scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पुंछ में क्यों हो रहे आतंकी हमले? दहशतगर्दों की असल साजिश समझिए

पिछले दो सप्ताह में राजौरी और पुंछ जिलों में फैले पीर पंजाल क्षेत्र में यह तीसरा आतंकवादी हमला है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: May 05, 2024 10:55 IST
पुंछ में क्यों हो रहे आतंकी हमले  दहशतगर्दों की असल साजिश समझिए
शनिवार, 4 मई, 2024 को पुंछ जिले में सेना के वाहनों पर आतंकवादी हमले के बाद तैनात सुरक्षाकर्मी। (पीटीआई फोटो)
Advertisement

जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में शनिवार को भारतीय वायुसेना के एक काफिले पर आतंकियों के घात लगाकर हमला करने और एक सैनिक की मौत तथा चार अन्य के घायल होने पर अब सवाल खड़े हो रहे हैं। पिछले दो सप्ताह में राजौरी और पुंछ जिलों में फैले पीर पंजाल क्षेत्र में यह तीसरा आतंकवादी हमला है। 22 अप्रैल को थानामंडी के शाहदरा शरीफ इलाके के पास आतंकवादियों द्वारा की गई गोलीबारी में 40 वर्षीय एक ग्रामीण की मौत हो गई। कुंडा टॉप के मोहम्मद रज़ीक, एक प्रादेशिक सेना के सैनिक का भाई था। 28 अप्रैल को उधमपुर के बसंतगढ़ इलाके में एक ग्राम रक्षक मोहम्मद शरीफ की हत्या कर दी गई थी। आखिर पुंछ में इतने आतंकी हमले क्यों हो रहे? दहशतगर्दों की असल साजिश क्या है।

सेना लगातार नकारात्मक मुठभेड़ों की आदी नहीं है

इसको लेकर सैयद अता हसनैन कहते हैं कि भारतीय सेना लगातार नकारात्मक मुठभेड़ों की आदी नहीं है। यह आतंकवाद विरोधी अभियानों में उसके जबरदस्त ट्रैक रिकॉर्ड को खराब कर देती है। यह निरंतर सफलता का दावा भी नहीं करता है, क्योंकि अतीत में नकारात्मक मुठभेड़ रुक-रुक कर होती थीं। हालांकि यह कभी-कभी ही होता है। वह तब था जब आतंकवादियों की ताकत बहुत अधिक थी, खुफिया जानकारी कम विश्वसनीय थी। पुंछ-राजौरी सेक्टर के गहराई वाले इलाकों में हाल ही में हुई मुठभेड़ों में आतंकवादियों की तुलना में सेना को अधिक नुकसान हुआ है, ऐसे माहौल में जहां आतंकवादियों की ताकत बहुत कम है, लेकिन बेहतर प्रौद्योगिकियां उपलब्ध हैं।

Advertisement

पुंछ-राजौरी सेक्टर में कभी-कभी स्थानीय समर्थन भी रहा है

उनका कहना है कि आतंकवाद कम से कम प्रतिरोध का रास्ता अपनाता है। कश्मीर की मजबूत और स्तरित घुसपैठ-रोधी और आतंकवाद-रोधी ग्रिड प्रॉक्सी ऑपरेशन की योजना बनाना मुश्किल बना देती है। पुंछ-राजौरी सेक्टर में स्थानीय समर्थन का एक उतार-चढ़ाव वाला इतिहास रहा है, जिसने पाकिस्तान को पीर पंजाल (दक्षिण) के जंगली और चट्टानी इलाकों में एक मजबूत छद्म मौजूदगी स्थापित करने में सक्षम बनाया है।

हालांकि यह समय के साथ कम हो गया, शायद हाल के वर्षों में आबादी को फिर से संगठित करने के कुछ गुप्त प्रयास हुए हैं, जिसमें गुज्जर समुदाय के बीच कुछ प्रतिद्वंदिता की सूचना दी गई है। इसका केवल काल्पनिक प्रमाण है। अनुच्छेद 370 के निरस्तीकरण ने भी कश्मीर को अलगाववादी गतिविधियों के लिए मुश्किल बना दिया है।

Advertisement

मई 2020 के बाद से जब लद्दाख सेक्टर सक्रिय हुआ, तो कुछ सैनिकों को जम्मू सेक्टर से हटा दिया गया और वहां फिर से तैनात किया गया। हो सकता है कि इसमें कुछ कमी आई हो, लेकिन उत्तरी कमान मुख्यालय हमेशा इस पर सतर्क रहा है और उसने पुन: तैनाती और अन्य रिजर्व बनाने के मूल सिद्धांत का पालन किया है। किसी भी स्थिति में, पुंछ-राजौरी सेक्टर से राष्ट्रीय राइफल्स के जवानों को कभी परेशान नहीं किया गया। फिर भी, जब किसी उप-क्षेत्र पर प्रतिकूल ध्यान केंद्रित होता है, तो एक मजबूत ग्रिड के लिए कुछ पुनर्नियोजन, विशेष रूप से अप्रतिबद्ध प्रतिक्रिया तत्वों की उपस्थिति की व्यवस्था की जानी चाहिए। इसमें से कुछ पहले ही किया जा चुका है, कुछ और किया जा सकता है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो