scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

नीतीश से बात, कांग्रेस का साथ, अब ममता बोलीं- मैं भी अध्यादेश के खिलाफ, क्या केजरीवाल की आसान हुई राह?

अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि जहां भी गैर बीजेपी सरकार है, वहां पर काम नहीं करने दिया जाता है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
Updated: May 23, 2023 19:36 IST
नीतीश से बात  कांग्रेस का साथ  अब ममता बोलीं  मैं भी अध्यादेश के खिलाफ  क्या केजरीवाल की आसान हुई राह
ममता बनर्जी से मिले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (ANI PHOTO)
Advertisement

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) ने मंगलवार शाम को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) से मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह, राघव चड्ढा और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान भी मौजूद रहे। वहीं मुलाकात के बाद दोनों नेताओं ने बयान जारी किया।

अरविंद केजरीवाल से मुलाकात के बाद ममता बनर्जी ने कहा, "हम राज्यसभा में केंद्र सरकार के अध्यादेश का विरोध करेंगे और हम सभी विपक्ष से अपील करते हैं कि वह सभी इसका विरोध करें, ताकि एक मैसेज भी जाए। अगर सभी विपक्ष एक हो जाते हैं तो राज्यसभा में ऑर्डिनेंस पास नहीं हो पाएगा।"

Advertisement

अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि लोकतंत्र का मजाक बना दिया है। केजरीवाल ने कहा, "जहां बीजेपी सरकार नहीं बना पाती, वहां विधायक खरीद कर सरकार बनाती है। जहां बीजेपी की सरकार नहीं बनती, वहां ईडी को भेजकर विधायकों को डराया जाता है। गैर बीजेपी सरकार को काम नहीं करने दिया जाता है। हमने पंजाब, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और तेलंगाना में इसका उदाहरण देखा है। जो दिल्ली में हुआ, वह जनतंत्र के खिलाफ है।"

रविवार को अरविंद केजरीवाल ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की थी। इस दौरान नीतीश कुमार ने अरविंद केजरीवाल को भरोसा दिलाया था कि वह उनके साथ खड़े हैं और संसद में उनकी पार्टी केंद्र के आदेश का विरोध करेगी।

Advertisement

जब से केंद्र सरकार सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ अध्यादेश लेकर आई है, उसके बाद से अरविंद केजरीवाल के निशाने पर बीजेपी है। वह लगातार मोदी सरकार पर निशाना साध रहे हैं और कह रहे कि देश में तानाशाही का माहौल चल रहा है और लोकतंत्र खतरे में है।

Advertisement

कोलकाता में अरविंद केजरीवाल ने यह भी कहा कि 8 साल तक दिल्ली के लोगों ने संघर्ष किया और 8 साल बाद दिल्ली की जनता जीत गई, लेकिन इन्होंने अध्यादेश लाकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलट दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि उनके दिल में काला था, क्योंकि इन्होंने अध्यादेश उस दिन लाया, जब सुप्रीम कोर्ट छुट्टी पर जा रहा था। वैसे इस समय अध्यादेश के खिलाफ केजरीवाल को अभी और दलों का समर्थन चाहिए। अभी भी राज्यसभा में पर्याप्त नंबर मौजूद नहीं है।

असल में राज्यसभा में अभी 120 पर बहुमत है और एनडीए के पास 110 सदस्य मौजूद हैं। ऐसे में अगर एनडीए को कुछ और सदस्यों का समर्थन मिल जाता है, वो आसानी से वहां भी अध्यादेश को पास करवा सकती है। दूसरी तरफ आम आदमी पार्टी को हर कीमत पर बीजेडी और YSR का समर्थन चाहिए। अगर ये दोनों दल साथ आ जाते हैं, उस स्थिति में अध्यादेश का पास होना चुनौती हो जाएगा। लेकिन अगर इन दोनों दलों ने वॉकआउट किया या खिलाफ में वोट डाल दिया, उस स्थिति में केजरीवाल को अपने सियासी करियर का एक बड़ा झटका लगेगा।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो