scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

ED Officer Ankit Tiwari: सुप्रीम कोर्ट ने ईडी अधिकारी अंकित तिवारी को दी जमानत, DVAC ने रिश्वखोरी के मामले में किया था गिरफ्तार, जानिए पूरा मामला

ED Officer Ankit Tiwari: रिश्वतखोरी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने ईडी अधिकारी अंकित तिवारी को जमानत दे दी है। तिवारी को पिछले साल गिरफ्तार किया गया था।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | Updated: March 20, 2024 18:27 IST
ed officer ankit tiwari  सुप्रीम कोर्ट ने ईडी अधिकारी अंकित तिवारी को दी जमानत  dvac ने रिश्वखोरी के मामले में किया था गिरफ्तार  जानिए पूरा मामला
Supreme Court: सुप्रीम कोर्ट। (एक्सप्रेस फाइल)
Advertisement

Supreme Court: सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारी अंकित तिवारी को अंतरिम जमानत दे दी। तिवारी को पिछले साल दिसंबर में तमिलनाडु सतर्कता और भ्रष्टाचार विरोधी निदेशालय (DVAC) ने रिश्वतखोरी के आरोप में गिरफ्तार किया था।

जस्टिस सूर्यकात और जस्टिस केवी विश्वनाथन की पीठ जमानत की शर्त में अंकित तिवारी को निर्देश दिया कि वह आधिकारिक अनुमति के बिना राज्य नहीं छोड़ेंगे और ऐसा करने पर उन्हें अपना पासपोर्ट जमा करना होगा। इसके बाद कोर्ट ने तिवारी के खिलाफ डीवीएसी के रिश्वत मामले से संबंधित याचिकाओं की सुनवाई करते हुए उन्हें अंतरिम राहत दी।

Advertisement

मद्रास हाई कोर्ट द्वारा नियमित जमानत और वैधानिक जमानत के लिए उनके आवेदनों को खारिज करने को चुनौती देने वाली तिवारी की याचिकाओं के अलावा, मनी लॉन्ड्रिंग मामलों की जांच से संबंधित एफआईआर साझा करने में तमिलनाडु सरकार द्वारा असहयोग का आरोप लगाते हुए ईडी द्वारा दायर याचिका भी कोर्ट के समक्ष लिस्टेड की गई थी।

तिवारी को पिछले साल डीवीएसी ने कथित तौर पर 20 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़े जाने के बाद गिरफ्तार किया था। शीर्ष अदालत ने पहले तिवारी के खिलाफ डीवीएसी जांच पर रोक लगा दी थी।

सुप्रीम कोर्ट ने पहले सुझाव दिया था कि एक न्यायिक निकाय उन मामलों की निगरानी कर सकता है जिनमें राज्य एजेंसियों के साथ-साथ ईडी और सीबीआई जैसे केंद्रीय एजेंसियों द्वारा जांच की मांग की जाती है।

Advertisement

इस साल की शुरुआत में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार को लेकर सख्त टिप्पणी की थी। शीर्ष अदालत ने कहा था कि ऐसे मामलों से निपटने के दौरान राज्य जांच एजेंसियों द्वारा पक्षपात या केंद्रीय जांच एजेंसियों द्वारा "प्रतिशोध" की आशंकाओं से निपटने के लिए दिशानिर्देश दिए जा सकते हैं।
कोर्ट को बताया गया कि ईडी ने तमिलनाडु सरकार के खिलाफ अपने मामले में जवाब दाखिल नहीं किया है। अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल (ASG) एसवी राजू ने जवाब दिया कि इसे प्रस्तुत किया जाएगा।

दलील के बाद कोर्ट ने इस उद्देश्य के लिए दो सप्ताह का समय दिया। कोर्ट ने डीवीएसी को नियमित जमानत के लिए तिवारी की याचिका पर दो सप्ताह के भीतर जवाबी हलफनामा दाखिल करने को भी कहा।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो