scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Bharat Ratna: चौधरी चरण सिंह के गांव और RLD के राजनीतिक गढ़ में कैसा है माहौल?

पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने के बाद उनके गांव और आरएलडी के गढ़ में खुशी का माहौल है।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: February 09, 2024 22:49 IST
bharat ratna  चौधरी चरण सिंह के गांव और rld के राजनीतिक गढ़ में कैसा है माहौल
पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह। (एक्सप्रेस आर्काइव)
Advertisement

Bharat Ratna: देश के महान किसान नेता चौधरी चरण सिंह को केंद्र सरकार ने भारत रत्न सम्मान से नवाजने की घोषणा की है। पूर्व पीएम चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न मिलने के बाद हापुड़ जिले के बाबूगढ़ थाना क्षेत्र के उनके पैतृक मढैया गांव में जश्न का माहौल बना हुआ है। यहां के लोगों का कहना है कि हमें उन पर गर्व है कि वह इस मिट्टी के बेटे हैं।

चौधरी चरण सिंह के राजनीतिक गढ़ बागपत में भी हर्षोल्लास का माहौल है। भारत सरकार के चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न की घोषणा के बाद लोग मिठाइयां बांटते और एक-दूसरे को बधाई देते हुए दिखाई दिए। राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय सचिव राजकुमार सांगवान ने बताया कि चौधरी चरण सिंह को छपरौली विधानसभा सीट से लोगों ने छह बार विधायक चुना था। उन्होंने संघर्ष करने के बाद देश के पीएम पद तक का सफर तय किया था।

Advertisement

रालोद के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व विधायक राजेंद्र शर्मा ने चौधरी चरण सिंह को किसानों का मसीहा, गरीब और पिछड़े लोगों के लिए कार्य करने वाला कहा है। उन्होंने चरण सिंह को भारत रत्न से नवाजे जाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति आभार व्यक्त किया है।

ग्रामीणों ने जताई खुशी

पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न दिए जाने की घोषणा पर उनकी जन्मस्थली नूरपुर की मढ़ैया के ग्रामीणों और रिश्तेदारों ने खुशी जताई है। उनके गांव के एक व्यक्ति ने कहा कि हमें खुशी है कि चौधरी साहब को अब भारत रत्न से सम्मानित किया जा रहा है। वह इसके हकदार थे और उनको यह सम्मान काफी पहले समय मिल जाना चाहिए था। उन्होंने किसानों के हितों के लिए जितना किया है उतना किसी और नहीं किया है।

भारत सरकार का अच्छा फैसला- आरएलडी के पूर्व विधायक

आरएलडी के पूर्व विधायक वीरपाल राठी ने कहा कि किसानों में बहुत खुशी है। वह किसानों के मसीहा थे और उन्होंने सबके लिए काम किया और उनका भरोसा हासिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। भारत सरकार ने यह एक अच्छा फैसला लिया है। वहीं उनके गांव के एक व्यक्ति ने कहा कि चौधरी साहब यहां के लोगों के दिलों में रहते हैं। वह वहीं रहेंगे, यह 10 साल पहले ही हो जाना चाहिए था। उनका भारत रत्न मिलने से पूरे गांव में खुशी का माहौल है।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो