scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

‘हमारे सामान और मवेशियों को बचाने के नहीं हो रहे प्रयास’

यमुना के निचले हिस्से में जलस्तर बढ़ने से बड़ी संख्या में लोग पानी में फंस गए।
Written by: जनसत्ता
July 13, 2023 08:02 IST
‘हमारे सामान और मवेशियों को बचाने के नहीं हो रहे प्रयास’
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर।(फोटो-इंडियन एक्‍सप्रेस)।
Advertisement

महेश केजरीवाल

बुधवार सुबह जब नींद खुली तो चारों तरफ पानी ही पानी दिखा। पांच फीट तक पानी भर गया है अब समझ में नहीं आ रहा है कि आगे क्या होगा। हमारे कई मवेशी पानी में फंसे हुए हैं। यह कहना है शास्त्री पार्क के तीसरा पुश्ता में रहने वाले सुलेमान का। उन्होंने कहा कि डर के कारण बच्चों व महिलाओं को छत पर पहुंचा दिया है।

Advertisement

हम खाने-पीने के इंतजाम में जुटे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे सामान और मवेशियों को बचाने के लिए प्रशासन की ओर से गंभीर प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। बच्चे और महिलाएं अभी भी घरों की छतों पर फंसे हुए हैं। उन्होंने कहा बाढ़ में घिरे घरों के बीच उनके सामने जिंदगी बचाने की जंग शुरू हो गई।

यमुना बाजार में सालों से रह रहे बुजुर्ग मोहन झा कहते है कि मंगलवार को सब कुछ ठीक था। बुधवार को एकाएक बाढ़ के पानी से घर का निचला हिस्सा डूब गया। पांच फुट तक पानी भर गया है अब समझ में नहीं आ रहा है कि आगे क्या होगा। खाने-पीने तक की समस्या हो गई है। बाढ़ के पानी में घिरे घरों में काफी सामान फंसा हुआ है। मोहन झा ने पीड़ा जाहिर करते हुए कहा कि प्रशासन की ओर से भी हमारे सामान को निकालने का कोई इंतजाम नहीं किया गया है।

वहीं शास्त्री पार्क में रहने वाले अनवर ने कहा कि घरों से लेकर रास्ते में कंधे तक पानी भरा गया है। प्रशासन ने बिजली काटकर और मुसीबत बढ़ा दी है। अभी तक प्रशासन से कोई राहत नहीं मिली है। यमुना के निचले हिस्से में जलस्तर बढ़ने से बड़ी संख्या में लोग पानी में फंस गए। बच्चे व बड़े घंटों छत पर खड़े होकर मदद का इंतजार कर रहे हैं। यही नहीं धान की रोपाई के दौरान बच्चे व महिलाएं फंस गए।

Advertisement

वहीं, बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए प्रशासन, गुरुद्वारा समितियां से लेकर राजनीतिक दल भी बाढ़ प्रभावित इलाकों में पहुंच गए हैं। उन्होंने राहत शिविर लगाकर खाने-पीने के इंतजाम के अलावा सहायता समूहों की ओर से चिकित्सा शिविर भी लगे दिए हैं। इनमें लोगों के लिए मुफ्त में इलाज की व्यवस्था की जा रही है।

Advertisement

हालांकि, अधिकतर स्थानों पर यह इंतजाम नहीं हो पाए, जबकि सोमवार शाम तक यमुना खादर में तमाम झुग्गियां डूब गर्इं और यमुना के किनारे लोगों के घरों में पानी भरने से लोग नाराज भी दिखें। कई स्थानों पर यह इंतजाम नहीं होने के कारण लोग झुग्गी छोड़ कर सड़कों के किनारे खुले आसमान में दिखें अभी भी सैकड़ों लोग अंदर फंसे हुए हैं बहुत सारे जानवर फंसे हुए हैं। कई जगहों पर सीढ़ियों, बुलडोजर से लेकर नावों से लोगों को निकालते देखा गया।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो