scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

आरके पचौरी ने किया था महिला कर्मी का यौन उत्पीड़न, ICC की रिपोर्ट को ट्रिब्यूनल ने माना सही

आरके पचौरी फिलहाल दुनिया में नहीं हैं। उनकी लीगल टीम ने टेरी की इंटरर्नल कंप्लेंट कमेटी की जांच रिपोर्ट को चुनौती देते हुए इसे खारिज करने की मांग की थी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: शैलेंद्र गौतम
Updated: July 11, 2023 14:27 IST
आरके पचौरी ने किया था महिला कर्मी का यौन उत्पीड़न  icc की रिपोर्ट को ट्रिब्यूनल ने माना सही
टेरी के पूर्व चीफ दिवंगत आरके पचौरी। (एक्सप्रेस फोटो)
Advertisement

द एनर्जी एंड द रिसोर्स इंस्टीट्यूट (TERI) के पूर्व चीफ दिवंगत आरके पचौरी से जुड़े यौन उत्पीड़न के मामले में इंडस्ट्रियल ट्रिब्यूनल ने टेरी की इंटरर्नल कंप्लेंट कमेटी की उस जांच रिपोर्ट के सही करार दिया है जिसमें पचौरी को दोषी ठहराया गया था।

आरके पचौरी फिलहाल दुनिया में नहीं हैं। उनकी लीगल टीम ने टेरी की इंटरर्नल कंप्लेंट कमेटी की जांच रिपोर्ट को चुनौती देते हुए इसे खारिज करने की मांग की थी। उनका कहना था कि कमेटी ने जल्दबाजी और पक्षपात पूर्ण तरीके से जांच करके रिपोर्ट तैयार की है। उनकी दलील है कि महिला ने उनके खिलाफ शिकायत तब दायर की थी जब उन्होंने उसे कोई भी काम देने से इनकार कर दिया था। पचौरी की टीम का कहना है कि महिला सही से काम नहीं कर पा रही थी। इसी वजह से आरके पचौरी ने उसके साथ इस तरह का एक्शन लिया था। इसमें कहीं कोई दुर्भावना नहीं थी।

Advertisement

TERI की कमेटी ने 2015 में दाखिल की थी रिपोर्ट, पचौरी के वकीलों ने की इसे खारिज करने की मांग

राउज एवेन्यु के इंडस्ट्रियल ट्रिब्यूनल के पीठासीन अधिकारी अजय गोयल ने पचौरी की लीगल टीम की अपील को खारिज कर दिया। कंप्लेंट कमेटी ने 2015 में पचौरी के खिलाफ रिपोर्ट दाखिल की थी। ट्रिब्यूनल ने ईमेल और मैसेजेस का जिक्र करते हुए कहा कि इनको देखने के बाद साफ है कि पचौरी ने महिला का उत्पीड़न किया था। अजय गोयल ने तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा कि पुरुष को पता होना चाहिए कि महिला की सहमति और ना में क्या अंतर होता है।

महिला लगातार असहज हो रही थी लेकिन पचौरी फिर भी उसे मेल्स और फोन पर संदेश भेजे जा रहे थे। वो महिला से ऐसे प्रस्ताव को स्वीकार करने के लिए कह रहे थे जो उसे स्वीकार नहीं था। ट्रिब्यूनल ने कहा कि मानव के संबंधों की ये एक त्रासदी है कि एक बार रिश्ता बिगड़ जाए तो उसकी परिणिती यौन उत्पीड़न के केस में होती है। ट्रिब्यूनल ने अपने फैसले में कहा कि पचौरी ने महिला का शारीरिक और मानसिक शोषण किया था। उनका कहना है कि कोर्ट पचौरी के इस कृत्य को सही नहीं मानती है। उन्होंने जो कुछ भी किया वो साफ तौर पर एक आपराधिक कृत्य था।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो