scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

सुप्रीम कोर्ट से आसाराम ने लगाई सजा सस्पेंड करने की गुहार, अदालत ने हाई कोर्ट जाने को कहा

इससे पहले जेल में बंद बेटे नारायण साईं ने गुजरात हाई कोर्ट से अस्थाई जमानत की मांग करते हुए अपने पिता आसाराम बापू से मिलने की अनुमति मांगी थी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: March 01, 2024 15:19 IST
सुप्रीम कोर्ट से आसाराम ने लगाई सजा सस्पेंड करने की गुहार  अदालत ने हाई कोर्ट जाने को कहा
आसाराम बापू ने स्वास्थ्य के आधार पर सजा को कुछ दिन तक निलंबित करने की मांग की थी। (Express File Photo)
Advertisement

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को दुष्कर्म के मामले में जेल की सजा काट रहे स्वयंभू धर्मगुरु आसाराम बापू की उस याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया, जिसमें उन्होंने स्वास्थ्य के आधार पर अपनी सजा निलंबित करने की मांग की थी। याचिका पर न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति दीपांकर दत्ता की पीठ ने सुनवाई की। पीटीआई की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि बेंच ने आसाराम के वकीलों से राहत के लिए राजस्थान हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाने को कहा।

आसाराम हिरासत में इलाज कराने को तैयार हुए

उनके कानूनी सलाहकारों ने कहा कि आसाराम सरकारी वकील के इस बयान को स्वीकार करने को तैयार हैं कि वह पुलिस हिरासत में महाराष्ट्र के खोपोली में माधवबाग हार्ट हॉस्पिटल में इलाज करा सकते हैं। पीठ ने आसाराम को राजस्थान हाई कोर्ट के समक्ष आवेदन देने को कहा और कहा कि इस पर कानून के मुताबिक विचार किया जायेगा।

Advertisement

एक अन्य मामले में भी उम्रकैद की सजा मिली हुई है

न्यायमूर्ति खन्ना ने मामले में उनकी दोषसिद्धि और सजा के खिलाफ हाईकोर्ट के समक्ष अपील की सुनवाई में आसाराम के जानबूझकर देरी करने की कोशिश को भी चिह्नित किया। आसाराम बापू के नाम से मशहूर आसुमल हरपलानी को 2018 में जोधपुर की विशेष POCSO अदालत ने 2013 में अपने आश्रम में एक नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म करने सहित कई अपराधों के लिए दोषी ठहराया था। इस मामले में उन्हें भी सजा दी गई थी। 2013 में 33 वर्षीय एक महिला के साथ दुष्कर्म, छेड़छाड़ और यौन उत्पीड़न के लिए उन्हें 2023 में एक अन्य मामले में भी आजीवन कारावास की सजा दी गई थी।

इससे पहले दुष्कर्म के मामले में जेल में बंद उनके बेटे नारायण साईं ने गुजरात हाई कोर्ट से अस्थाई जमानत की मांग की है। हाई कोर्ट से अपील करते हुए उसने अपने पिता आसाराम बापू से मिलने की इच्छा जाहिर की थी। बता दें, साईं और आसाराम बापू बलात्कार के मामलों में दोषी ठहराए जाने के बाद से जेल में बंद हैं।

Advertisement

आसाराम बापू के बेटे साईं की अस्थाई जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस एएस सुपेहिया और विमल व्यास की खंडपीठ ने कहा कि उसे पहले साई के दावों (उसके पिता की स्थिति के बारे में) का पुष्टि करनी होगी, क्योंकि उसे नारायण साईं पर भरोसा नहीं है। (PTI इनपुट के साथ)

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो