scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पेरिस ओलंपिक से पहले स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी ने लिया संन्यास, वर्ल्ड चैंपियनशिप में देश के लिए जीता था मेडल

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी बी साईं प्रणीत ने 2019 में वर्ल्ड चैंपियनशिप में मेडल जीता था।
Written by: खेल डेस्‍क | Edited By: Riya Kasana
नई दिल्ली | Updated: March 12, 2024 11:11 IST
पेरिस ओलंपिक से पहले स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी ने लिया संन्यास  वर्ल्ड चैंपियनशिप में देश के लिए जीता था मेडल
बी साई प्रणीत ओलंपिक में हिस्सा ले चुके हैं।
Advertisement

पेरिस ओलंपिक से पहले भारत की मेडल की उम्मीदों को एक और झटका लगा है। देश के स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी बी साई प्रणीत ने संन्यास का ऐलान कर दिया है। 31 साल के इस खिलाड़ी ने देश के लिए कई मेडल जीते जिसमें वर्ल्ड चैम्पियनशिप का ब्रॉन्ज मेडल भी शामिल है।

टोक्यो ओलंपिक में किया देश का प्रतिनिधित्व

हैदराबाद के 31 वर्ष के प्रणीत ने टोक्यो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया था लेकिन उसके बाद से चोटों से जूझ रहे हैं। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर लिखा ,‘‘मिले-जुले जज्बात के साथ मैं इन शब्दों के जरिये उस खेल को अलविदा कह रहा हूं जो 24 से भी ज्यादा साल से मेरे लिये सब कुछ रहा है।’’ उन्होंने लिखा ,‘ आज मैं नये अध्याय की शुरूआत कर रहा हूं और अपने अब तक के सफर के लिये अभिभूत और कृतज्ञ हूं।’’

Advertisement

बैडमिंटन को बताया पहला प्यार

प्रणीत ने लिखा ,‘‘ बैडमिंटन मेरा पहला प्यार और साथी रहा है। इसने मेरे वजूद को मायने दिये। जो यादें हमने साझा की, जो चुनौतियां हमने पार की , वे सदैव मेरे ह्र्दय में रहेंगी।’’ प्रणीत अगले महीने अमेरिेका में ट्रायंगल बैडमिंटन अकादमी के मुख्य कोच के रूप में जुड़ेंगे। उन्होंने पीटीआई से कहा ,‘‘ मैं अप्रैल में वहां जाऊंगा। मैं क्लब का मुख्य कोच रहूंगा और सारे खिलाड़ी मेरे मार्गदर्शन में खेलेंगे। एक बार वहां जाने के बाद ही विस्तार से बता सकूंगा।’’

अपने दो दशक से लंबे अंतरराष्ट्रीय कैरियर में प्रणीत ने 2017 सिंगापुर ओपन सुपर सीरिज खिताब जीता। इसके अलावा स्विटजरलैंड के बासेल में 2019 विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य अपने नाम किया। वह विश्व रैंकिंग में दसवें नंबर तक पहुंचे और तोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई भी किया लेकिन सारे मैच हारकर ग्रुप चरण से ही बाहर हो गए थे।

Advertisement

उन्होंने लिखा ,‘‘ मेरी सफलता के पीछे मेरे परिवार , मेरे दादा दादी, माता पिता और पत्नी की अथक हौसलाअफजाई रही है । उनके सहयोग के बिना कुछ भी संभव नहीं था।’’ उन्होंने लिखा ,‘‘ पुलेला गोपीचंद अन्ना, गोपीचंद अकादमी, मेरे सहयोगी और कोचिंग स्टाफ, बचपन के कोच आरिफ सर और गोवर्धन सर को भी धन्यवाद ।’’ प्रणीत ने लिखा ,‘‘ भारतीय बैडमिंटन संघ, भारतीय खेल प्राधिकरण, टॉप्स, तेलंगाना खेल प्राधिकरण, योनेक्स, ओएनजीसी, गो स्पोटर्स, ओजीक्यू, एपीएसीए, वाट्स इन द गेम, पीबीएल , सभी को धन्यवाद ।’’

Advertisement

भाषा इनपुट के साथ

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो