scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

प्रयागराज में RPF ने 93 बच्चों को सीमांचल एक्सप्रेस ट्रेन से उतारा, खुफिया सूचना पर हुई कार्रवाई

सभी बच्चों की बाल कल्याण समिति में पेश किया गया और वहां उनकी देखरेख और काउंसलिंग की जा रही है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: May 10, 2024 14:21 IST
प्रयागराज में rpf ने 93 बच्चों को सीमांचल एक्सप्रेस ट्रेन से उतारा  खुफिया सूचना पर हुई कार्रवाई
आरपीएफ को कई दिनों से बच्चों के बारे में ऐसी सूचना मिल रही थी।
Advertisement

प्रयागराज में आरपीएफ ने सीमांचल एक्सप्रेस ट्रेन से 93 बच्चों को उतारकर बाल कल्याण समिति भेज दिया। इन बच्चों के साथ नौ लोगों को भी पुलिस ने पकड़ा है। आरपीएफ के मुताबिक इन बच्चों को ले जा रहे लोगों के पास कोई वैध कागजात नहीं था और न ही उनके परिवार का कोई सदस्य था। सभी बच्चे बिहार के अररिया से अलग-अलग शहरों में ले जाए जा रहे थे। बच्चों की उम्र 9 से 13 साल के बीच की है। सभी बच्चे मुस्लिम समुदाय के हैं। रेलवे ने खुफिया सूचना पर कार्रवाई की।

शुरुआती पूछताछ में बच्चों को मदरसों में ले जाने की बात कही

रेलवे अधिकारियों के हवाले से मीडिया सूत्रों ने बताया है कि बच्चों को गलत तरीके से ले जाया जा रहा था। शुरुआती पूछताछ में बताया गया है कि इन बच्चों को विभिन्न मदरसों में ले जाया जा रहा था। फिलहाल सभी बच्चों की बाल कल्याण समिति में पेश किया गया और वहां उनकी देखरेख और काउंसलिंग की जा रही है। बच्चों के घरवालों को बुलाया गया है। इन बच्चों को ले जा रहे लोगों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की जा रही है।

Advertisement

अफसरों ने जताई बाल तस्करी की आशंका, कई दिन से थी नजर

रेलवे अफसरों ने बच्चों की तस्करी की आशंका जताई है। विभाग को काफी समय पहले से ऐसी गतिविधियों की सूचना मिल गई थी। इसीलिए आरपीएफ की एक टीम को पंडित दीन दयाल उपाध्याय स्टेशन भेज दिया गया था। टीम वहीं से ट्रेन पर नजर रखी हुई थी। प्रयागराज पहुंचने पर सभी बच्चों को उतारकर बाल कल्याण समिति भेज दिया गया।

रेलवे अफसरों ने मीडिया को यह भी बताया कि बच्चों को अलग-अलग शहरों दिल्ली, नागौर, देहरादून ले जाया जा रहा था। बच्चों के साथ पकड़े गये लोगों ने पूछताछ में कहा कि वे बच्चों को मदरसों में पढ़ाने के लिए ले जा रहे थे, लेकिन वे यह नहीं बता सके कि मदरसा में पढ़ाने के लिए दूसरे शहरों में ले जाने की क्या वजह थी।

Advertisement

बच्चों को मुक्त कराने के दौरान बचपन बचाओ आंदोलन के कर्मचारी, चाइल्ड हेल्पलाइन के कर्मचारी और रेलवे सुरक्षा बल में कार्यरत महिला बल के सदस्य भी मौजूद रहे।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो