scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Somalian Pirates को उठा लायी इंडियन नेवी, मुंबई पुलिस के किया हवाले

भारतीय नौसेना की जहाज को अरब सागर और अदन की खाड़ी में तैनात किया गया है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: March 23, 2024 15:35 IST
somalian pirates को उठा लायी इंडियन नेवी  मुंबई पुलिस के किया हवाले
35 समुद्री लुटेरों को भारतीय नौसेना ने पकड़ लिया। (ANI PHOTO)
Advertisement

सोमालिया तट के पास भारतीय नौसेना ने एक बड़े ऑपरेशन को अंजाम दिया। इस अभियान के अंतर्गत 35 समुद्री लुटेरों को भारतीय नौसेना ने पकड़ लिया और उन्हें आईएनएस कोलकाता से लेकर मुंबई पहुंच गई। इसके बाद समुद्री डाकुओं को मुंबई पुलिस के हवाले कर दिया गया।

ऑपरेशन संकल्प के तहत की गई कार्रवाई

भारतीय नौसेना ने समुद्र में करीब 40 घंटे तक ऑपरेशन किया और आईएनएस कोलकाता से 35 समुद्री लुटेरों को लेकर 23 मार्च को मुंबई पहुंची। बता दें कि इस कार्रवाई को 'ऑपरेशन संकल्प' नाम दिया गया है। इसके तहत भारतीय नौसेना की जहाज को अरब सागर और अदन की खाड़ी में तैनात किया गया है। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि यहां से गुजरने वाले नाविकों और मालवाहक जहाजों की सुरक्षा की जा सके।

Advertisement

भारतीय नौसेना का बड़ा बयान

भारतीय नौसेना ने कहा कि आईएनएस कोलकाता पकड़े गए 35 समुद्री लुटेरों को लेकर 23 मार्च को मुंबई पहुंच गया। आगे की कानूनी कार्यवाही के लिए समुद्री लुटेरों को स्थानीय पुलिस को सौंप दिया गया है। समुद्री डकैती रोधी अधिनियम 2022 के अनुसार आगे की कार्रवाई की जा रही है।

समुद्री डाकुओं के खिलाफ भारतीय नौसेना ने छेड़ रखा है अभियान

हिंद महासागर में समुद्री डाकुओं के खिलाफ भारतीय नौसेना ने अभियान छेड़ रखा है। भारत सिर्फ अपने लिए ही नहीं बल्कि मित्र देशों की मदद के लिए भी खड़ा रहा। इसमें बुल्गारिया भी शामिल है। कुछ दिन पहले ही भारतीय नौसेना ने हाईजैक हुई शिप एमवी रूएन से बुल्गारिया के 7 नागरिकों को बचाया था। इस जहाज को समुद्री लुटेरों ने अपने कब्जे में ले लिया था लेकिन भारतीय नौसेना के जवानों ने वापस हासिल कर लिया। बुल्गारिया के राष्ट्रपति रुमेन रादेव ने भी इस मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया था।

Advertisement

समुद्री डाकुओं ने पिछले साल दिसंबर में एमवी रुएन का अपहरण कर लिया था। नौसेना ने बताया था कि अवैध हथियारों, गोला-बारूद और कई बैन की गई चीजों को भी जब्त किया गया था। इंडियन नेवी के अधिकारी ने बताया था कि आईएनएस कोलकाता ने समुद्री डाकूओं के जहाज के करीब अपनी स्थिति बनाए रखते हुए कड़ी कार्रवाई की थी। इसके बाद समुद्री डाकुओ ने सरेंडर कर दिया और एमवी रुएन और जहाज पर मौजूद उसके चालक दल को भी रिहा कर दिया।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो