scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'पहलवानों के मुद्दे पर चुप्पी का भुगतना पड़ सकता है बड़ा खामियाजा', हरियाणा BJP नेताओं ने माना- दांव पर लगी है पार्टी की साख

बीरेंद्र सिंह ने बताया कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के सामने वह यह मामला उठा चुके हैं और यह भी कहा कि अगर समय पर इसका हल नहीं निकाला गया तो पार्टी की विश्वसनीयता को हानि पहुंच सकती है।
Written by: वरिंदर भाटिया | Edited By: नीलम राजपूत
Updated: June 01, 2023 11:34 IST
 पहलवानों के मुद्दे पर चुप्पी का भुगतना पड़ सकता है बड़ा खामियाजा   हरियाणा bjp नेताओं ने माना  दांव पर लगी है पार्टी की साख
अप्रैल महीने से प्रदर्शन कर रहे पहलवान (REUTERS/Adnan Abidi/File Photo)
Advertisement

कुश्ती महासंघ के प्रमुख और भाजपा सांसद बृज भूषण शरण सिंह के खिलाफ पहलवानों के प्रदर्शन पर हरियाणा बीजेपी के नेताओं ने माना कि इस मामले में पार्टी की चुप्पी का उसको खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। अगले साल होने जा रहे लोकसभा और हरियाणा विधानसभा चुनाव की तैयारियों के बीच पहलवानों के प्रदर्शन को लेकर भाजपा में बेचैनी बढ़ती जा रही है। राज्य के ज्यादातर भाजपा नेता इस मामले पर चुप हैं और कुछ ही ऐसे हैं, जिन्होंने सामने आकर पहलवानों के न्याय की मांग का खुले तौर पर समर्थन किया है।

ग्राउंड लेवल पर पार्टी की छवि को हो सकता है नुकसान: भाजपा नेता

द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, राज्य के एक भाजपा नेता ने माना कि इस मामले पर चुप रहना पार्टी को भारी पड़ सकता है। अप्रैल महीने से जारी इस प्रदर्शन को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा में रहने वाले तीनों पहलवान साक्षी मलिक, विनेश फोगाट और बजरंग पुनिया हरियाणा से ही हैं। बीजेपी नेता ने कहा कि कुछ ऐसे मुद्दे हैं, जिन्हें पार्टी की नीतियों के तहत निपटाने की जरूरत है। उन्होंने आगे कहा कि हर किसी में अपने मन की बात को कहने की सिर्फ हिम्मत ही नहीं होनी चाहिए, बल्कि जमीनी स्तर के मुद्दों और सच्चाई को सुनना-समझना भी चाहिए। पहलवानों के प्रदर्शन को लेकर उन्होंने कहा कि इसके पीछे की वजह चाहे जो भी हो, लेकिन अगर इस मामले का कोई हल नहीं निकाला गया था, तो ग्राउंड लेवल पर पार्टी की छवि को झटका लग सकता है।

Advertisement

इस मामले में पहलवानों को हरियाणा बीजेपी के और नेताओं की तरफ से भी समर्थन देखने को मिला है। राज्य के गृह मंत्री अनिल विज ने रेस्लर्स की मांगों को पार्टी में ऊपर तक ले जाना का आश्वासन दिया है। तो वहीं, हिसार से भाजपा के सांसद ब्रिजेंद्र सिंह ने कहा कि वह पहलवानों के दर्द और लाचारी को महसूस कर सकते हैं। उनके पिता और पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने भी जंतर-मंतर पर पहलवानों से मुलाकात की थी।

इससे पहले पहलवानों ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के समर्थन और हस्तक्षेप की मांग की थी। हालांकि, सीएम मे यह कहते हुए मामले से दूरी बना ली कि यह हरियाणा का नहीं खिलाड़ियों और केंद्र के बीच का मामला है। उन्होंने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट पहले ही एफआईआर दर्ज करने का आदेश दे चुका है और मामले की जांच होगी।

पहलवानों के मुद्दे पर पार्टी प्रमुख से दो बार की थी बात: बीरेंद्र सिंह

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, बीरेंद्र सिंह ने बताया कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के सामने वह यह मामला उठा चुके हैं और यह भी कहा कि अगर समय पर इसका हल नहीं निकाला गया तो पार्टी की विश्वसनीयता को हानि पहुंच सकती है। उन्होंने कहा, "मैं दो बार पार्टी प्रमुख से मिल चुका हूं। दोनों समय पर मैंने उनसे कहा कि पार्टी को इसे एक राज्य के पहलवानों से जुड़ा मुद्दा सोचकर नहीं देखना चाहिए। यह गंभीर चिंता का विषय है और पार्टी की साख दांव पर है। मैंने पार्टी प्रमुख से हस्तक्षेप की मांग की है और खेल मंत्रालय समेत उन सभी से बात की है जो इस मामले का हल निकाल सकते हैं। मैंने कहा कि हम महिला सशक्तिकरण की बात करते हैं, तो हमें इस पर काम करना चाहिए।"

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो