scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

रामेश्वरम कैफे ब्लास्ट का क्या है पाकिस्तान कनेक्शन? किस 'कर्नल' की है जांच एजेंसियों को तलाश

पुलिस सूत्रों ने कहा था कि कैफे में टाइमर का उपयोग करके आईईडी बम धमाका किया गया था।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: April 22, 2024 12:00 IST
रामेश्वरम कैफे ब्लास्ट का क्या है पाकिस्तान कनेक्शन  किस  कर्नल  की है जांच एजेंसियों को तलाश
कर्नाटक के बेंगलुरु के एक कैफे में ब्लास्ट हुआ था। (Source: Instagram/ therameshwaramcafe)
Advertisement

मार्च महीने में कर्नाटक के बेंगलुरु के एक कैफे में ब्लास्ट हुआ था। रामेश्वरम कैफे में यह विस्फोट हुआ था और इस मामले में जांच एजेंसियों ने दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया था। वहीं अब जांच एजेंसियां एक कर्नल नाम के शख्स की तलाश कर रही हैं। ये ऑनलाइन हैंडलर है। बताया जा रहा है कि इसका कनेक्शन पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से हो सकता है।

'कर्नल' 2019-20 से ही था मुसाफिर हुसैन के संपर्क में

जांच अधिकारियों को संदेह है कि इस ब्लास्ट के मास्टरमाइंड अब्दुल ताहा और हमलावर मुसाफिर हुसैन के संपर्क में 'कर्नल' 2019-20 से ही था। आईएसआई के रोल को इस ब्लास्ट के साथ अभी तक जांच एजेंसियों ने जोड़ा तो नहीं है लेकिन इनकार भी नहीं कर रही है। जांच एजेंसियों का मानना है कि इस्लामिक स्टेट के छोटे मॉड्यूल को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी पुनर्जीवित करने का प्रयास कर रही है। इस एंगल पर भी जांच चल रही है।

Advertisement

कर्नाटक के बेंगलुरु के रामेश्‍वरम कैफे में 1 मार्च 2024 को बलास्‍ट हुए थे। इसकी साज‍िश मुजाम्मिल शरीफ ने रची थी। इस पूरे प्लान का बलास्‍ट का मास्‍टरमाइंड शरीफ अब एनआईए के कब्‍जे में है। इस ब्लास्ट में 9 लोग घायल हुए थे।

टाइमर का उपयोग कर किया गया था आईईडी बम धमाका

पुलिस सूत्रों ने कहा था कि कैफे में टाइमर का उपयोग करके आईईडी बम धमाका किया गया था। हालांकि धमाके के बाद महाशिवरात्रि के दिन कैफे को बड़ी धूमधाम से फिर से खोला गया था। एनआईए ने 300 से अधिक कैमरों के सीसीटीवी फुटेज की समीक्षा करने के बाद पाया था कि हिरासत में लिए गए लोग आईएसआईएस सदस्य थे, जो 2020 से ही सुरक्षा एजेंसियों के रडार पर थे।

Advertisement

NIA ने बयान जारी कर कहा था, "मुसाविर हुसैन शाजिब वह आरोपी है जिसने कैफे में आईईडी रखा था। अब्दुल ताहा विस्फोट की योजना बनाने उसे अंजाम देने और उसके बाद कानून के चंगुल से भागने का मास्टरमाइंड है।" बता दें कि आतंकवादी कई फर्जी नामों के साथ छिपे हुए थे और उनके पास कई फर्जी आधार कार्ड मिले है। वे न्यू दीघा में पर्यटक रिसॉर्ट के लिए बस से जाने से पहले कोलकाता के एक होटल में रुके थे।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो