scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कुश्ती ने दिखाई जंगल के बाहर की दुनिया, दंगल जीत भरा परिवार का पेट; दिल छू लेगी रेसलिंग की 'मोगली' की कहानी

लीना हरियाणा के हलियल तलुक के जंगलों में रहती हैं। उन्होंने वहां रहकर रेसलिंग में सुशील कुमार जैसी सफलता हासिल करने का सपना देखा है।
Written by: Shivani Naik | Edited By: Riya Kasana
नई दिल्ली | February 01, 2024 16:24 IST
कुश्ती ने दिखाई जंगल के बाहर की दुनिया  दंगल जीत भरा परिवार का पेट  दिल छू लेगी रेसलिंग की  मोगली  की कहानी
लीना सिड्डी कर्नाटक की रेसलर हैं जो कि अफ्रीकन मूल की हैं।
Advertisement

पुणे हुए रेसलिंग ट्रायल्स में कर्नाटक की लीना एंथो सिड्डी भले ही मेडल जीतने से चूक गई लेकिन उनका वहां तक पहुंचना कई लड़कियों के लिए मिसाल है। लीना का परिवार कर्नाटक के उतरा कन्नड़ जिले के हारियल तालुक के जंगलों में रहता है। लीना अफ्रीकन मूल के भारतीय समुदाय सिड्डी का हिस्सा है। यह समुदाय जंगलों में ही रहता है और वहां से बाहर आने में बहुत असहज महसूस करता है।

शादियों में जाकर खाना खाता था परिवार

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में लीना ने बताया कि उनका परिवार खाने के लिए भी दूसरों पर मोहताज होता था लेकिन खेल के कारण उनकी जिंदगी में काफी कुछ बदल गया। लीना ने कहा, 'मेरे पिता हमें दूसरों की शादियों में ले जाते थे ताकि हमें पेट भर के खाना मिल सके। हम दूसरों की जमीन पर फसल उगाते थे और उसका ज्यादातर हिस्सा जमीन के मालिक को देते थे। इसी कारण पूरे परिवार को खाना खिलाना मुश्किल होता था।' लीना 11 भाई-बहन है और सबकी जिम्मेदारी पिता पर थी। साइ होसटल में चयन के बाद लीना को पूरी डाइट मिलने लगी।

Advertisement

कुश्ती के कारण देखी जंगलों के बाहर की दुनिया

अपने समुदाय के बारे में बात करते हुए सिड्डी ने कहा, 'हम सिड्डी समुदाय के लोग आसानी से जंगल से बाहर नहीं निकलते। हमें असहज महसूस होता है। हर कोई हमें अजीब तरीके से देखता है। लेकिन कुश्ती के कारण मैं जंगल के बाहर निकली और दुनिया देखी। मेरी वजह से बाकी लड़कियां भी कुश्ती करने लगी है।'

दंगल से पाला परिवार का पेट

लीना कुश्ती में आने का श्रेय अपने पिता को दिया है। उन्होंने कहा, 'मेरे पिता को कबड्डी और कुश्ती पसंद थी लेकिन उन्हें लोकल क्लब में मौका नहीं मिला। जब 2008 और 2012 में सुशील कुमार मेडल लेकर वापस आए तो सभी उनसे प्रेरित हुए। पिता ने तभी फैसला कर लिया कि उनकी अगली औलाद रेसलर बनेगी जो सुशील की तरह ओलंपिक में खेलेगी। इसी कारण जब मैं पांचवीं कक्षा में थी तभी से मेरी ट्रेनिंग शुरू हो गई। मैं तब गांव के दंगल में हिस्सा लेती थी और उसी कमाई से परिवार का पेट भी पालती थी'

सुशील कुमार से मिली प्रेरणा

दंगल में हिस्सा लेकर न सिर्फ लीना को पैसे मिले बल्कि उनके खेल में भी सुधार हुआ। वह यूट्यूब पर सुशील कुमार की वीडियो देखती थीं और उसी तरह कुश्ती करने की कोशिश की। उन्होंने लिखा, 'मैं पहले सोचती थी कि यहां क्यों आई। लोग मुझे ताने मारते थे। फिर मेरे कोच ने समझाया कि कोई कुछ भी कहे तुम मत सुनो। बस लड़ो और जीतो। मैं खेल से नौकरी हासिल करती हूं। '

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो