scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

जब लोकसभा की कार्यवाही के बीच नमाज़ का हुआ वक़्त, रामपुर से सांसद मोहिबुल्लाह नदवी मस्जिद पहुंचे

रामपुर से सांसद बने मोहिबुल्लाह नदवी भी सोमवार के दिन सदन में मौजूद थे। वह संसद मार्ग की जामा मस्जिद के इमाम हैं।
Written by: Asad Rehman | Edited By: Mohammad Qasim
नई दिल्ली | Updated: June 25, 2024 08:05 IST
जब लोकसभा की कार्यवाही के बीच नमाज़ का हुआ वक़्त  रामपुर से सांसद मोहिबुल्लाह नदवी मस्जिद पहुंचे
मौलाना मोहीबुल्लाह नदवी सपा चीफ अखिलेश यादव के साथ (फोटो : XSamajwadi party)
Advertisement

लोकसभा का सत्र शुरू हो चुका है और सभी सांसद शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा ले रहे हैं। रामपुर से सांसद बने मौलाना मोहिबुल्लाह नदवी भी सोमवार के दिन सदन में मौजूद थे। वह संसद मार्ग की जामा मस्जिद के इमाम भी हैं।

Advertisement

सोमवार को जब घड़ी में दोपहर का 1 बजा तो मस्जिद में नमाज़ियों के बीच चर्चा शुरू हुई कि क्या आज इमाम साहब नमाज़ पढ़ाने पाएंगे? लेकिन यह चर्चा कुछ ही वक़्त बाद थम गई जब मोहिबुल्लाह नदवी (इमाम) मस्जिद की ओर आते दिखाई दिए। उन्होंने 30 नमाज़ियों को नमाज़ पढ़ाई। इससे पहले वह सदन में मौजूद थे और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव के साथ संसद पहुंचे थे।

Advertisement

रामपुर सीट से दर्ज की जीत

मोहिबुल्लाह नदवी ने रामपुर लोकसभा से बीजेपी के मौजूदा सांसद घनश्याम लोधी को 87,000 वोटों से हराकर यह सीट जीती है। रामपुर के स्वार से आने वाले नदवी लखनऊ के दारुल उलूम नदवतुल उलमा में जाने से पहले जिले के एक मदरसा में पढ़ते थे। बाद में वे दिल्ली चले गए जहां उन्होंने अरबी में स्नातक की पढ़ाई पूरी की। इसके अलावा उन्होंने जामिया मिलिया इस्लामिया से इस्लामिक स्टडीज में मास्टर डिग्री भी हासिल की है।

साल 2005 से वह संसद मार्ग की इस मस्जिद में इमामत कर रहे हैं। संसद के ठीक सामने स्थित मस्जिद में इमाम होने के कारण उन्हें नमाज के दौरान राजनेताओं और अन्य प्रमुख व्यक्तियों से मिलने का लगातार मौका मिलता था। उन्होंने याद किया और बताया कि वह यहां पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम से भी मिल चुके हैं।

वह कहते हैं,"मैं अल्लाह का शुक्र अदा करता हूं कि इस ऐतिहासिक मस्जिद में मुझे नमाज पढ़ाने का मौका मिला है। यह एक ऐतिहासिक मस्जिद है, जहां स्वतंत्रता से पहले स्वतंत्रता सेनानियों को नमाज अदा करते देखा है।"

Advertisement

कैसे सियासत में आ गए?

इस सवाल के जवाब में मोहिबुल्लाह नदवी ने बताया कि पांच बार संभल से सांसद रह चुके शफीकुर्रहमान बर्क ने जनवरी में लखनऊ में समाजवादी पार्टी के मुख्यालय में उन्हें पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिलवाया था और सुझाव दिया था कि उन्हें रामपुर से चुनाव लड़ाया जाए। अब लोकसभा सांसद मोहिबुल्लाह ने बताया कि वह अगले पांच साल में संसद में रामपुर में बेरोजगारी, स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा के मुद्दे उठाने की योजना बना रहे हैं।

Advertisement

नमाज़ पढ़ाना जारी रखेंगे?

इस सवाल के जवाब में नदवी कहते हैं, "नमाज़ में बहुत कम समय लगता है - सिर्फ़ पांच-छह मिनट। और संसद भवन और मस्जिद परिसर में मेरे आवास के बीच की दूरी मुश्किल से 50 गज है।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो