scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

लिव इन रिलेशन का रजिस्ट्रेशन है निजता का हनन, अभिषेक मनु सिंघवी बोले - चुनाव से पहले राजनीतिक प्रयोग कर रही BJP

Uttarakhand UCC: उत्तराखंड में आए समान नागरिक संहिता के प्रावधानों को अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि यह राजनीति से प्रेरित लगता है।
Written by: मनोज सीजी
Updated: February 10, 2024 16:06 IST
लिव इन रिलेशन का रजिस्ट्रेशन है निजता का हनन  अभिषेक मनु सिंघवी बोले   चुनाव से पहले राजनीतिक प्रयोग कर रही bjp
कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने उत्तराखंड यूसीसी के प्रवाधानों को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ बताया है। (सोर्स - ANI)
Advertisement

उत्तराखंड में यूनिफॉर्म सिविल कोड बिल पेश हुआ और फिर एक दिन बाद ही हंगामे के बीच पास हो गया है। इसके प्रवाधानों को लेकर खूब चर्चा हो रही है। विपक्षी दलों ने इसका विरोध किया है, तो बीजेपी इसे एक अहम कदम बता रही है। वही इस बिल के प्रावधानों को लेकर सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील और कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि लोकसभा चुनाव से ठीक पहले इस बिल का आना सीधे तौर पर प्रतीकात्मक और राजनीति से प्रेरित है। उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी इन्हीं कदमों के लिए जानी जाती है। उन्होंने कहा कि असली यूसीसी वही होगा जि को राष्ट्रीय कानून के तौर पर सर्वसम्मति से लागू होगा।

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील से जब इस बिल के आपत्तिजनक प्रावधानों को लेकर पूछा गया तो उन्होंने लिव इन रिलेशनशिप का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा लिव इन रिलेशनशिप के लिए इस यूसीसी में रजिस्ट्रेशन का नियम है, जो कि नैतिक दबावों जैसा लगता है। यह यूसीसी के मूल मुद्दों से संबंधित नहीं है। सिंघवी ने इसे निजता का हनन बताया है। उन्होंने सीधे तौर पर इसे सुप्रीम कोर्ट के आर्टिकल 21 से जुड़े अनेकों फैसलों का उल्लंघन करता है।

Advertisement

अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि तलाक, उत्तराधिका हिंदू कानूनों से थोपा गया है। उन्होंने कहा कि यह प्रावधान सर्वसम्मति से इतर बहुसंख्यक समुदाय को नियंत्रित करने वाले नियमों को थोपना दर्शाता है। उन्होंने कहा कि यह चुनाव से पहले यूसीस राज्यों में टुकड़ों में थोपने का प्रयास किया जा रहा है।

अधूरा है पारिवारिक कानून

वरिष्ठ वकील ने कहा कि कुछ साल पहले सरकार के विधि आयोग की रिपोर्ट में कहा गया था कि यूसीसी आवश्यक भी नहीं है और न ही वांछनीय है। वहीं अब जब सदस्य बदल गए तो सरकार को मिली एक नई रिपोर्ट में इसकी जरूरत ज्यादा बताई जाता है, जो कि विश्वसनीयता को कम करता है। बीजेपी की अलग-अलग राज्यों में शासित सरकारे यूसीसी लाने की बात कर रही है। इसको लेकर अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि यह विरोधाभासी है। विभिन्न राज्यों में अलग-अलग विविधता वाली अनेक पारिवारिक कानून व्यवस्थाओं को एक समान संहिता कैसे कहा जा सकता है, यह एक अधूरा पारिवारिक कानून है।

Advertisement

क्या है सकारात्मक पहलू?

यूसीसी के पॉजिटव पहलुओं पर बात करते हुए सिंघवी ने कहा कि हां इसमें बच्चों से जुड़ा प्रावधान पॉजिटिव है। प्रावधान के मुताबिक सभी बच्चे, चाहे वे लिव रिलेशनशिप में हुए हो या फिर शादी के बाद, सभी को वैध माना जा रहा है। उन्हें सभी अधिकार दिए जा रही है। उन्होंने कहा कि महिलाओं और पुरुषों की शादी की उम्र पर कोई एतराज भी नहीं है। इसके अलावा कई तरह की पुरानी विसंगतियों को दूर किया गया है, जो कि स्वागत योग्य है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो