scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बजरंग पूनिया का WFI के चयन ट्रॉयल में जाने से इनकार, दिल्ली हाई कोर्ट की ली शरण; सरकार की चुप्पी पर उठाए सवाल

बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक और विनेश फोगाट रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के द्वारा आयोजित किए जा रहे ट्रायल्स के समर्थन में नहीं है।
Written by: खेल डेस्‍क
नई दिल्ली | February 29, 2024 18:08 IST
बजरंग पूनिया का wfi के चयन ट्रॉयल में जाने से इनकार  दिल्ली हाई कोर्ट की ली शरण  सरकार की चुप्पी पर उठाए सवाल
साक्षी मलिक, बजरंग पूनिया और विनेश फोगाट (Source- AP Photo)
Advertisement

आगामी राष्ट्रीय ट्रायल में भाग लेने के भारतीय कुश्ती महासंघ के न्योते को ठुकराते हुए अनुभवी पहलवान बजरंग पूनिया ने दिल्ली उच्च न्यायालय में आपात संयुक्त याचिका दायर करके 10 और 11 मार्च को डब्ल्यूएफआई द्वारा आयोजित चयन ट्रायल पर रोक लगाने की मांग की है।

दिल्ली उच्च न्यायालय में पहुंचे बजरंग

विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि बजरंग, विनेश फोगाट, साक्षी मलिक और उनके पति सत्यव्रत कादियान ने बुधवार को अदालत की शरण ली है। मामले की सुनवाई शुक्रवार को होगी। बजरंग ने याचिका दायर करने की पुष्टि नहीं की लेकिन भारतीय कुश्ती पर सरकार की चुप्पी पर सवाल दागे। पिछले दो महीने से रूस में अभ्यास कर रहे बजरंग ने पीटीआई से कहा कि अगर ट्रायल संजय सिंह की अगुवाई वाली डब्ल्यूएफआई करा रही है तो वह इसमें हिस्सा नहीं लेंगे।

Advertisement

ट्रायल में हिस्सा लेना चाहते हैं बजरंग

उन्होंने कहा ,‘‘अगर मुझे ट्रायल में भाग नहीं लेना होता तो मैं अपने अभ्यास पर 30 लाख रूपये खर्च नहीं करता लेकिन निलंबित डब्ल्यूएफआई ट्रायल कैसे करा रहा है। सरकार इसे मंजूरी कैसे दे सकती है।’’ उन्होंने कहा ,‘‘मुझे समझ में नहीं आता कि भारत सरकार द्वारा निलंबित खेल ईकाई ट्रायल का ऐलान कैसे कर सकती है। सरकार क्यों चुप है। अगर तदर्थ समिति या सरकार ट्रायल करायेगी तो ही हम इसमें भाग लेंगे।’’

विनेश-साक्षी भी बजरंग के साथ

डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष संजय सिंह ने प्रदर्शनकारी पहलवानों से अतीत को भुलाकर ट्रायल में भाग लेने के लिये कहा। बजरंग ने कहा कि वह अकेले नहीं बल्कि साक्षी मलिक और विनेश फोगाट भी ट्रायल में नहीं उतरेंगी। उन्होंने कहा ,‘‘ यह हमारा संयुक्त फैसला है। इसमें हम साथ हैं।’’ साक्षी और विनेश से इस बारे में संपर्क नहीं हो सका है।

ट्रायल्स के बाद होगा सीनियर कैंप

 भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) करीब 15 महीने बाद सीनियर राष्ट्रीय शिविर की तैयारी कर रहा है और किसान आंदोलन के कारण शिविर पटियाला की बजाय दिल्ली में लग सकता है । डब्ल्यूएफआई के राष्ट्रीय शिविर जनवरी 2023 के बाद से बंद है जब देश की तीन शीर्ष पहलवानों ने तत्कालीन अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों को लेकर प्रदर्शन किया था । इंदिरा गांधी स्टेडियम में 10 और 11 मार्च को होने वाले ट्रायल के तुरंत बाद राष्ट्रीय शिविर शुरू होगा।

Advertisement

भाषा इनपुट के साथ

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो