scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

टेनी के बेटे पर लगे आरोपों पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता, कहा- ... तो यह निश्चित रूप से उल्लंघन है

आशीष मिश्रा टेनी का यह केस किसानों और एक पत्रकार की मौत से जुड़ा है। आरोप है कि मरने वालों को आशीष मिश्रा टेनी के वाहन द्वारा कुचला गया था। वो खुद ही अपनी कार चला रह ेथे।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Yashveer Singh
नई दिल्ली | Updated: April 22, 2024 17:30 IST
टेनी के बेटे पर लगे आरोपों पर सुप्रीम कोर्ट ने जताई चिंता  कहा      तो यह निश्चित रूप से उल्लंघन है
आशीष मिश्रा टेनी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा? (File Photo - Express)
Advertisement

Supreme Court News: सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को लखीमपुर खीरी मामले के मुख्य आरोपी अशीष मिश्रा पर लगे आरोपों पर चिंता जताई। अशीष मिश्रा मोदी सरकार में मंत्री अजय मिश्रा टेनी का बेटा है। बार एंड बेंच की रिपोर्ट के अनुसार, आशीष मिश्रा पर आरोप है कि वो न सिर्फ यूपी विजिट कर रहे हैं बल्कि अपनी अंतरिम जमानत शर्तों का उल्लंघन करते हुए प्रदेश में विभिन्न समारोहों में हिस्सा भी ले रहे हैं। (आशीष मिश्रा बनाम यूपी सरकार)

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस सुर्यकांत और जस्टिस पीएम नरसिम्हा की बेंच ने कहा कि अगर आशीष मिश्रा कार्यक्रम फिजिकली अटेंड कर रहे हैं तो यह निश्चित ही जमानत शर्तों का उल्लंघन हैं। कोर्ट े कहा, "अगर वह फिजिकली उपस्थित हो रहे हैं तो यह निश्चित रूप से उल्लंघन हैं।' आपको बता दें कि पिछले साल आशीष मिश्रा को अंतरिम जमानत पर रिहा करने की अनुमति देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह शर्त रखी थी कि उन्हें लखीमपुरी मामले में मुकदमे के उद्देश्य को छोड़कर यूपी में प्रवेश नहीं करना चाहिए।

Advertisement

आशीष मिश्रा टेनी का यह केस किसानों और एक पत्रकार की मौत से जुड़ा है। आरोप है कि मरने वालों को आशीष मिश्रा टेनी के वाहन द्वारा कुचला गया था। वो खुद ही अपनी कार चला रह ेथे। पीड़ित परिवारों का प्रतिनिधित्व कर रहे वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को कोर्ट बताया कि  आशीष मिश्रा शीर्ष कोर्ट द्वारा निर्धारित जमानत शर्त का उल्लंघन कर रहे हैं।

कोर्ट में प्रशांत भूषण ने कहा, "लॉर्डशिप बेल कंडिशन में कहा गया है कि वो सिर्फ ट्रायल के लिए यूपी में प्रवेश कर सकते हैं। लेकिन हाल ही में उन्होंने कई कार्यक्रमों में शिरकत की है, उन्होंने यूपी में ट्राय साइकिल बांटी हैं। मुझे नहीं पता कि इसकी इजाजत कैसे दी गई। मैं एफिडेविट फाइल करूंगा और दिखाऊंगा।"

आशीष के वकील ने आरोपों को गलत बताया

हालांकि आशीष मिश्रा की तरफ से पेश हुए वकील ने इन आरोपों से गलत बताया। सीनियर एडवोकेट सिद्धार्थ दवे द्वारा जवाब दाखिल किया गया, "हमारे अनुसार ऐसा कुछ नहीं है। मैं इतना मूर्ख नहीं हूं कि इस तरह से स्वतंत्रता का उल्लंघन करूं। बार और कागज पर कही गई बातों में अंतर है। मैं वीडियो पर भरोसा नहीं करता।"

Advertisement

इसके बाद कोर्ट ने मौखिक रूप से प्रशांत भूषण से अपने आरोपों को लेकर एक एफिडेविट फाइल करने के लिए कहा। हालांकि आज पारित ऑर्डर में इसके बारे में कुछ भी रिकॉर्ड में नहीं रखा गया। आपको बता दें कि कोर्ट ने जब जनवरी 2023 में आशीष मिश्रा को अंतरिम जमानत दी थी, तह बेंच द्वारा यह शर्त रखी गई थी कि वो जमानत मिलने के बाद यूपी या दिल्ली में नहीं रह सकता है। हालांकि बाद में उसे दिल्ली जाने और वहां रुककर अपने बीमार रिश्तेदारों की देखभाल की इजाजत दे दी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो