scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कैसे स्क्रैप माफिया बना गैंगस्टर रवि काना? साथ देने वाली गर्लफ्रेंड को भी पुलिस ने थाईलैंड से पकड़ा

नोएडा पुलिस ने गैंगस्टर की गौतमबुद्धनगर, बुलंदशहर और दिल्ली में करीब 350 करोड़ रुपये की संपत्ति सील कर दी।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: April 24, 2024 12:55 IST
कैसे स्क्रैप माफिया बना गैंगस्टर रवि काना  साथ देने वाली गर्लफ्रेंड को भी पुलिस ने थाईलैंड से पकड़ा
गैंगस्टर रवि काना। (इमेज- ट्विटर)
Advertisement

Who Noida scrap mafia Ravi Kana: ग्रेटर नोएडा के सबसे बड़े स्क्रैप माफिया और स्टील तस्कर रवि काना और उसकी गर्लफ्रेंड काजल झा को थाईलैंड से गिरफ्तार किया गया है। एक दशक पहले कबाड़ से करोड़पति बनने तक का सफर तय करने वाले स्क्रैप माफिया का साम्राज्य अब समाप्त होने की कगार पर आ गया है। पुलिस ने जनवरी में उसकी और उसका साथ देने वाली काजल झा की संपत्ति को सीज कर दिया था।

रवि नागर उर्फ रवि काना स्क्रैप व्यापारी रहा है। उसके खिलाफ इस साल 2 जनवरी को ग्रेटर नोएडा के बीटा 2 पुलिस स्टेशन में गैंगस्टर एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था। अधिकारियों के मुताबिक, 42 साल के काना के खिलाफ 28 दिसंबर 2023 को नोएडा सेक्टर 39 पुलिस स्टेशन में गैंगरेप का मामला भी दर्ज हुआ था। कभी कबाड़ बेचने और खरीदने वाले रवि काना के गैंगस्टर बनने की कहानी फिल्मी है।

Advertisement

रवि काना कैसे बना गैंगस्टर

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एक दशक पहले तक रवि काना कोई छोटे-मोटे काम करता था। साल-2014 में छोटे भाई और गैंगस्टर हरेंद्र प्रधान की हत्या के बाद रवि काना ने अपराध की राह पकड़ ली। उसने लोगों में डर का माहौल पैदा करके जबरन ट्रकों से सरिया उतरवाकर सप्लाई करना शुरू कर दिया। इसी बीच, वह नामी बदमाश अनिल दुजाना के संपर्क में आया और उसका राइट हैंड बन गया। बाद में अनिल दुजाना तो एनकाउंटर में मारा गया लेकिन रवि काना क्राइम की दुनिया में तेजी से बढ़ने लगा।

कबाड़ से करोड़पति बनने के सफर में रवि काना पर कुछ अधिकारियों का भी हाथ रहा। इस बात की भी चर्चा अलग-अलग समय पर होती रही है। साथ ही, रवि काना का संबंध कुछ नेताओं से भी रहा है। यही कारण रहा कि उसने अपनी भाभी बेबन नागर को इलेक्शन में खड़ा किया। हालांकि, अब उसके अरेस्ट होने के बाद कुछ नए खुलासे होने बाकी हैं।

Advertisement

काजल बनी माफिया की पार्टनर

करीब आठ साल पहले दिल्ली की न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में रहने वाली युवती रवि काना के पास नौकरी के लिए आई थी। उसे गिरोह में नौकरी के लिए रखा गया। इस युवती का नाम काजल झा था। बाद में यही युवती रवि काना की बहुत भरोसेमंद बन गई। जल्दी ही वह उसकी पार्टनर बन गई। इतनी नजदीकियां रवि के परिवार को सही नहीं लग रही थी। वह रवि काना को उसके काले धंधों में भी सलाह देने लगी। साथ ही, काले कारनामों में बराबर की हिस्सेदार भी रही। इस बात को पुलिस ने कोर्ट में दायर चार्जशीट में कहा है।

Advertisement

रवि काना की इस केस ने खड़ी की मुसीबत

एक महिला द्वारा 11वां मामला दायर करने से पहले रवि काना के खिलाफ 10 मामले दर्ज थे। रवि काना सहित पांच लोगों के खिलाफ सेक्टर-39 कोतवाली क्षेत्र के एक मॉल की पार्किंग में युवती से गैंगरेप का मुकदमा दर्ज किया गया। इसी के बाद से उसकी मुसीबतें बढ़नी शुरू हो गईं। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि रवि काना उन पांच लोगों में से एक था, जिन्होंने लगभग छह महीने पहले उसके साथ दुष्कर्म किया और उसे धमकी देने के लिए इसका वीडियो भी बनाया। महिला ने पुलिस को बताया कि यह कुछ महीने पहले की बात है जब वह नौकरी की तलाश में थी। तभी उसकी मुलाकात रवि काना के सहयोगियों राजकुमार और मेहमी से हुई, जिन्होंने उसे नौकरी के बहाने बहलाया-फुसलाया। शिकायत में आगे कहा गया है कि दोनों उसे एक जगह ले गए जहां रवि काना अपने दो अन्य सहयोगियों आजाद और विकास के साथ उससे मिला था। इसके बाद पांच आरोपियों ने उसके साथ दुष्कर्म किया।

पुलिस ने 350 करोड़ रुपये की संपत्ति सील की

नोएडा पुलिस ने गैंगस्टर की गौतमबुद्धनगर, बुलंदशहर और दिल्ली में करीब 350 करोड़ रुपये की संपत्ति सील कर दी। इसमें रवि काना का दिल्ली के न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में 80 करोड़ रुपये का बंगला भी शामिल है, जो उन्होंने अपनी गर्लफ्रेंड के नाम पर खरीदा था। नोएडा पुलिस ने उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के खुर्जा में भी 40 बीघे जमीन को सील कर दिया। पुलिस के मुताबिक, आरोपियों ने यह संपत्ति अवैध कमाई के जरिये खरीदी थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो