scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

संवैधानिक व सैद्धांतिक प्रक्रिया में अटका दिल्ली सरकार के कैबिनेट मंत्री राजकुमार का इस्तीफा

इस्तीफा स्वीकार न होने और किसी अन्य मंत्री को इसका प्रभार नहीं मिलने के कारण कल्याणकारी योजनाओं सहित मंजूरी को लेकर कई विभागों की फाइलें अटक गई है।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: May 05, 2024 10:56 IST
संवैधानिक व सैद्धांतिक प्रक्रिया में अटका दिल्ली सरकार के कैबिनेट मंत्री राजकुमार का इस्तीफा
राजकुमार आनंद। फोटो -(सोशल मीडिया)।
Advertisement

महेश केजरीवाल

दिल्ली सरकार के कैबिनेट मंत्री राजकुमार आनंद का इस्तीफा संवैधानिक और सैद्धांतिक प्रक्रिया में लटक गया है। सोशल मीडिया पर भले ही वह पूर्व मंत्री हो गए लेकिन सरकारी दस्तावेज में अभी भी मंत्री हैं। 10 अप्रैल को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भेजे गए इस्तीफे पर अब तक स्वीकृति की मुहर नहीं लग पाई है। संविधान विशेषज्ञ और लोकसभा व दिल्ली विधानसभा के पूर्व सचिव एसके शर्मा का कहना है कि देश में इस तरह का यह पहला मामला है।

Advertisement

केजरीवाल सरकार पर भ्रष्टाचार सहित दलित और आरक्षण विरोधी होने का आरोप लगाने वाले कैबिनेट मंत्री राजकुमार आनंद का इस्तीफा स्वीकार नहीं हो पाया है। उनके पास समाज कल्याण विभाग सहित गुरुद्वारा चुनाव, एससी एसटी, कापरेटिव, भूमि और भवन, श्रम और रोजगार सहित कुल सात विभाग हैं। मंत्री पद से इस्तीफा स्वीकार न होने और किसी अन्य मंत्री को इसका प्रभार नहीं मिलने के कारण कल्याणकारी योजनाओं सहित मंजूरी को लेकर कई विभागों की फाइलें अटक गई है।

उन्होंने सोशल मीडिय ‘एक्स’ पर केजरीवाल सरकार को निशाने पर लेते हुए लिखा कि तीर्थ यात्रा दिल्ली की सबसे सफल योजना, बाबा साहेब आंबेडकर की तस्वीर लगाने वालों ने आज तक एक भी यात्रा क्यों नहीं भेजी बोध गया या आंबेडकर जन्मस्थल। समाज कल्याण मंत्री राजकुमार आनंद ने संवाददाता को बताया कि वह पहले भी स्वतंत्र रूप से दलितों के लिए काम करते थे और आगे भी काम जारी रहेंगे। भविष्य में किसी अन्य राजनीतिक पार्टी में शामिल होने की बात को उन्होंने सिरे से नकार दिया। उन्होंने बताया कि उपराज्यपाल से मिलकर उन्होंने अपने इस्तीफे की प्रगति रिपोर्ट की जानकारी ली थी।

मुख्यमंत्री का इस तरह जेल से सरकार चलाना गलत है। यदि कार्यवाहक मुख्यमंत्री नियुक्त होते तो कई कामों में रुकावट नहीं आती। उन्होंने आरोप लगाया कि चार साल इस पार्टी के साथ काम करने के बाद मैंने यह समझा कि यह पार्टी व सरकार दलित आरक्षण और बाबा साहेब के विचारों की विरोधी है। कैबिनेट मंत्री राजकुमार आनंद के इस्तीफे लेकर फंसे पेंच पर संविधान विशेषज्ञ और लोकसभा व दिल्ली विधानसभा के पूर्व सचिव एसके शर्मा का कहना है कि देश में इस तरह का यह पहला मामला है। जिसमें राजनीतिक शक्ति का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है।

Advertisement

किसी मुख्यमंत्री के जेल जाने पर प्रशासनिक और अन्य कार्य सुचारु रूप से चलते रहे इसके लिए कार्यवाहक मुख्यमंत्री को नियुक्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि लंबे समय तक यदि किसी राज्य में संवैधानिक तंत्र की विफलता या संविधान के स्पष्ट उल्लंघन की स्थिति बनी रहती है तो संभावना है कि दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाए।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो