scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

दलित नहीं थे रोहित वेमुला, तेलंगाना पुलिस ने दाखिल की क्लोजर रिपोर्ट; परिवार बोला- हम सदमे में

पुलिस ने 2016 में आत्महत्या के लिए उकसाने और एससी और एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया था।
Written by: श्रीनिवास जनयाला | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: May 03, 2024 22:12 IST
दलित नहीं थे रोहित वेमुला  तेलंगाना पुलिस ने दाखिल की क्लोजर रिपोर्ट  परिवार बोला  हम सदमे में
रोहित वेमुला 17 जनवरी 2016 को विश्वविद्यालय परिसर के एक कमरे में मृत पाए गए थे। (Express Photo)
Advertisement

तेलंगाना पुलिस ने जनवरी 2016 में हैदराबाद विश्वविद्यालय के पीएचडी स्कॉलर रोहित वेमुला की मौत की जांच बंद कर दी है। पुलिस ने दावा किया है कि रोहित दलित नहीं थे और संभवतः उनकी 'असली जाति' उजागर न हो, इस डर के कारण उन्होंने आत्महत्या की।

पुलिस ने 2016 में आत्महत्या के लिए उकसाने और एससी और एसटी (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया था। क्लोजर रिपोर्ट दाखिल करने के साथ ही पुलिस ने आरोपियों को सभी आरोपों से बरी कर दिया है। आरोपियों में सिकंदराबाद के तत्कालीन सांसद बंडारू दत्तात्रेय, एमएलसी एन रामचंदर राव, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के साथ ही हैदराबाद विश्वविद्यालय के तत्कालीन कुलपति पी अप्पा राव भी शामिल थे।

Advertisement

रोहित के भाई राजा वेमुला ने कहा कि पुलिस के फैसले से परिवार सदमे में है। उन्होंने कहा, "तेलंगाना पुलिस की ज़िम्मेदारी यह जांच करना थी कि क्या मेरे भाई को इस हद तक परेशान किया गया था कि उसने अपनी जान ले ली। इसके बजाय वे फिर से उसकी जाति के लिए चले गए। हम लड़ाई लड़ेंगे।"

राजा वेमुला ने कहा कि परिवार मामले को फिर से खोलने के लिए तेलंगाना के मुख्यमंत्री ए रेवंत रेड्डी और कांग्रेस नेता राहुल गांधी से संपर्क करेगा, जिन्होंने पहले हमारा समर्थन किया है। रोहित की मां राधिका वेमुला ने कहा कि वह और उनके बच्चे अनुसूचित जाति समुदाय से हैं। उन्होंने कहा, "मैंने हमेशा कहा है कि हम एससी माला समुदाय से हैं और मेरा पालन-पोषण एक ओबीसी परिवार में हुआ है। इसमें कोई विवाद नहीं है कि हम अनुसूचित जाति हैं।"

Advertisement

पुलिस रिपोर्ट में सभी आरोपों से मुक्त होने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अप्पा राव (जो रोहित की मृत्यु के समय हैदराबाद विश्वविद्यालय के वीसी थे) ने कहा कि इसमें खुश होने जैसा कुछ भी नहीं है। उन्होंने कहा, "मुझे कठिन समय का सामना करना पड़ा, लेकिन यह ठीक है और मैंने इसे अब पीछे छोड़ दिया है। वीसी के रूप में मेरा कार्यकाल जून 2021 में समाप्त हो गया था। तब से मैं जीवन विज्ञान विभाग में प्रोफेसर के तौर पर पढ़ा रहा हूं।"

Advertisement

भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारी समिति के सदस्य रामचंदर राव ने कहा कि पुलिस का फैसला अपेक्षित था और उन्होंने कांग्रेस की आलोचना करते हुए कहा कि पार्टी ने रोहित की आत्महत्या का राजनीतिकरण करने की कोशिश की। उन्होंने कहा, "इस मामले में ऐसा क्या था कि हमारा नाम इसमें घसीटा गया? कांग्रेस ने इसका राजनीतिकरण करने की कोशिश की और युवा की दुर्भाग्यपूर्ण आत्महत्या का फायदा उठाया। राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल और सभी 'अर्बन नक्सलियों' जिन्होंने अपने राजनीतिक लाभ के लिए रोहित और उसके परिवार की मौत का फायदा उठाया, उन्हें रोहित के परिवार से माफी मांगनी चाहिए। मैं अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं, यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण था।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो