scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

अध्ययन: जलवायु परिवर्तन से जैव विविधता में 2 से 11 प्रतिशत गिरावट के आसार

भविष्य में जैव विविधता और पारिस्थितिकी तंत्र कैसे विकसित हो सकते हैं, इसकी जांच करते हुए शोधकर्ताओं ने पाया कि जलवायु परिवर्तन और भूमि उपयोग के तौर-तरीकों में बदलाव के संयुक्त प्रभाव से सभी वैश्विक क्षेत्रों में जैव विविधता का नुकसान होता है।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: April 28, 2024 11:01 IST
अध्ययन  जलवायु परिवर्तन से जैव विविधता में 2 से 11 प्रतिशत  गिरावट के आसार
प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो -(सोशल मीडिया)।
Advertisement

जलवायु परिवर्तन इस सदी के मध्य तक जैव विविधता में गिरावट का मुख्य कारण बन सकता है। बढ़ते तापमान और जल, वायु व मृदा प्रदूषण के अलावा भूमि उपयोग में बदलाव की वजह से जीवों और पेड़-पौधों की कई प्रजातियों पर खतरा मंडरा रहा है। ऐसे में दुनियाभर में जैव विविधता में दो से 11 फीसद की कमी आ सकती है। जर्मन सेंटर फार इंटेग्रेटिव बायोडायवर्सिटी रिसर्च के नए अध्ययन में यह दावा किया गया है।

‘साइंस’ पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन में भूमि उपयोग के तौर-तरीकों में बदलाव और जैव विविधता पर उनके प्रभावों को भी शामिल किया गया। इस अध्ययन के मुख्य शोधकर्ता हेनरिक परेरा ने कहा कि उन्होंने अपने प्रारूप में विश्व के कई क्षेत्रों को शामिल किया। साथ कई ऐसे स्थानों को भी शामिल किया, जो पूर्व के अध्ययनों में इस दायरे से बाहर थे।

Advertisement

भविष्य में जैव विविधता और पारिस्थितिकी तंत्र कैसे विकसित हो सकते हैं, इसकी जांच करते हुए शोधकर्ताओं ने पाया कि जलवायु परिवर्तन और भूमि उपयोग के तौर-तरीकों में बदलाव के संयुक्त प्रभाव से सभी वैश्विक क्षेत्रों में जैव विविधता का नुकसान होता है। इस अध्ययन के सह-लेखक व आस्ट्रिया के इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फार एप्लाइड सिस्टम एनालिसिस के शोधकर्ता डेविड लेक्लेर के मुताबिक, शोध में पाया गया कि जलवायु परिवर्तन जैव विविधता और पारिस्थितिकी तंत्र के लिए एक आसन्न खतरा पैदा करता है। भूमि-उपयोग में परिवर्तन भी ऐतिहासिक रूप से एक महत्वपूर्ण कारक रहा है। अध्ययन के निष्कर्षों से संकेत मिलता है कि जलवायु परिवर्तन सदी के मध्य तक जैव विविधता के नुकसान के प्राथमिक कारक के रूप में इससे आगे निकल सकता है।

शोधकर्ताओं ने आने वाले दशकों में सरकारी नीतियों के बीच टकराव को कम करने और जैव विविधता की सुरक्षा के लिए विभिन्न स्थिरता पहलुओं पर विचार करते हुए एकीकृत दृष्टिकोण अपनाने का आ’’ान किया है। अध्ययन के सह-लेखकों में शामिल आइआइएएसए जैव विविधता और प्राकृतिक संसाधन कार्यक्रम के निदेशक पेट्र हैवलिक ने कहा कि जैव-ऊर्जा परिनियोजन अब भी अधिकांश जलवायु स्थिरीकरण परिदृश्यों का एक महत्त्वपूर्ण तत्व है। यह जीवों की विभिन्न प्रजातियों के आवासों के लिए भी खतरा पैदा करता है। अध्ययन में सुझाव दिया गया है कि आवश्यक प्राकृतिक जलवायु समाधान के रूप में संरक्षण और बहाली के प्रयासों को विश्व स्तर पर प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो