scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Maharashtra Vidhan Sabha Chunav: कौन होगा विधानसभा चुनाव के लिए NCP का रणनीतिकार, अजित पवार ने तय किया ये बड़ा नाम

Maharashtra Vidhan Sabha Chunav 2024: लोकसभा चुनाव 2024 में NCP का प्रदर्शन बेहद खराब रहा था, जिसके चलते पार्टी ने विधानसभा चुनाव को लेकर पहले ही तैयारी करनी शुरू कर दी है।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | Updated: July 09, 2024 10:16 IST
maharashtra vidhan sabha chunav  कौन होगा विधानसभा चुनाव के लिए ncp का रणनीतिकार  अजित पवार ने तय किया ये बड़ा नाम
Advertisement

Maharashtra Vidhan Sabha Chunav 2024: लोकसभा चुनाव 2024 (Lok Sabha Chunav 2024) में बीजेपी की लीडरशिप वाले एनडीए गठबंधन का प्रदर्शन महाराष्ट्र में काफी खराब रहा था। इसमें सबसे आलोचना पिछले साल ही एनडीए में शामिल हुई एनसीपी की हो रही है, और राज्य के डिप्टी सीएम अजित पवार को निशाने पर लिया जा रहा है। ऐसे में अगले कुछ महीनों के अंदर होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर एनसीपी प्रो एक्टिव मोड में नजर आ रही है और पार्टी ने अपने चुनावी रणनीतिकार का नाम भी तय कर दिया है। खबरें हैं कि एनसीपी ने नरेश अरोरा को विधानसभा चुनाव के लिए रणनीति बनाने का जिम्मा दिया है।

Advertisement

जानकारी के मुताबिक, सोमवार को एनसीपी ने चुनावी रणनीतियां बनाने के लिए रणनीतिकार नरेश अरोरा से हाथ मिला लिया है। इस मौके पर डिप्टी सीएम अजित पवार ने राज्यसभा सांसद प्रफुल्ल पटेल और सुनीत तटकरे की मौजूदगी में पार्टी वर्कर्स को संबोधित किया था। बता दें कि अरोरा डिजाइन बॉक्स्ड कैंपेन चलाते हैं और वे राजस्थान समेत कर्नाटक विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस के लिए भी काम कर चुके हैं।

Advertisement

90 डेज के बनाया प्लान

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार नरेश अरोरा ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को लेकर एनसीपी की ब्रांडिंग और प्रचार पर चर्चा की थी। सूत्र बताते हैं कि एनसीपी ने वोटर्स तक पहुंचने के लिए 90 डेज प्लान बनाया है, जिसके तहत वित्त मंत्री अजित पवार की तरफ से लॉन्च की गई पॉपुलर योजनाओं का जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं द्वारा प्रचार किया जाएगा।

चाचा भतीजे में हुई थी तकरार

गौरतलब है कि पिछले साल एनसीपी में दो फाड़ हो गई थी, और डिप्टी सीएम अजित पवार ने चाचा शरद पवार के साथ बगावत करते हुए एनडीए से हाथ मिला लिया था। वहीं चुनाव आयोग के फैसले में पार्टी का चुनाव निशान और अधिकार अजित पवार को ही मिले थे। ऐसे में चाचा शरद पवार ने एनसीपी(शरद पवार) नाम का अलग एक गुट बना लिया था।

Advertisement

हालांकि अजित पवार ने एनसीपी पर अपना कब्जा हासिल कर लिया था लेकिन अजित पवार को लोकसभा चुनाव में बड़ा झटका लगा था, क्योंकि एनडीए में रहते हुए एनसीपी ने महज एक ही सीट जीती थी, जबकि उनके चाचा शरद पवार के गुट वाली एनसीपी ने लोकसभा में दस सीटें जीतकर अपनी ताकत दिखाई है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो