scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'मजार नहीं ये महाभारत काल का लाक्षागृह है…', ज्ञानवापी के बाद हिंदुओं को मिली एक और जीत, कोर्ट ने सुनाया अहम फैसला

बागपत स्थित बदरुद्दीन शाह की मजार मामले में कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने 100 बीघा जमीन का फैसला हिंदुओं के पक्ष में सुनाया है। लंबे समय से यह मामला कोर्ट में था।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: February 05, 2024 16:36 IST
 मजार नहीं ये महाभारत काल का लाक्षागृह है…   ज्ञानवापी के बाद हिंदुओं को मिली एक और जीत  कोर्ट ने सुनाया अहम फैसला
बागपत के लाक्षागृह को लेकर कोर्ट ने अहम फैसला सुनाया है। (ANI)
Advertisement

ज्ञानवापी केस के बाद हिंदुओं को एक और मामले में बड़ी सफलता मिली है। उत्तर प्रदेश के बागपत स्थित बदरुद्दीन शाह की मजार और लाक्षागृह विवाद में कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। एडीजे कोर्ट ने इस मामले में 100 बीघा जमीन हिंदू पक्ष को सौंप दी है। पिछले 50 साल से यह मामला कोर्ट में था। यह मामला पहली बार 1970 में सामने आया था जब मुस्लिम पक्ष की ओर से मुकीम खान नाम के एक शख्स ने लाक्षागृह को बदरुद्दीन शाह की मजार और कब्रिस्तान बता दिया। इसके बाद मामला कई सालों तक कोर्ट में चलता रहा।

इस मामले में मुस्लिम पक्ष की ओर से ब्रह्मचारी कृष्णदत्त महाराज को प्रतिवादी बनाया। इस मामले में करीब 100 बीघा जमीन के मालिकाना हक को लेकर मामला कोर्ट चलता रहा। हिंदू पक्ष की ओर से कोर्ट में सबूत पेश किए गए। कोर्ट में सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों की ओर से दलीलें दी गई और सबूत पेश किए गए। हिंदू पक्ष का कहना है कि लाक्षागृह का महाभारत काल से मौजूद है। इसका इतिहास पांडवों से जुड़ा है।

Advertisement

मुस्लिम पक्ष की ओर से इस मामले में कहा गया कि बरनावा में प्राचीन टीले पर शेख बदरूद्दीन की दरगाह और कब्रिस्तान है। वह सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड में दर्ज होने के साथ ही रजिस्टर्ड है। दूसरी तरफ बरनावा के लाक्षागृह स्थित संस्कृत विद्यालय के प्रधानाचार्य आचार्य अरविंद कुमार शास्त्री का कहना है कि यह एतिहासिक टीला महाभारत कालीन लाक्षाग्रह है। विवादित 108 बीघे जमीन पर पांडव कालीन एक सुरंग है। दावा किया जाता है कि इसी सुरंग के जरिए पांडव लाक्षागृह से बचकर भागे थे। इतिहासकारों का दावा है कि इस जगह पर जो अधिकतर खुदाई हुई है।

बता दें कि एएसआई की देखरेख में यहां 1952 में खुदाई भी की गई थी इसमें कई दुर्लभ अवशेष भी मिले थे। यहां खुदाई के दौरान 4500 हजार साल पुराने बर्तन भी मिले थे जो महाभारत काल के बताए गए। महाभारत में भी लाक्षागृह की कहानी का वर्णन मिलता है। दुर्योधन ने पांडवों का जलाकर मारने के लिए एक योजना बनाई थी। उसने अपने मंत्री से इस लाक्षागृह का निर्माण कराया था।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो