scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बिहार के यादव बेल्ट में बीजेपी की होगी परीक्षा, पीएम मोदी का चेहरा कितना कारगर होगा साबित, जानें

मधेपुरा, सुपौल और झंझारपुर में 7 मई को मतदान होगा। यादवों और मुसलमानों की एक बड़ी आबादी यहां रहती है, जो आरजेडी का मुख्य वोट बैंक है।
Written by: दीप्‍त‍िमान तिवारी | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: May 04, 2024 22:19 IST
बिहार के यादव बेल्ट में बीजेपी की होगी परीक्षा  पीएम मोदी का चेहरा कितना कारगर होगा साबित  जानें
बिहार के यादव बेल्ट में पीएम मोदी के सहारे एनडीए गठबंधन (PTI photos)
Advertisement

बिहार में 2020 के विधानसभा चुनाव में लालू यादव की पार्टी आरजेडी ने अच्छा प्रदर्शन किया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में एनडीए गठबंधन को 40 में से 39 सीटों पर जीत हासिल हुई थी। इसके ठीक 1 साल बाद ही विधानसभा चुनाव हुए थे और आरजेडी ने अच्छा प्रदर्शन किया था। फिर पार्टी उत्साहित हो गई और पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कड़ी मेहनत की। अब आरजेडी को उम्मीद है कि लोकसभा चुनाव में उसे अच्छी संख्या में सीटें हासिल होगी।

इनमें से मधेपुरा और झंझारपुर का विशेष महत्व है क्योंकि इनका प्रतिनिधित्व क्रमशः पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद और जगन्नाथ मिश्रा कर चुके हैं। लेकिन अब तक बिना किसी लहर वाले चुनाव में प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र की अपनी गतिशीलता और चुनावी अंकगणित है। ये समीकरण बड़े राष्ट्रीय मुद्दों के बीच लोगों का ध्यान आकर्षित करता है।

Advertisement

मधेपुरा शहर में सरकारी कर्मचारी मनोज यादव कहते हैं, "मैं अपने दफ़्तर में मोदी को वोट देने वालों से कहता रहता हूं कि उन्हें याद रखना चाहिए कि एनडीए के शासनकाल में पेंशन योजना को हटा दिया गया था। मोदी हर चीज़ का निजीकरण कर रहे हैं। युवाओं को नौकरी कैसे मिलेगी? अगर मोदी फिर से सत्ता में आए तो देश और नीचे चला जाएगा।"

बगल के गांव बूढ़ी में 35 वर्षीय किसान निरंजन कुमार यादव को आरजेडी के प्रति वफादार रहने की जरूरत महसूस नहीं होती। वे कहते हैं, "राजद ने यादवों और मुसलमानों को हल्के में लिया है। कोई भी किसान और बाढ़ की बात नहीं करता। लालू यादव कहते थे कि राजा बैलेट बॉक्स से निकलेगा, रानी के पेट से नहीं। अब वे ही तय करते हैं कि राजा कौन होगा। उन्हें ऐसा उम्मीदवार उतारना चाहिए जो सक्रिय नेता हो।"

Advertisement

निरंजन कुमार का गुस्सा इस बात को दर्शाता है कि इस निर्वाचन क्षेत्र में उम्मीदवार का चयन कितना महत्वपूर्ण है। मधेपुरा में जेडीयू के मौजूदा सांसद दिनेश चंद्र यादव का मुकाबला आरजेडी के चंद्रदीप यादव से है, जो पूर्व सांसद रामेंद्र यादव उर्फ रवि के बेटे हैं। हालांकि लोग दिनेश को लेकर बहुत खुश नहीं हैं, क्योंकि उनका कहना है कि उन्होंने पिछले पांच सालों में निर्वाचन क्षेत्र का बमुश्किल ही दौरा किया है या कोई खास काम किया है। हालांकि लोग चंद्रदीप को राजनीतिक नौसिखिया और बाहरी कहते हैं।

Advertisement

मधेपुरा में जबरदस्त मुकाबला

दिनेश यादव, यादवों की एक खास उपजाति से आते हैं, जिसके निर्वाचन क्षेत्र में 50,000 से ज़्यादा मतदाता हैं। सहरसा में भी उनका काफ़ी प्रभाव है, जिसका एक हिस्सा मधेपुरा निर्वाचन क्षेत्र में आता है। कुछ अपवादों को छोड़कर, ऊंची जातियां पीएम मोदी के नाम के पीछे लामबंद होती दिख रही हैं क्योंकि उनका मानना है वो देश के लिए काम कर रहे हैं।

कुर्मी और कुशवाह, दोनों अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) और अत्यंत पिछड़ा वर्ग (EBC) के एक बड़े हिस्से में पीएम मोदी ने अपनी लोकप्रियता बरकरार रखी है। पीएम मोदी को लेकर मतदाताओं के एक वर्ग में कुछ थकान की भावना दिखाई देने के बावजूद मुफ्त राशन और पीएम आवास योजना जैसी वैकल्पिक और केंद्रीय योजनाओं की वजह से एनडीए को फायदा होता दिख रहा है।

राम मंदिर भी है बड़ा मुद्दा

फिर कुछ लोग कहते हैं कि वे राम मंदिर मुद्दे के आधार पर वोट करेंगे। सुपौल रेलवे स्टेशन के पास धानुक (ईबीसी) समुदाय से आने वाले चाय की दुकान चलाने वाले शिवपूजन मंडल कहते हैं, "नेहरू से लेकर कई लोग सत्ता में आए, लेकिन कोई भी मंदिर नहीं बनवा सका। यह काम मोदी ने किया। वे भी कोर्ट पर दबाव डाल सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।"

कोसी क्षेत्र के 70 वर्षीय किसान परमेश्वर मंडल ने पिछले साल नदी के रास्ते बदलने पर अपना घर और खेत खो दिया। वह अभी भी सरकार द्वारा पुनर्वास का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन कहते हैं कि वह मोदी को वोट देंगे। उन्होंने कहा, "मैंने सब कुछ खो दिया है। मैं उनके मुफ़्त राशन पर जी रहा हूं। कौन जानता है कि नई सरकार क्या करेगी? तो जो टूटा ही नहीं है उसे ठीक क्यों किया जाए?"

झंझारपुर में दिलचस्प समीकरण

मधुबनी जिले के झंझारपुर में आरजेडी के बागी गुलाब यादव के मैदान में उतरने से समीकरण दिलचस्प हो गए हैं। वे बसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। गुलाब का इस क्षेत्र में काफी व्यक्तिगत प्रभाव माना जाता है और वे एनडीए और इंडिया गठबंधन दोनों के वोट काट सकते हैं। यहां जेडी(यू) के रामप्रीत मंडल का मुकाबला मुकेश सहनी की विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) के सुमन कुमार महासेठ से है, जो इंडिया गठबंधन का हिस्सा है।

चूंकि सहनी मल्लाह जाति से आते हैं, इसलिए समुदाय में काफी उत्साह है, जो एक महत्वपूर्ण मतदाता समूह है। झंझारपुर में लगभग 25% मतदाता यादव और मुसलमान हैं, जो बड़े पैमाने पर वीआईपी उम्मीदवार महासेठ का समर्थन कर रहे हैं।

लेकिन कुछ असहमति के स्वर भी हैं। झंझारपुर और सुपौल की सीमा पर स्थित भुतहा गांव में संजय यादव को लगता है कि आरजेडी वास्तव में एक अच्छा विकल्प नहीं है। वे कहते हैं, "लालू यादव ने कोई विकास नहीं किया, इसलिए यादवों को भी नुकसान उठाना पड़ा है। जबकि बड़े पैमाने पर यादवों की वफ़ादारी आरजेडी के साथ है। कुछ यादवों को लगता है कि लोकसभा में पीएम मोदी और विधानसभा में तेजस्वी को वोट दिया जाना चाहिए।"

राजनगर विधानसभा क्षेत्र के परिहारपुर के मुसहर समुदाय के लोग महागठबंधन और एनडीए के बीच बंटे हुए नजर आ रहे हैं। ब्राह्मण बहुल इस गांव में मुसहर टोला हाईवे के किनारे सरकारी जमीन पर बसी एक अवैध बस्ती है। सालों से यहां के निवासी सरकार से बसने के लिए जमीन देने की अपील कर रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

बीजेपी कार्यकर्ताओं में उत्साह की कमी

इंडिया गठबंधन के पक्ष में जो बात काम कर रही है, वह है नीतीश कुमार की घटती लोकप्रियता और जेडी(यू) उम्मीदवारों के समर्थन में मतदाताओं को जुटाने के लिए बीजेपी कार्यकर्ताओं में उत्साह की कमी। झंझारपुर में एक बीजेपी कार्यकर्ता कहते हैं, "हम उम्मीदवार का समर्थन नहीं कर रहे हैं। वह बहुत खराब उम्मीदवार हैं। हम मोदी को वोट देंगे, लेकिन मतदाताओं को नहीं जुटाएंगे।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो