scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

भ्रामक विज्ञापन पर पतंजलि ने सुप्रीम कोर्ट में मांगी माफी, कहा- अब आगे कभी ऐसा नहीं करेंगे

सुप्रीम कोर्ट ने चल रहे पतंजलि आयुर्वेद के गुमराह करने वाले दवा विज्ञापन मामले में अब कंपनी ने कोर्ट से अपनी गलती की माफी मांगी है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: shruti srivastava
नई दिल्ली | Updated: March 21, 2024 12:02 IST
भ्रामक विज्ञापन पर पतंजलि ने सुप्रीम कोर्ट में मांगी माफी  कहा  अब आगे कभी ऐसा नहीं करेंगे
पतंजलि ने मांगी माफी (Source- indian express)
Advertisement

भ्रामक विज्ञापन से जुड़े मामले में पतंजलि आयुर्वेद ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर बिना शर्त माफी मांग ली है. बाबा रामदेव कंपनी पतंजलि आयुर्वेद और उसके एमडी आचार्य बालकृष्ण ने भ्रामक विज्ञापनों के मामले में सुप्रीम कोर्ट से बिना शर्त माफी मांगी है। एक संक्षिप्त हलफनामे में आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि उन्हें कंपनी के अपमानजनक वाक्यों वाले विज्ञापन पर खेद है. कोर्ट को दी गई अंडरटेकिंग में कंपनी और आचार्य बालकृष्ण ने कहा है कि दोबारा यह गलती नहीं करेंगे।

पतंजलि आयुर्वेद और उसके एमडी आचार्य बालकृष्ण ने गुमराह करने वाले भ्रामक दवा विज्ञापन देने के लिए सुप्रीम कोर्ट से बिना शर्त माफी मांगी है। इस माफीनामे में विज्ञापन को फिर से प्रसारित न करने का भी वादा किया गया है। आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि कंपनी के मीडिया विभाग को सुप्रीम कोर्ट के आदेश की जानकारी नहीं थी। आचार्य ने कहा कि इसका उद्देश्य नागरिकों को पतंजलि के प्रोडक्ट का उपयोग कर स्वस्थ जीवन जीने के लिए प्रोत्साहित करना था।

Advertisement

IMA ने दाखिल की थी याचिका

अवमानना नोटिस का जवाब नहीं देने पर बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण दोनों को 2 अप्रैल 2024 को अदालत में व्यक्तिगत रूप से पेश होने का निर्देश दिया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने IMA की एक याचिका पर सुनवाई के दौरान यह आदेश दिया था। इस याचिका में बाबा रामदेव पर कोविड टीकाकरण अभियान और आधुनिक दवाओं के खिलाफ मुहिम चलाने का आरोप लगाया गया था। गौरतलब है कि पतंजलि की ओर से जारी किए गए विज्ञापनों में बीपी, शुगर, अस्थमा और कई बीमारियों को पूरी तरह से ठीक करने का दावा किया गया है।

पतंजलि आयुर्वेद और बालकृष्ण को नोटिस

इससे पहले मंगलवार को जस्टिस हिमा कोहली और जस्टिस अहसानुद्दीन अमानुल्लाह की पीठ ने पतंजलि आयुर्वेद और बालकृष्ण को जारी किए गए अदालत के नोटिसों का जवाब दाखिल नहीं देने पर कड़ी आपत्ति जताई थी। उन्हें नोटिस जारी कर पूछा गया था कि अदालत को दी गई अंडरटेकिंग का प्रथम दृष्टया उल्लंघन करने के लिए उनके खिलाफ अवमानना कार्यवाही क्यों नहीं शुरू की जाए। पीठ ने रामदेव को भी नोटिस जारी कर पूछा था कि उनके खिलाफ अवमानना कार्यवाही क्यों नहीं शुरू की जाए?

Advertisement

सुप्रीम कोर्ट ने पतंजलि आयुर्वेद को अपने उत्पादों के बारे में अदालत में दिए गए वादे और उनके औषधीय प्रभाव का दावा करने वाले बयानों के के लिए कड़ी फटकार लगाई थी। पीठ ने पतंजलि आयुर्वेद और उसके अधिकारियों को प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, दोनों में किसी भी दवा प्रणाली के खिलाफ कोई भी बयान देने से आगाह किया था।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो