scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

ओडिशा में फिर हादसा, बिना इंजन के चल पड़ी मालगाड़ी, छह मजदूरों की कटने से मौत, दो घायल

घायलों को कटक के एससीबी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पूर्व तटीय रेलवे ने एक बयान में कहा, “ये मजदूर रेलवे के काम के लिए ठेकेदार ने रखे थे।
Written by: संजय दुबे | Edited By: संजय दुबे
Updated: June 07, 2023 22:27 IST
ओडिशा में फिर हादसा  बिना इंजन के चल पड़ी मालगाड़ी  छह मजदूरों की कटने से मौत  दो घायल
हादसे में घायल मजदूर की हालत गंभीर बनी हुई है। (प्रतीकात्मक तस्वीर)
Advertisement

अभी हाल ही में ओडिशा में भीषण रेल हादसे में 250 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी और एक हजार से ज्यादा लोग घायल हो गये थे। इस सदमे से लोग अभी उबर भी नहीं पाये हैं कि बुधवार को जाजपुर क्योंझर रोड रेलवे स्टेशन पर एक मालगाड़ी से कटकर छह मजदूरों की मौत हो गई और दो अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए।

घटना के वक्त तेज बारिश हो रही थी। ऐसे में वहां काम करने वाले मजदूर भीगने से बचने के लिए खड़ी मालगाड़ी के नीचे बैठे हुए थे। इस दौरान अचानक बिना इंजन के ही मालगाड़ी चलने लगी। मजदूरों को बाहर निकलने का मौका ही नहीं मिला।

Advertisement

रेलवे के एक प्रवक्ता ने कहा, “अचानक आंधी चली। मजदूर बगल की रेल लाइन पर काम कर रहे थे, जहां एक मालगाड़ी खड़ी थी। उन्होंने इसके नीचे शरण ली, लेकिन दुर्भाग्य से मालगाड़ी जिसमें इंजन नहीं लगा था वह चलने लगी जिससे दुर्घटना हुई।”

उन्होंने कहा कि इससे छह मजदूरों की मौत हो गई और दो घायल हो गए। घायलों को कटक के एससीबी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पूर्व तटीय रेलवे ने एक बयान में कहा, “ये मजदूर रेलवे के काम के लिए ठेकेदार ने रखे थे। मालगाड़ी में इंजन नहीं था, लेकिन तेज आंधी से यह अपने आप चलने लगी थी।

Advertisement

हादसे के पांच दिन बाद कोरोमंडल एक्सप्रेस चली

ओडिशा के बालासोर जिले में भीषण हादसे का शिकार होने के पांच दिन बाद शालीमार-चेन्नई कोरोमंडल एक्सप्रेस की अप ट्रेन बुधवार को अपने तय समय से पांच मिनट की देरी से अपराह्न तीन बजकर 25 मिनट पर शालीमार स्टेशन से रवाना हुई। शालीमार स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर दो पर ट्रेन के पहुंचते ही लोगों में उसके द्वितीय श्रेणी के दो डिब्बों में चढ़ने की होड़ लग गई और जल्दी ही दोनों डिब्बे खचाखच भर गए। ट्रेन में कई लोग थे। उनमें से एक रंजीत मंडल दो जून को हुए हादसे के बाद से लापता अपने बेटे की तलाश में इससे भुवनेश्वर जा रहे हैं। ॊ

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो