scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

मां की कोख में ही कायम हो गया था सुनील छेत्री और फुटबॉल का रिश्ता, अब वाइकिंग क्लैप करते नहीं दिखेगा भारत का यह 'लाड़ला'

भारतीय कप्तान सुनील छेत्री ने अपने 19 साल के करियर को अलविदा कह दिया। उन्होंने अपने करियर में 151 मैच खेले जिसमें उन्होंने 94 गोल किए हैं।
Written by: Riya Kasana
June 07, 2024 14:30 IST
मां की कोख में ही कायम हो गया था सुनील छेत्री और फुटबॉल का रिश्ता  अब वाइकिंग क्लैप करते नहीं दिखेगा भारत का यह  लाड़ला
भारतीय फुटबॉलर सुनील छेत्री ने लिया संन्यास
Advertisement

चेहरे पर प्यारी मुस्कान, आंखों में गर्व की चमक और फैंस के सामने हाथ जोड़े खड़े सुनील छेत्री। सालों से यह तस्वीर भारतीय फुटबॉल की नींव है। लगभग दो दशक से टीम इंडिया की स्कोरशीट में सुनील छेत्री का नाम नजर आता रहा। स्टेडियम में 11 नंबर की जर्सी पहने फैंस का हुजूम नजर आता रहा और नजर आता रहा भारत में फुटबॉल के लिए बढ़ता प्यार। पर अब यह सब नहीं होगा, अब सुनील छेत्री कभी नीली जर्सी में नहीं दिखेंगे, अब छेत्री डिफेंडर्स को छकाते नहीं दिखेंगे, अब छेत्री भारतीय फुटबॉल टीम के साथ वाइकिंग क्लैप करते नहीं दिखेंगे। सुनील छेत्री ने छह जून को अपने अंतरराष्ट्रीय करियर को अलविदा कह दिया।

Advertisement

2005 में हुई सफर की शुरुआत

छेत्री को फुटबॉल विरासत में मिली। उनके मां-बाप दोनों ही फुटबॉलर थे। ऐसे में छेत्री और फुटबॉल का रिश्ता मां की कोख में रहते हुए कायम हो गया था। सुनील छेत्री ने साल 2005 में भारतीय टीम के लिए अपना पहला मैच खेला। सुनील छेत्री के शब्दों में कहें तो वह यह दिन आज भी नहीं भूलते। उन्हें उस पल महसूस की हुई खुशी आज भी याद है। छेत्री ने अपने डेब्यू मैच की 80वें मिनट में गोल किया। 20 साल के छेत्री के गोल के कारण मैच 1-1 से ड्रॉ हुई। जब छेत्री टीम इंडिया के लिए डेब्यू किया तब बाईचुंग भूटिया सबसे बड़े स्टार थे। जैसे-जैसे भूटिया का संन्यास का समय करीब आया सुनील छेत्री चमकने लगे। वह स्ट्राइकर से लेकर कप्तानी में भूटिया के उत्तराधिकारी बन गए।

Advertisement

खाली स्टेडियम देख निराश हो गए थे सुनील छेत्री

सुनील छेत्री का 19 साल का करियर उनके लिए जिम्मेदारी, दबाव और गर्व का मिश्रण रहा। साल 2018 के कॉन्टिनेंटल कप में भारतीय टीम को ताइवान के खिलाफ 0-5 से हार मिली थी। इस हार के साथ-साथ खाली स्टेडियम ने छेत्री को निराश किया। छेत्री को इस बात का अंदाजा हो रहा था कि भारतीय फुटबॉल के फैंस टीम से दूर हो रहे हैं। न तो स्टेडियम में भरे स्टैंड्स नजर आते हैं और न ही सोशल मीडिया पर टीम को प्यार मिलता है। छेत्री ने इसके बाद वह किया जिसने भारतीय फैंस को एक बार फिर से इस खेल से प्यार करना सीखा दिया।

वायरल हुआ छेत्री का ट्वीट

ताइवान के खिलाफ मैच के बाद सुनील छेत्री ने एक वीडियो ट्विटर पर शेयर किया। इस वीडियो में हाथ जोड़कर फैंस से उन्हें और उनकी टीम को स्टेडियम में आकर देखने की अपील की। उन्होंने कहा, 'आप सभी के लिये जिन्होंने भारतीय फुटबॉल से उम्मीदें छोड़ दी हैं, हम अनुरोध करते हैं कि मैदान पर हमें खेलते देखने के लिये आएं। स्टेडियम आकर हमारे मुंह पर हमें गालियां दीजिये, हो सकता है कि एक दिन हमारे बारे में आपकी राय बदल जाये और आप हमारे लिये तालियां बजाने लगे। आपका समर्थन हमारे लिये बहुत जरूरी है.'

छेत्री का 100वां मैच बना यादगार

इसके बाद अगले मैच में स्टेडियम खचाखचा भरा नजर आया। पूरा स्टेडियम नीले रंग में रग गया। यह छेत्री के करियर का 100वां मैच भी था। टीम इंडिया ने फैंस को निराश नहीं किया। भारत ने इस मैच में केन्या को 3-0 से मात दी। सिर्फ इतना ही नहीं भारत ने यह टूर्नामेंट (इंटरकॉन्टिनेंटल कप) भी अपने नाम किया। इसके बाद शुरू हुआ टीम इंडिया, फैंस और वाइकिंग क्लैप का सिलसिला। सिर्फ घर पर ही नहीं भारतीय टीम जब विदेश खेलने जाती थी तो स्टेडियम भारतीय फैंस से भर जाता था। एयरपोर्ट से लेकर होटल के बाहर तक फैंस तिरंगा लिए खड़े दिखाई देते थे। 11 नंबर की जर्सी वाले सुनील छेत्री ने परफेक्ट 10 वाला काम करके दिखाया।

Advertisement

39 साल की उम्र में भी भारतीय टीम के सबसे बड़े स्टार रहे छेत्री

छेत्री के लिए उस खेल से दूर होना आसान नहीं है जिसने उन्हें इतना कुछ दिया हो। उन्होंने संन्यास का ऐलान तब किया जब उन्हें यह लगा कि अब वह मानसिक तौर पर और खेलने के लिए तैयार नहीं है। 39 साल की उम्र में भी सुनील टीम के सबसे फिट खिलाड़ी थे, वह फॉर्म में थे, टीम के लिए लगातार गोल कर रहे थे। कोई भी यह नहीं कह सकता कि छेत्री का करियर ढलान पर था। लेकिन छेत्री ने हमेशा की तरह अपने दिल की सुनी और इस खेल को अलविदा कह दिया।

Advertisement

जुबान से नहीं आंसू से सब बयां कर गए छेत्री

छह जून को सुनील छेत्री अपने 151वीं बार मैदान पर उतरे। वह इस मैच में गोल नहीं कर सके और न ही टीम कुवैत के खिलाफ फीफा वर्ल्ड कप क्वालिफायर मैच में जीत हासिल कर सकी। कई खेल सितारों की तरह छेत्री के करियर को भी परीकथा जैसा अंत नहीं मिला। मैच खत्म होने के बाद छेत्री शुक्रिया के अलावा कुछ नहीं कह सके लेकिन उनकी आंखों के आंसू 19 साल की कहानी बयां कर गए। छेत्री जर्सी को छोड़कर अब सूट पहनकर टीम इंडिया को चीयर करेंगे। मैदान की जगह स्टैंड्स और कमेंट्री बॉक्स में दिखेंगे लेकिन फैंस के लिए छेत्री हमेशा भारतीय फुटबॉल संज्ञा के सबसे बेहतरीन विशेषण रहेंगे।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो