scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'भ्रष्ट जजों की दोस्ती ऊपर बैठे बड़े लोगों से थी, इसके चलते मेरा ट्रांसफर मद्रास हाईकोर्ट से मेघालय कर दिया गया', पूर्व चीफ जस्टिस संजीब बनर्जी ने बताई वजह

मद्रास हाईकोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस संजीब बनर्जी ने विधानसभा चुनाव के दौरान रैलियों में कोविड के मानदंडों का दुरुपयोग होने और उसे रोक पाने में चुनाव आयोग की विफलता पर कड़ा कमेंट किया था। कोर्ट ने यह भी कहा था कि 'चुनाव आयोग पर हत्या का आरोप लगाया जाना चाहिए।'
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: March 16, 2024 12:40 IST
 भ्रष्ट जजों की दोस्ती ऊपर बैठे बड़े लोगों से थी  इसके चलते मेरा ट्रांसफर मद्रास हाईकोर्ट से मेघालय कर दिया गया   पूर्व चीफ जस्टिस संजीब बनर्जी ने बताई वजह
पूर्व चीफ जस्टिस संजीब बनर्जी ने कहा कि उन्हें किसी बात को लेकर कोई खेद नहीं है। (Photo source: www.calcuttahighcourt.gov.in)
Advertisement

मद्रास और मेघालय हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस संजीब बनर्जी (Justice Sanjib Banerjee) का कहना है कि बहुत से लोगों को रिटायर होने के बाद नये माहौल में खुद को बदलने में कठिनाइयां होती हैं, क्योंकि वे सभी चीजें और सुविधाएं खत्म हो जाती हैं, जो पद पर रहने के दौरान मिलती थीं। एक चीफ जस्टिस के रूप में आप हवाई अड्डे पर बिना तलाशी के गुजरते हैं। आपका सामान चेक नहीं किया जाता। एक बार जब आप पद छोड़ देते हैं, तो आप एक सामान्य नागरिक बन जाते हैं।

जस्टिस बनर्जी बोले- चुनाव आयोग पर कमेंट से नहीं हुआ था ट्रांसफर

बार एंड बेंच को दिए एक इंटरव्यू में जस्टिस संजीब बनर्जी से जब यह सवाल पूछा गया कि क्या चुनाव आयोग पर आपके कमेंट की वजह से आपका ट्रांसफर मद्रास हाईकोर्ट से मेघालय हाईकोर्ट किया गया था, तो उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है। जस्टिस संजीब बनर्जी ने कहा उसकी वजह ज्यादा गहरी और गंभीर थी। जो संस्था को भी नुकसान पहुंचा रही है।

Advertisement

पूर्व चीफ जस्टिस बोले- CJI को सबूतों के साथ दी थी पूरी जानकारी

उन्होंने कहा, "मुझे भ्रष्ट जज मिले। इनके बारे में मैंने भारत के चीफ जस्टिस को सबूतों के साथ बताया। दुर्भाग्य से उन भ्रष्ट जजों की दोस्ती ऊपर बैठे बड़े लोगों से थी। इसके चलते मेरा ट्रांसफर मद्रास हाईकोर्ट से मेघालय हाईकोर्ट कर दिया गया। यही असली वजह थी।"

हालांकि मद्रास हाईकोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस संजीब बनर्जी ने विधानसभा चुनाव के दौरान रैलियों में कोविड के मानदंडों का दुरुपयोग होने और उसे रोक पाने में चुनाव आयोग की विफलता पर कड़ा कमेंट किया था। उन्होंने कहा था, "आप एकमात्र संस्था हैं जो आज की स्थिति के लिए जिम्मेदार हैं…कोर्ट के आदेश के बावजूद रैलियां निकालने वाले राजनीतिक दलों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।" कोर्ट ने यह भी कहा था कि "चुनाव आयोग पर हत्या का आरोप लगाया जाना चाहिए।"

Advertisement

उन्होंने कहा कि साफ तौर पर और ज्यादा बोलने वाला जज हमेशा अच्छा होता है। मुखर होना या न बोलना अलग बात है। एक बोलने वाला जज हमेशा अच्छा होता है क्योंकि जब वकील को पता चल जाता है कि जज किस तरह से सोच रहा है, तो वह मामले को बेहतर ढंग से देख सकता है। जजों को राजनीतिक कमेंट नहीं करने चाहिए।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो