scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कश्मीर में यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर होने वाला कार्यक्रम कैंसिल क्यों? आर्मी से बड़ा कनेक्शन

बताया जा रहा है कि कार्यक्रम के अंदर यूनिफॉर्म सिविल कोड के फायदे, उसको लेकर कुछ चुनौतियां और किस प्रकार से समान अधिकारों को बढ़ावा मिल सकता है, इन तमाम बिंदुओं पर चर्चा की जानी थी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Sudhanshu Maheshwari
नई दिल्ली | Updated: March 24, 2024 02:02 IST
कश्मीर में यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर होने वाला कार्यक्रम कैंसिल क्यों  आर्मी से बड़ा कनेक्शन
कश्मीर में LoC पर सेना अलर्ट (File Photo - Express/Shuaib Masoodi)
Advertisement

जम्मू कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा यूनिफॉर्म सिविल कोड पर एक बड़े कार्यक्रम को आयोजन करने की तैयारी थी। लेकिन ऐन वक्त पर उस कार्यक्रम को रद्द कर दिया गया। तर्क दिया गया कि चुनावी तारीखों का ऐलान किया जा चुका है, ऐसे में आचार संहिता लग चुकी है और इस प्रकार का कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जा सकता।

लेकिन बड़ी बात ये है सेना क्योंकि यूनिफॉर्म सिविल कोड पर कोई प्रोग्राम करने जा रही थी, इस पर जमकर सियासत देखने को मिली। उमर अब्दुल्ला से लेकर महबूबा मुफ्ती जैसे कई बड़े नेताओं ने आर्मी का इस प्रकार से किसी सियासी कार्यक्रम से कार्यक्रम से जुड़ना गलत माना।

Advertisement

बताया जा रहा है कि कार्यक्रम के अंदर यूनिफॉर्म सिविल कोड के फायदे, उसको लेकर कुछ चुनौतियां और किस प्रकार से समान अधिकारों को बढ़ावा मिल सकता है, इन तमाम बिंदुओं पर चर्चा की जानी थी। लेकिन बाद में लोकसभा चुनाव का ऐलान हो गया और कश्मीर में ये कार्यक्रम नहीं हो पाया।

इस कार्यक्रम को लेकर नेशनल कांफ्रेंस के नेता और पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने नाराजगी जाहिर की थी। उन्होंने कहा था कि क्या भारतीय सेना का इस तरह से यूनिफॉर्म सिविल कोड को लेकर किसी कार्यक्रम का आयोजन करना सही है, वो भी कश्मीर जैसे संवेदनशील इलाके में। इसका कुछ कारण होता है कि आखिर क्यों भारतीय सेना को राजनीति से दूर रखा जाता है। वहीं दूसरी तरफ पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने दो टूक कहा है कि भारतीय सेना जो दुनिया की चौथी सबसे ताकतवर आर्मी है और उसे सबसे अनुशासित भी माना जाता है, लेकिन बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से धर्म के साथ-साथ सेना को भी राजनीति का हथियार बना लिया गया है।

वैसे जानकारी के लिए बता दें कि पिछले कई महीनो से ऐसी चर्चा चल रही है कि मोदी सरकार यूनिफॉर्म सिविल कोड को देश में लागू करना चाहती है। बड़ी बात ये है कि उत्तराखंड में तो यूनिफॉर्म सिविल कोड को पुष्कर धामी सरकार ने लागू भी कर दिया है। हिंदू और मुसलमान सभी के लिए समान कानून बन चुके हैं। इसी तरह असम भी यूसीसी की ओर अपने कदम बढ़ा चुका है

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो