो जाती है। कांग्रेस के पास 9 हैं, जबकि दो निर्दलीय पार्षद हैं।
Written by: ईएनएस | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: March 30, 2024 16:02 IST
delhi mayor polls  गठबंधन के बाद aap कांग्रेस की पहली बड़ी अग्निपरीक्षा  cm की गिरफ्तारी के बाद पार्षदों के पाला बदलने का सता रहा डर
दिल्ली में मेयर चुनाव होने वाले हैं। (Express File Photo)
Advertisement

Saman Husain, Jatin Anand

दिल्ली में लोकसभा चुनाव से एक महीने पहले आम आदमी पार्टी (AAP) और उसकी सहयोगी कांग्रेस को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के बाद अपनी पहली बड़ी राजनीतिक परीक्षा का सामना करना पड़ेगा। अगले महीने होने वाले एमसीडी मेयर चुनाव में दोनों दलों को परीक्षा से गुजरना पड़ेगा।

Advertisement

हालांकि AAP और कांग्रेस ने दिल्ली में लोकसभा चुनावों के लिए हाथ मिला लिया है, लेकिन समझा जा रहा है कि एमसीडी में दोनों दलों का गठबंधन नहीं है। सूत्रों ने बताया कि अरविंद केजरीवाल की गिरफ़्तारी के बाद यह स्थिति बदल गई है।

आम आदमी पार्टी के एक सूत्र ने कहा कि दोनों इंडिया गठबंधन के सहयोगियों ने आगे बढ़ते हुए एमसीडी के बारे में एक समझ विकसित कर ली है। कांग्रेस के एक सूत्र ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि गठबंधन केवल लोकसभा चुनावों के लिए था, लेकिन अब सभी मामलों में दिल्ली में अपने सहयोगी के साथ मजबूती से खड़ा है।

एमसीडी के सूत्रों ने कहा कि पिछले सप्ताह आबकारी नीति मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) द्वारा आप संयोजक अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी के बाद पार्षदों के पार्टी छोड़ने की बातें दिन-ब-दिन सामने आ रही हैं।

Advertisement

नगर निकाय के एक सूत्र ने दावा किया, "मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी के बाद से ही हम पार्षदों के पाला बदलने की संभावना के बारे में सुन रहे हैं। इनमें निगम प्रशासन और नगर निगम के काम में अभाव भी एक बड़ा कारण है। आप के एमसीडी में आने के पहले साल में कई महत्वपूर्ण समितियां भी नहीं बनाई जा सकीं हैं। गैर-भाजपा पार्षदों में एक मौजूदा मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी के बाद कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा निशाना बनाए जाने का भी डर है।"

एमसीडी सूत्रों ने कहा कि जब से आप सत्ता में आई है, तब से केवल तीन लोगों को एमसीडी में पद मिले हैं। इनमे मेयर शेली ओबेरॉय, डिप्टी मेयर एली इकबाल और सदन के नेता मुकेश गोयल शामिल हैं। आप के सूत्रों ने आरोप लगाया कि पार्टी के संयोजक की तरह ही इसके पार्षदों को भी खतरा महसूस हो रहा है। साथ ही आप एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक को शराब नीति मामले के सिलसिले में ईडी ने तलब भी किया है।

भाजपा सूत्रों ने यह भी दावा किया कि गैर-भाजपा पार्षदों और अन्य दलों के नेताओं अपनी स्थिति से हताशा के कारण भाजपा के संपर्क में हैं और मेयर चुनाव के लिए इंतजार कर रहे है। गुरुवार को आप के वरिष्ठ मंत्री सौरभ भारद्वाज ने आरोप लगाया था कि दिल्ली और पंजाब में पार्टी के नेतृत्व वाली सरकारों को गिराने के लिए ‘ऑपरेशन लोटस’ चल रहा है। उनके आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने कहा था कि जब भी आप पर आरोप लगते हैं या उसके नेता और कार्यकर्ता पार्टी छोड़ने लगते हैं, तो वह ‘ऑपरेशन लोटस’ की मनमोहक कहानियां गढ़ना शुरू कर देती है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो