scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

क्या राहुल की सफलता के पीछे बहन प्रियंका की मेहनत? यूपी से संसद तक दिखेंगे कांग्रेस के अलग तेवर

हाल के लोकसभा चुनावों के दौरान ऐसी चर्चा थी कि प्रियंका रायबरेली से चुनाव लड़ेंगी और राहुल वायनाड के अलावा अमेठी से चुनाव लड़ेंगे। पढ़िए नीरजा चौधरी की रिपोर्ट
Written by: ईएनएस | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: June 22, 2024 23:05 IST
क्या राहुल की सफलता के पीछे बहन प्रियंका की मेहनत  यूपी से संसद तक दिखेंगे कांग्रेस के अलग तेवर
राहुल गांधी और प्रियंका गांधी
Advertisement

प्रियंका गांधी वाड्रा अब चुनावी शुरुआत करने जा रही हैं। वह केरल के वायनाड से लोकसभा उपचुनाव लड़ेंगी। यह लोकसभा सीट उनके भाई राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश में अपनी रायबरेली सीट बरकरार रखने के लिए खाली कर दिया है। इससे पता चलता है कि राहुल कांग्रेस के प्रमुख नेता होंगे और जब भी समय आएगा, पार्टी के प्रधान मंत्री पद का चेहरा होंगे। प्रियंका इसमें सहायक भूमिका निभाएंगी। राहुल के लिए हिंदी भाषी क्षेत्र (विशेषकर यूपी) में पहचान करना जरूरी था। यह यूपी ही है जिसने अब तक भारत को 8 प्रधानमंत्री दिया है और यह नेहरू-गांधी परिवार की कर्मभूमि रही है।

Advertisement

प्रियंका ने हमेशा एक सक्रिय भूमिका निभाई है और उन्हें दोनों भाई-बहनों में से राजनीतिक रूप से अधिक समझदार माना जाता है। 2004 में यह एक पारिवारिक निर्णय था कि यह राहुल (और प्रियंका नहीं) होंगे जो सक्रिय राजनीति में आएंगे और चुनाव लड़ेंगे। 20 वर्षों तक उन्होंने अपने भाई और मां (सोनिया गांधी) की ओर से अमेठी और रायबरेली दोनों सीटों की देखभाल की।

Advertisement

एक समय हाल के लोकसभा चुनावों के दौरान ऐसी चर्चा थी कि प्रियंका रायबरेली से चुनाव लड़ेंगी और राहुल वायनाड के अलावा अमेठी (जहां वह 2019 में हार गए थे) से चुनाव लड़ेंगे। करीब 25 साल पहले प्रियंका अपनी मां के साथ कर्नाटक के बेल्लारी गई थीं, जहां सोनिया ने करिश्माई सुषमा स्वराज (उनकी बेटी बांसुरी स्वराज ने हाल ही में भाजपा के टिकट पर नई दिल्ली सीट से जीत हासिल की थी) को हराया था। कर्नाटक (आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु) में कई महिलाएं तब प्रियंका को पुरानी यादों से देखती थीं क्योंकि वह उन्हें उनकी दादी 'इंदिरा अम्मा' (दिवंगत प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी) की याद दिलाती थीं। लेकिन आज अधिकांश भारतीय लोगों (जिनमें से आधे से अधिक 30 वर्ष से कम उम्र के हैं) को किताबों में पढ़ी गई बातों के अलावा इंदिरा की कोई याद नहीं है।

पिछले कुछ सालों में प्रियंका अपने वन-लाइनर्स के लिए मशहूर हो गई थीं। 1999 में जब उनके पिता राजीव गांधी के चचेरे भाई और एक समय के विश्वासपात्र अरुण नेहरू भाजपा के टिकट पर रायबरेली से चुनाव लड़ रहे थे, तो उन्होंने वहां लोगों से पूछा, "क्या आप उस व्यक्ति को वोट देने जा रहे हैं जिसने मेरे पिता को धोखा दिया?" अरुण नेहरू चुनाव हार गये। उनके पिता से उनकी अनबन हो गई थी और उन्होंने वीपी सिंह से हाथ मिला लिया था, जो 1989 में राजीव के स्थान पर प्रधानमंत्री बने थे।

Advertisement

प्रियंका अपने शब्दों में अधिक नपी-तुली लगती हैं। अगर दोनों भाई-बहन लोकसभा में एक साथ दिखेंगे तो उनके बीच तुलना होना स्वाभाविक है। यह और अधिक स्पष्ट हो सकता है यदि राहुल विपक्ष के नेता (LoP) बनने के लिए सहमत नहीं होते हैं और पार्टी का आगे से नेतृत्व न करने का निर्णय लेते हैं।

Advertisement

प्रियंका लोकसभा में राहुल की सहायता करने के लिए तैयार हैं, अगर वह वायनाड से जीतती हैं। 18वीं लोकसभा में मोदी सरकार और गांधी परिवार के नेतृत्व वाली कांग्रेस के बीच तीखे हमले देखने को मिलेंगे। अब जबकि कांग्रेस उठ रही है, तो सवाल यह उठता है कि क्या कांग्रेस कुछ अलग सोच के साथ नहीं आ सकती थी और प्रियंका को एक अलग भूमिका नहीं दे सकती थी?

यह उत्तर प्रदेश ही है जो आज कांग्रेस और प्रियंका को आकर्षित करता है। सच है 2022 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस कमेटी के महासचिव के रूप में यूपी का प्रभार दिए जाने पर उन्होंने विनाशकारी शुरुआत की। 'लड़की हूं लड़ सकती हूं' के नारे के बीच महिलाओं को 40% टिकट देने के उनके फैसले के बावजूद कांग्रेस राज्य में केवल 2 सीटें जीत सकी और उसका वोट शेयर 2% से अधिक गिर गया। पार्टी ने अपने महिला-केंद्रित मुद्दे और अभियान को समर्थन देने के लिए पर्याप्त योजना और तैयारी नहीं की थी।

हालांकि यूपी 2024 में एक अलग संकेत भेज रहा है। भले ही पिछले कुछ वर्षों में राज्य में कांग्रेस संगठन कमजोर हो गया है, लेकिन इसके पुनरुद्धार को देखने के लिए लोग उत्सुक हैं। 2017 के विपरीत 2024 में समाजवादी पार्टी के साथ इसका गठबंधन जमीन पर प्रभावी रहा और सपा प्रमुख अखिलेश यादव और राहुल गांधी ने अपनी संयुक्त बैठकों में एक केमिस्ट्री प्रदर्शित की। गैर-यादव ओबीसी और दलितों को शामिल करने के लिए एसपी के 'एमवाई' आधार को बढ़ाने का अखिलेश का प्रयोग काम कर गया। मुस्लिम-दलित-ओबीसी समीकरण (इंडिया गठबंधन के पीछे) 2027 के विधानसभा चुनावों में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के लिए एक चुनौती बनने की क्षमता रखता है। लेकिन कांग्रेस को उन सभी आशंकाओं को दूर करना होगा जो सपा की कीमत पर उसके विकास को लेकर हो सकती हैं। उसे यूपी (2027) के साथ-साथ राष्ट्रीय चुनाव (2029) के लिए सत्ता साझेदारी का फॉर्मूला लाना होगा।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो