scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'गे कम्युनिटी App' पर किया डॉक्टर से संपर्क, इलाज के बहाने BHU हॉस्टल बुलाया, पहले पीटा फिर किया गलत काम

वाराणसी के पुलिस अधिकारी राम सेवक गौतम ने कहा कि गिरफ्तार आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल लिया है। पुलिस उनसे पूछताछ के बाद रिमांड पर लेने की प्लानिंग कर रही है।
Written by: मनीष साहू
Updated: February 06, 2024 18:38 IST
 गे कम्युनिटी app  पर किया डॉक्टर से संपर्क  इलाज के बहाने bhu हॉस्टल बुलाया  पहले पीटा फिर किया गलत काम
बीएचयू में गे कम्युनिटी एप के जरिए डॉक्टर से किया गलत काम। (इमेज- इंडियन एक्सप्रेस)
Advertisement

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में फाइनल ईयर के दो स्टूडेंट्स को हॉस्टल के कमरे के अंदर एक डॉक्टर के साथ यौन उत्पीड़न और लूटपाट करने के मामले में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने जानकारी देते हुए कहा कि अरेस्ट किए गए आरोपियों में छात्र भी शामिल हैं। इस मामले में दो स्थानीय निवासियों की तलाश में अलग-अलग जगह पर दबिश दी जा रही है।

पुलिस ने बताया कि आरोपी ने 32 साल के डॉक्टर को एक कमरे में बुलाया, उसका यौन उत्पीड़न किया और पूरी घटना को अपने फोन में कैद कर लिया और सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी भी दी। आरोपी केवल इतने पर ही नहीं रूके उन्होंने डॉक्टर से पैसों की भी वसूली की। पुलिस ने अब आरोपियों के खिलाफ उत्तर प्रदेश गैंगस्टर्स और असामाजिक गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम के तहत कार्रवाई करने का फैसला किया है।

Advertisement

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने जानकारी देते हुए कहा कि यह घटना करीब 11 जनवरी को हुई थी। हालांकि, आरोपियों के द्वारा ज्यादा पैसे मांगने के बाद डॉक्टर ने 4 फरवरी को पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई थी। प्राइवेट हॉस्पिटल के डॉक्टर के मुताबिक, 11 जनवरी को एक आरोपी ने उन्हें फोन करके दावा किया कि उनके रूममेट की तबीयत बिगड़ रही है। जब वह कॉलेज के गेट पर पहुंचे तो उन्होंने कहा कि उन्हें एक हॉस्टल के कमरे में ले जाया गया, जहां पहले से ही चार लोग मौजूद थे। डॉक्टर ने कहा कि उनका यौन उत्पीड़न किया गया और एक अंगूठी और एक चेन समेत उनके सोने के गहने जबरन उनसे छीन लिए गए। आरोपियों ने कैश भी छीन लिया था।

आरोपियों ने कबूला जुर्म

वाराणसी के पुलिस अधिकारी राम सेवक गौतम ने कहा कि गिरफ्तार आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल लिया है। पुलिस उनसे पूछताछ के बाद रिमांड पर लेने की प्लानिंग कर रही है। अधिकारी ने आगे कहा कि आरोपियों ने मुख्य रूप से समलैंगिक समुदाय (Gay community App:) द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले ऐप के माध्यम से डॉक्टर से संपर्क किया था। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने यह भी बताया कि उन्होंने पहले भी चार अन्य डॉक्टरों और एक कारोबारी को निशाना बनाया था। हालांकि, पहले वाले लोगों में से कोई भी व्यक्ति सामने नहीं आया है। पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो