scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Manipur: चार पुलिसकर्मी किडनैप? पुलिस ने कट्टरपंथी मैथई ग्रुप से जुड़े दो लोगों को किया गिरफ्तार

Manipur News Today: चार पुलिसकर्मियों की किडनैपिंग मामले में मणिपुर पुलिस ने एक कट्टरपंथी समूह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है।
Written by: सुकृता बरुआ | Edited By: Yashveer Singh
नई दिल्ली | Updated: May 13, 2024 13:47 IST
manipur  चार पुलिसकर्मी किडनैप  पुलिस ने कट्टरपंथी मैथई ग्रुप से जुड़े दो लोगों को किया गिरफ्तार
मणिपुर अभी तक अशांत है (X/manipur_police)
Advertisement

मणिपुर पुलिस ने अपने चार कर्मचारियों की कथित किडनैपिंग और मारपीट से जुड़े मामले में रविवार को कट्टरपंथी मैथई ग्रुप अरामबाई तेंगगोल के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया। इन दोनों को इंफाल ईस्ट में कांगपोकपी जिले से गिरफ्तार किया गया है।

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, यह इस साल दूसरा मामला है जब अरामबाई तेंगगोल ग्रुप के सदस्य पुलिकर्मियों की किडनैपिंग और उनपर हमले में लिप्त पाए गए हैं।

Advertisement

सोमवार सुबह मणिपुर पुलिस ने एक बयान जारी कर बताया कि उनके कर्मचारियों की किडनैपिंग और हमले से जुड़े मामले में जिन दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है, उनके नाम ताइबंगनबा सनौजम (25 वर्ष) और मोइरांगथेम बोबो (40 वर्ष) के रूप में हुई है।

पुलिस ने बताया कि इस घटना में शामिल रहे अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है। जिन चार लोगों को गिरफ्तार किया गया, वो विलेज डिफेंस फोर्स के कर्मचारी हैं। इनके नाम राम बहादुर खड़की, रमेश बुधाथोकी, मनोज खातीवोडा, और मोहम्मद ताज खान है।

कट्टरपंथी मैथई ग्रुप अरामबाई तेंगगोल ने इन चारों को शनिवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे इंफाल ईस्ट में रोका गया और वहीं से अगवा किया गया। पुलिस ने बताया कि चारों पुलिसकर्मी उसी दिन दोपहर करीब साढ़े तीन बजे कांगपोकपी पुलिस स्टेशन लौट आए।

Advertisement

तीन पुलिसकर्मी नेपाली, एक मुस्लिम

आपको बता दें कि मणिपुर में जारी हिंसा के वजह से वहां के समुदायों में एक-दूसरे पर विश्वास लगभग समाप्त नजर आता है। संघर्ष की वजह से न सिर्फ आम लोग बल्कि कांगपोकपी जिले के कुकी-ज़ोमी पुलिस कर्मी - जहां वे बहुसंख्यक हैं - अब राज्य के मैतेई बहुसंख्यक क्षेत्रों में काम नहीं करते हैं। इसी तरह से मैतेई पुलिस कर्मी कुकी-ज़ोमी बहुल क्षेत्रों में भी नहीं जाते हैं।

कांगपोकपी जिले के एक पुलिस अधिकारी दी गई जानकारी के अनुसार, जिन चार पुलिसकर्मियों की किडनैपिंग हुई, उन्हें शनिवार सुबह इंफाल में पुलिस मुख्यालय में कमांडो कॉम्प्लेक्स से कुछ सामान लाने का काम दिया गया था। पुलिस अधिकारी ने बताया कि ये चारों पुलिसकर्मी संघर्ष में शामिल किसी भी समुदाय से नहीं थे। इनमें से तीन नेपाली समुदाय से हैं और एक मुस्लिम है।

30 हथियारबंद लोगों ने किया किडनैप

पुलिस अधिकारी ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि उनके हमारे पास पहुंचने से पहले कमांडो कॉम्पलेक्स में मौजूद पुलिसकर्मियों ने उन्हें चेताया कि कुछ शरारती तत्व बाहर उनका इंतजार कर रहे हैं। जब उन्होंने आगे के निर्देश मांगे तो उन्हें सामान इकट्ठा किए बिना कांगपोकपी लौटने के लिए कहा गया। वे वहां से चले गए लेकिन उन्हें इंफाल ईस्ट के कोरिनेगी में करीब तीस हथियारबंद लोगों ने रोका। उनकी आंखों पर पट्टी बांध कर उन्हें अज्ञात स्थान पर ले जाकर मारपीट की गई। उन्हें बाद में मोबाइल औऱ कुछ कैश लूटने के बाद छोड़ दिया गया।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो