scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कौन है महंत राजू दास, अयोध्या डीएम ने क्यों वापस ली सुरक्षा? सीएम योगी तक पहुंचा मामला

महंत राजू दास ने इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कहा, 'मैंने सीएम से मुलाकात की और उन्हें शुक्रवार को हुई घटना के बारे में जानकारी दी। मुझे योगी आदित्यनाथ और उनके न्याय पर पूरा भरोसा है।'
Written by: Bhupendra Pandey | Edited By: Mohammad Qasim
नई दिल्ली | Updated: June 24, 2024 12:48 IST
कौन है महंत राजू दास  अयोध्या डीएम ने क्यों वापस ली सुरक्षा  सीएम योगी तक पहुंचा मामला
हनुमान गढ़ी मंदिर के मुख्य पुजारी महंत राजू दास (PTI Photo)
Advertisement

लोकसभा चुनाव में बीजेपी के लिए अयोध्या (फैजाबाद लोकसभा) की हार अभी भी सिर दर्द बनी हुई है। अब यूपी सरकार के दो मंत्रियों के सामने हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास और अयोध्या डीएम नीतीश कुमार के बीच नौकझोंक का मामला तूल पकड़ रहा है। मामला सामने आने के बाद  महंत राजू दास को मिली हुई सुरक्षा भी वापस ले ली गई है। हनुमान गढ़ी मंदिर के मुख्य पुजारी महंत राजू दास अक्सर धार्मिक मामलों और राजनीतिक घटनाओं पर अपने बयानों के कारण चर्चा में रहते हैं।

Advertisement

सीएम योगी से महंत राजू दास ने की मुलाकात

हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास यूपी कैबिनेट मंत्री सूर्य प्रताप शाही और जयवीर सिंह द्वारा बुलाई गई समीक्षा बैठक में पहुंचे थे और भाजपा की हार के लिए जिला प्रशासन की हालिया कार्रवाइयों को जिम्मेदार ठहरा रहे थे, जहां उनकी बहस डीएम से हो गई। महंत दास ने कहा कि उन्होंने शनिवार को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इस विवाद पर चर्चा की है। उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, "मैंने सीएम से मुलाकात की और उन्हें शुक्रवार को हुई घटना के बारे में जानकारी दी। मुझे योगी आदित्यनाथ और उनके न्याय पर पूरा भरोसा है।"

Advertisement

अक्सर विवादों में घिरे रहने के सवाल पर महंत दास ने कहा, "मैं सिर्फ़ बयान नहीं देता, बल्कि उसका मतलब भी निकालता हूं। मैं सनातन धर्म और हिंदू धर्म का योद्धा हूं और इसकी रक्षा की जिम्मेदारी भी मुझ पर है। अगर कोई हमारे धर्म पर हमला करेगा तो मैं चुप नहीं रहूंगा और उसका जवाब जरूर दूंगा।"

क्यों वापस ली गई सुरक्षा?

पुजारी के पुलिस गनर को हटाते समय मजिस्ट्रेट ने उनके खिलाफ दर्ज तीन आपराधिक मामलों को कारण बताया। उन्होंने शनिवार को इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि पुजारी के तीन पुलिस गनर वापस लेने की प्रक्रिया तब से शुरू हो गई थी जब उन्हें पता चला कि उनके खिलाफ तीन आपराधिक मामले दर्ज हैं। दो गनर वापस ले लिए गए थे और अब तीसरा भी वापस ले लिया गया है।

जवाब में महंत दास ने कहा, "मेरे खिलाफ 2013 और 2017 में दर्ज पहले दो मामले धार्मिक और राजनीतिक मुद्दों पर विरोध प्रदर्शन, धरना और पुतले जलाने से संबंधित हैं। 2023 में दर्ज मामला हनुमान गढ़ी के ही एक साधु की शिकायत पर आधारित था, जिसने अनजाने में मेरा नाम दे दिया था, क्योंकि वह किसी दूसरे साधु का नाम लेना चाहता था। यह बात बाद में स्पष्ट हुई।"

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो