scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

भारतीय कुश्ती महासंघ से निलंबन हटा, लेकिन यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग को लिखित में देनी होगी ये गारंटी

डब्ल्यूएफआई को यूडब्ल्यूडब्ल्यू को लिखित गारंटी देनी होगी कि उसके किसी भी खेल आयोजन में किसी भी पहलवान के साथ भेदभाव नहीं किया जाएगा।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: February 13, 2024 21:18 IST
भारतीय कुश्ती महासंघ से निलंबन हटा  लेकिन यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग को लिखित में देनी होगी ये गारंटी
बेलग्रेड में 2022 में हुई विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में भारतीय पहलवान विनेश फोगाट ने कांस्य पदक जीता था। (सोर्स- फाइल फोटो एएनआई/एसएआई मीडिया)
Advertisement

यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग (यूडब्ल्यूडब्ल्यू) ने भारतीय कुश्ती महासंघ (डब्ल्यूएफआई) पर लगा निलंबन तत्काल प्रभाव से हटा लिया है। निलंबन हटने का मतलब है कि भारतीय पहलवान यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग की प्रतियोगिताओं में देश के झंडे (तिरंगे) के नीचे प्रतिस्पर्धा कर सकेंगे। UWW ने पिछले साल 23 अगस्त को WFI को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया था, क्योंकि भारतीय कुश्ती महासंघ तय समय पर चुनाव कराने में विफल रहा था।

यूडब्ल्यूडब्ल्यू की ओर से जारी बयान में कहा गया, UWW ब्यूरो ने 9 फरवरी 2024 को निलंबन की समीक्षा के लिए बैठक की और कुछ शर्तों के तहत निलंबन हटाने का फैसला किया। उदाहरण के तौर पर WFI को अपने एथलीट आयोग के चुनाव फिर से आयोजित करने होंगे।

Advertisement

किसी के साथ नहीं होना चाहिए भेदभाव: यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग

रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया को यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग को तुरंत लिखित गारंटी देनी होगी कि सभी पहलवानों को डब्ल्यूएफआई के सभी आयोजनों, विशेष रूप से ओलंपिक खेलों और किसी भी अन्य प्रमुख राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं के लिए बिना किसी भेदभाव के हिस्सा लेने देने के लिए विचार किया जाएगा।

एथलीट आयोग के चुनाव भी कराने होंगे: यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग

इसमें वे तीन एथलीट (विनेश फोगाट, बजरंग पूनिया और साक्षी मलिक) भी शामिल हैं जिन्होंने पूर्व अध्यक्ष (बृजभूषण शरण सिंह) के कथित गलत कामों का विरोध किया था। विश्व संस्था ने डब्ल्यूएफआई से अपने एथलीट आयोग के चुनाव फिर से आयोजित कराने को भी कहा है।

यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग पहलवानों के संपर्क में है और आने वाले दिनों में उनसे फॉलो-अप लेता रहेगा। बयान में कहा गया, यूडब्ल्यूडब्ल्यू अनुशासनात्मक चैंबर (पिछले साल 23 अगस्त को) ने फैसला किया था कि उसके पास संस्था पर निलंबन लगाने के लिए पर्याप्त आधार हैं क्योंकि महासंघ में कम से कम छह महीने तक यही स्थिति (चुनाव नहीं) बनी रही।

Advertisement

यह निलंबन कथित यौन उत्पीड़न और भ्रष्टाचार के कार्यों के लिए तत्कालीन डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष के खिलाफ कई दिनों के विरोध प्रदर्शन के बाद लगाया गया था। बजरंग पूनिया, साक्षी मलिक और विनेश फोगाट अपना विरोध दर्ज कराने के लिए सड़क पर उतर आए थे और बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ कार्रवाई की गुहार लगाते हुए उन्हें अक्सर रोते हुए देखा गया था। इस संबंध में बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ अदालत में मामला विचाराधीन है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो