scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

School Jobs Scam: ठीक चुनाव के वक्त हाईकोर्ट के आदेश ने ममता बनर्जी बेचैन, जानें बैकफुट पर क्यों है TMC

अदालत से लगभग 26,000 लोगों की नौकरियों का खत्म होना टीएमसी के लिए जोरदार झटका है। 2021 में सरकार बनने के बाद से भ्रष्टाचार के कई आरोपों का सामना कर रही टीएमसी के लिए इससे बुरा समय और कोई नहीं हो सकता है। पढ़ें अत्रि मित्रा की रिपोर्ट।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: April 28, 2024 15:26 IST
school jobs scam  ठीक चुनाव के वक्त हाईकोर्ट के आदेश ने ममता बनर्जी बेचैन  जानें बैकफुट पर क्यों है tmc
ममता बनर्जी। (इमेज- पीटीआई)
Advertisement

पिछले हफ्ते लगभग 26,000 स्कूली शिक्षकों और गैर-शिक्षण कर्मचारियों की भर्ती रद्द करने के कलकत्ता हाईकोर्ट के फैसले ने पश्चिम बंगाल में चल रहे लोकसभा चुनावों के बीच राजनीतिक हलचल पैदा कर दी है। इससे विपक्षी भाजपा को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) पर निशाना साधने के लिए और अधिक हथियार मिल गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को मालदा शहर में एक रैली में टीएमसी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा, “टीएमसी ने बंगाल में युवाओं के जीवन के साथ खेल खेला। बड़े पैमाने पर भर्ती घोटाले के कारण लगभग 26,000 लोगों ने अपनी आजीविका खो दी। जिन लोगों ने नौकरी पाने के लिए कर्ज लिया और टीएमसी को दिया, वे अब सड़कों पर हैं। यह केंद्र की भाजपा सरकार है जो युवाओं को रोजगार दे रही है।"

इस पर पलटवार करते हुए ममता ने कहा, “आपने आदमखोर बाघों के बारे में सुना है, लेकिन क्या आपने नौकरी-भक्षक भाजपा के बारे में सुना है? क्या आपने अदालत द्वारा इतने सारे लोगों को बेरोजगार किए जाने के बाद भाजपा, सीपीआई (एम) और कांग्रेस के नेताओं के चेहरे पर खुशी देखी?"

Advertisement

हाईकोर्ट ने क्या कहा?

अपने 22 अप्रैल के आदेश में जस्टिस देबांगसु बसाक और शब्बर रशीदी की खंडपीठ ने 25,753 शिक्षण और गैर-शिक्षण कर्मचारियों की नियुक्तियों को रद्द कर दिया और उन्हें "प्राप्त सभी पारिश्रमिक और लाभ वापस करने का आदेश दिया… साथ ही चार सप्ताह की अवधि के भीतर, उसकी प्राप्ति की तारीख से जमा करने तक 12% प्रति वर्ष की दर से ब्याज भी देनी होगी।" अदालत ने सीबीआई को आगे की जांच करने और तीन महीने के भीतर रिपोर्ट सौंपने का भी आदेश दिया।

स्कूल नौकरी घोटाला क्या है?

यह घोटाला तब सामने आया जब न्यायमूर्ति हरीश टंडन और न्यायमूर्ति रबींद्रनाथ सामंत की हाईकोर्ट की खंडपीठ ने स्कूल नौकरी भर्ती प्रक्रिया में कथित अनियमितताओं की जांच के लिए 22 फरवरी, 2022 को न्यायमूर्ति (सेवानिवृत्त) रंजीत बैग की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया। समिति ने उसी वर्ष 12 मई को अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की। इसके आधार पर न्यायमूर्ति सुब्रत तालुकदार और न्यायमूर्ति आनंद कुमार मुखर्जी की खंडपीठ ने स्कूल शिक्षा विभाग में ग्रुप सी और ग्रुप डी पदों पर नियुक्ति में कथित अनियमितताओं की सीबीआई जांच के तत्कालीन न्यायमूर्ति अभिजीत गंगोपाध्याय के निर्देश को बरकरार रखा।

आज तक किसे गिरफ्तार किया गया है?

पहली हाई-प्रोफाइल गिरफ्तारियों में अगस्त 2022 में तत्कालीन टीएमसी नेता और राज्य मंत्री पार्थ चटर्जी और उनकी करीबी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी शामिल थीं। जब चटर्जी से जुड़ी हुई 100 करोड़ रुपये से अधिक की चल और अचल संपत्ति का पता चला तो टीएमसी को मीडिया में जोरदार चर्चा होने और सुर्खियां होने का सामना करना पड़ा। सत्तारूढ़ दल ने बाद में उन्हें राज्य मंत्रिमंडल और पार्टी से निष्कासित कर दिया। इसके बाद राज्य शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों की और गिरफ्तारियां हुईं, जिनमें उत्तर बंगाल विश्वविद्यालय के कुलपति सुबीरेश भट्टाचार्य, टीएमसी विधायक और पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष माणिक भट्टाचार्य और टीएमसी विधायक जीबन कृष्ण साहा शामिल रहे।

Advertisement

यह राजनीतिक रूप से कैसा चल रहा है?

लोकसभा चुनाव के बीच में आया यह आदेश टीएमसी के लिए एक बड़ा झटका है, जो अब यह कहकर डैमेज कंट्रोल करने की कोशिश कर रही है कि सभी को अपनी नौकरी नहीं खोनी चाहिए। सरकार ने यह भी कहा है कि वह सुप्रीम कोर्ट जाएगी। जिस दिन अदालत ने आदेश दिया, उस दिन उत्तर दिनाजपुर जिले के रायगंज में एक चुनावी रैली में ममता बनर्जी ने कहा, “सभी फैसलों को स्वीकार करना अनिवार्य नहीं है। हम इस आदेश को ऊपरी अदालत में चुनौती देंगे। चुनाव के बीच यह आदेश भाजपा के निर्देशानुसार पारित किया गया।''

Advertisement

बीजेपी और अन्य पार्टियों ने सरकार को घेरने की कोशिश की है और सीएम के इस्तीफे की मांग की है। भाजपा के तमलुक उम्मीदवार अभिजीत गंगोपाध्याय, जिन्होंने घोटाले से संबंधित कई मामलों में न्यायाधीश के रूप में फैसला सुनाया, ने कहा, “असली अपराधी राज्य प्रशासन के शीर्ष पदों पर बैठे हैं.. अगर उनमें साहस और कोई शर्म बची है, तो उन्हें अपना पद छोड़ देना चाहिए और जांच का सामना करना चाहिए।”

केस लड़ रहे सीपीआई (एम) नेता और वरिष्ठ वकील विकास रंजन भट्टाचार्य ने कहा, “यह साबित करता है कि अगर अदालत चाहे तो संवैधानिक अधिकारों को बरकरार रख सकती है और भ्रष्ट सरकारों को बेनकाब कर सकती है। दुर्भाग्य से, कुछ लोगों को अपनी नौकरी गंवानी पड़ती है, लेकिन उन्हें एक भ्रष्ट पार्टी का समर्थन करने के परिणामों का एहसास होना चाहिए।

भाजपा के लिए भ्रष्टाचार विरोध पश्चिम बंगाल में एक प्रमुख चुनावी मुद्दा है जिसने 2021 के राज्य चुनावों में ममता के सत्ता में लौटने के बाद से पिछले तीन वर्षों में टीएमसी को घेरने में मदद की है। स्कूल नौकरियों घोटाले के अलावा, जिसमें टीएमसी नेताओं को गिरफ्तार किया गया है, ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी कोयला और मवेशी तस्करी मामलों और कथित नगरपालिका नौकरियों और राशन वितरण घोटालों में भी जांच के दायरे में रही है। केंद्रीय धन को कथित तौर पर रोके जाने को लेकर टीएमसी और भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार भी आमने-सामने हैं। भाजपा ने आरोप लगाया है कि योजनाओं के कार्यान्वयन में कथित अनियमितताओं के कारण ऐसा हुआ, जिससे टीएमसी ने इनकार किया है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 चुनाव tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो