scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

100 दिन दूर पेरिस: वर्ल्ड चैंपियन नीरज चोपड़ा, ट्रायल में हारे बजरंग पूनिया और रवि दहिया, चोट से उबरीं मीराबाई चानू; 2024 में कितनी मजबूत टोक्यो ओलंपिक के मेडलिस्ट की दावेदारी

भारत ने साल 2021 में हुए टोक्यो ओलंपिक में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए सात मेडल हासिल किए थे।
Written by: खेल डेस्‍क | Edited By: Riya Kasana
नई दिल्ली | Updated: April 17, 2024 21:43 IST
100 दिन दूर पेरिस  वर्ल्ड चैंपियन नीरज चोपड़ा  ट्रायल में हारे बजरंग पूनिया और रवि दहिया  चोट से उबरीं मीराबाई चानू  2024 में कितनी मजबूत टोक्यो ओलंपिक के मेडलिस्ट की दावेदारी
पेरिस ओलंपिक में अब केवल 100 दिन शेष है।
Advertisement

पेरिस ओलंपिक की शुरुआत में अब सिर्फ 100 दिन बचे हैं। दुनिया भर के एथलीट्स की तरह भारतीय खिलाड़ी भी तैयारी में जुट गए हैं। पिछले साल एशियन गेम्स में भारतीय खिलाड़ियों ने पहली बार 100 से ज्यादा मेडल जीते थे। इसके बाद से ही पेरिस ओलंपिक को लेकर भारतीय खिलाड़ियों से उम्मीदें बहुत बढ़ गईं हैं।

खिलाड़ियों के हाल के प्रदर्शन को देखकर माना जा रहा है कि पेरिस ओलंपिक में भारत दहाई का आंकड़ा पार कर सकता है। पेरिस ओलंपिक में उन खिलाड़ियों पर भी नजर होगी जिन्होंने पिछले सीजन यानी टोक्यो ओलंपिक में मेडल जीते थे। यहां जानेंगे कि टोक्यो ओलंपिक में पदक जीतने वाले भारतीय खिलाड़ियों की पेरिस में होने वाले खेलों के महाकुंभ को लेकर दावेदारी कितनी मजबूत है?

Advertisement

नीरज चोपड़ा

भारतीय एथलीट नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया था। जैवलिन थ्रो में जीता गया उनका गोल्ड भारत के इतिहास का दूसरा व्यक्तिगत गोल्ड मेडल था। नीरज चोपड़ा ने भारत का लंबा इंतजार खत्म किया था।

नीरज मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन हैं। उन्होंने टोक्यो ओलंपिक के बाद डायमंड लीग का खिताब भी जीता। उन्होंने बीते साल हुए एशियन गेम्स में भी गोल्ड मेडल अपने नाम किया। नीरज पेरिस ओलंपिक में देश के लिए गोल्ड मेडल जीतने के सबसे बड़े दावेदारों में से एक हैं।

मीराबाई चानू

मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में 49 किलोग्राम वर्ग में सिल्वर मेडल जीता था। वह कर्णम मल्लेश्वरी के बाद भारत के लिए वेटलिफ्टिंग में मेडल जीतने वाली दूसरी भारतीय खिलाड़ी बनी थीं। मीराबाई के लिए पिछले कुछ साल अच्छे नहीं रहे हैं। वह एशियन गेम्स से खाली हाथ लौटी थीं। इसी दौरान उन्हें चोट भी लग गई थी। वह 6 महीने तक एक्शन से दूर रहीं।

Advertisement

मीराबाई चानू ने इस महीने की शुरुआत में आईडब्ल्यूएफ विश्व कप में महिलाओं के 49 किग्रा भार वर्ग के ग्रुप बी में तीसरे स्थान पर रहकर पेरिस ओलंपिक का टिकट कटाया। मीराबाई की नजर अब ओलंपिक में दूसरी बार मेडल जीतने पर है। इस बार उनकी निगाह गोल्ड मेडल पर है।

Advertisement

लवलिना बोरगोहेन

भारत की युवा बॉक्सर लवलिना बोरगोहेन ने टोक्यो ओलंपिक में 69 किलोग्राम वर्ग में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। वह विजेंदर सिंह और मैरीकॉम के बाद ओलंपिक मेडल जीतने वाली तीसरी भारतीय बॉक्सर हैं।

बोगोहेन भी पेरिस ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुकी हैं। उन्होंने बीते साल हुए एशियन गेम्स में सिल्वर मेडल जीतकर अपना टिकट पक्का किया था। उन्होंने पिछले साल भारत में हुई वर्ल्ड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में भी गोल्ड मेडल जीता था। वह एक बार फिर मजबूत दावेदार होंगी।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने पिछले साल टोक्यो ओलंपिक में मिडफील्डर मनप्रीत सिंह की कप्तानी में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। 41 साल के इंतजार के बाद भारत को इस खेल में ओलंपिक में मेडल हासिल हुआ। वह इस बार पेरिस में अपने मेडल का रंग बदलने उतरेंगे।

पिछली बार भारत को टोक्यो का टिकट कटाने के लिए ओलंपिक क्वालिफायर खेलना पड़ा था। हालांकि इस बार टीम ने एशियन गेम्स में गोल्ड जीतकर सीधे पेरिस का टिकट कटाया। टीम की कप्तानी इस बार हमनरप्रीत सिंह के हाथों में हैं। टीम इस बार मेडल का रंग बदलने उतरेगी।

पीवी सिंधु

भारत की बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। वह देश के लिए दो मेडल जीतने वाली पहली महिला खिलाड़ी बनी थी। उन्होंने रियो ओलंपिक में सिल्वर मेडल जीता था।

वह अपनी रोड टू पेरिस रैंकिंग के आधार पर पेरिस का टिकट कटा चुकी हैं। बीते कुछ समय से उनका फॉर्म साथ नहीं दे रहा है। वह कोई भी बड़ा टूर्नामेंट जीतने में कामयाब नहीं हो पाई हैं। उन्होंने पिछले साल जुलाई में मलेशियाई कोच मोहम्मद हाफिज हाशिम के साथ ट्रेनिंग की लेकिन फिर भी कामयाबी नहीं मिली। वह फिलहाल दिग्गज खिलाड़ी प्रकाश पादुकोण के साथ पेरिस ओलंपिक की तैयारी कर रही हैं।

रवि दहिया

भारतीय रेसलर रवि दहिया ने बीते ओलंपिक में 57 किलोग्राम वर्ग में सिल्वर मेडल जीता था। वह देश के लिए सिल्वर मेडल जीतने वाले दूसरे भारतीय रेसलर थे। उन्हें फाइनल में दो बार के वर्ल्ड चैंपियन जवूर उगयूव से हार मिली थी।

रवि दहिया की स्थिति इस समय ठीक नहीं है। उन्हें भी चोट लगी थी जिसके बाद उन्होंने वापसी की। हालांकि वह वर्ल्ड और एशियन ओलंपिक क्वालिफायर के ट्रायल्स में हार गए। भारत को अब तक इस कैटेगरी में कोटा भी हासिल नहीं हुआ है। ऐसे में उनके लिए पेरिस की राह काफी मुश्किल हैं।

बजरंग पूनिया

बजरंग पूनिया ने भी साल 2021 में टोक्यो में हुए ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। यह टोक्यो में भारत का छठा मेडल था जिससे उन्होंने लंदन ओलंपिक के अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन की बराबरी की थी। वह टोक्यो में डेब्यू ओलंपिक में मेडल जीतने वाले तीसरे भारतीय खिलाड़ी बने थे।

बजरंग पूनिया के लिए बीता साल अच्छा नहीं रहा था। बीते साल वह सड़कों पर धरना करते हुए नजर आए। एक साल बाद उन्होंने एशियन गेम्स के साथ वापसी की लेकिन यहां भी निराशा हाथ लगी। बजरंग एशियन गेम्स से खाली हाथ लौटे। इसके बाद एशियन और वर्ल्ड क्वालिफायर के ट्रायल में भी बजरंग को हार मिली। भारत इस कैटेगरी में भी अब तक कोटा हासिल नहीं कर पाया है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो