scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Fact check: पीएम मोदी ने नहीं कहा कि गुरु गोबिंद सिंह के "पंज प्यारे" में से एक उनके चाचा थे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में यह नहीं कहा कि गुरु गोबिंद सिंह जी के पंज प्यारे में से एक उनके चाचा थे।
Written by: जनसत्ता ऑनलाइन
May 28, 2024 18:06 IST
fact check  पीएम मोदी ने नहीं कहा कि गुरु गोबिंद सिंह के  पंज प्यारे  में से एक उनके चाचा थे
वायरल दावा गलत है। (PC-X)
Advertisement

लॉजिकली फैक्ट्स: सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में दावा किया गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि सिखों के दसवें और अंतिम गुरु, गुरु गोबिंद सिंह के 'पंज प्यारे' में से एक उनके चाचा थे। पंज प्यारे, जिन्हें पांच प्यारों के नाम से भी जाना जाता है, सिख धर्म में एक महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। यह नाम 1699 में आनंदपुर साहिब में गुरु गोबिंद सिंह द्वारा पांच सिख पुरुषों, भाई धाय सिंह, भाई धरम सिंह, भाई हिम्मत सिंह, भाई मोहकम सिंह और भाई साहिब सिंह को दिया गया था।

Advertisement

वायरल वीडियो में मोदी को नारंगी पगड़ी पहने एक रैली को संबोधित करते हुए दिखाया गया है, और एक पंजाबी वॉयसओवर में दावा किया गया है, "मोदी ने कहा कि पंज प्यारे में से एक उनके चाचा थे।" इसी दावे के साथ कई यूज़र्स ने वीडियो शेयर किया है। एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर एक यूज़र ने लिखा, “ब्रेकिंग न्यूज पंजाब में मोदी. आगामी लोकसभा चुनाव हारने के डर ने नरेंद्र मोदी के "मानसिक स्वास्थ्य" पर भारी असर डाला है। नरेंद्र मोदी ने दावा किया है कि गुरु गोबिंद सिंह के "पंच प्यारे" में से एक उनके चाचा थे। इन पोस्ट्स के आर्काइव वर्ज़न यहां और यहां देखे जा सकते हैं।

Advertisement

वायरल पोस्ट्स के स्क्रीनशॉट. (सोर्स: एक्स/स्क्रीनशॉट)

हालांकि, हमने पाया कि दावा ग़लत है. असल में, नरेंद्र मोदी ने कहा था कि गुरु गोबिंद सिंह जी के 'पंज प्यारे' में से एक गुजरात के द्वारका से थे और इस तरह उनका पंजाब के लोगों के साथ खून का रिश्ता है.

जांच पड़ताल:

हमने पाया कि यह वीडियो मई 23, 2024 को पंजाब के पटियाला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली से लिया गया है. मूल भाषण नरेंद्र मोदी के आधिकारिक यूट्यूब चैनल (आर्काइव यहां) पर 'पीएम मोदी ने पंजाब के पटियाला में एक जनसभा को संबोधित किया' शीर्षक के साथ अपलोड किया गया था.

30 मिनट लंबे वीडियो में वायरल वीडियो वाला हिस्सा 17:53 से 18:12 के बीच देखा जा सकता है. मूल वीडियो में, मोदी को कहते हुए सुना जा सकता है, "आप ये प्रधानमंत्री की बात छोड़ दीजिये. मेरा तो आपस खून का नाता है. गुरु गोबिंद जी के पहले पंज प्यारे थे, उसमें मेरा एक 'द्वारका का' पंज प्यारों में था." यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि मोदी 'द्वारका का' शब्द का उच्चारण करते हैं जिससे वो "काका" (चाचा) जैसा सुनाई देता है.

Advertisement

हमने मोदी का पूरा भाषण ध्यान से देखा, लेकिन मोदी ने कहीं भी यह नहीं कहा कि पंज प्यारे में से कोई भी उनका चाचा था।

Advertisement

हमने भाषण का वह हिस्सा स्लो डाउन करके सुना, तो उन्हें 'द्वारका' शब्द का उच्चारण करते हुए 'द्वारिका' कहते हुए सुना, जिससे संभवतः भ्रम पैदा हुआ।

दरअसल प्रधानमंत्री मोदी ने चौथे पंज प्यारे भाई मोहकम सिंह का ज़िक्र किया, जो द्वारका (वर्तमान गुजरात) के रहने वाले थे। वह 1685 में आनंदपुर साहिब पहुंचे और 1699 में गुरु गोबिंद सिंह जी द्वारा उन्हें पंज प्यारे में से एक नामित किया गया.

निष्कर्ष: हमारी जांच में साफ़ हो जाता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में यह नहीं कहा कि गुरु गोबिंद सिंह जी के पंज प्यारे में से एक उनके चाचा थे। उन्होंने असल में कहा था कि पांच में से एक पंज द्वारका, गुजरात से थे और इस तरह पंजाब के लोगों के साथ उनके खून के रिश्ते हैं। इसलिए, वायरल दावा गलत है।

(यह फैक्‍ट-चेक मूल रूप से लॉजिकली फैक्ट्स द्वारा क‍िया गया है। यहां इसे शक्ति कलेक्टिव के सदस्‍य के रूप में पेश क‍िया जा रहा है।)

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो